आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

दुष्प्रभाव

दुष्प्रभाव, कैंसर के इलाजों के परिणामस्वरूप होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं। स्थानीय इलाज जैसे रेडिएशन थेरेपी अक्सर शरीर के इलाज किए गए हिस्से को प्रभावित करते हैं। वे दवाइयां जिनका पूरे शरीर में संचारण होता है, जैसे कीमोथेरेपी, उनके दुष्प्रभाव भी अधिक व्यापक होते हैं। चिकित्सक इस तरह से इलाज योजना बनाते हैं जिनसे जितना हो सके कम से कम दुष्प्रभाव हों और साथ ही कैंसर पर ज़्यादा से ज़्यादा असर पड़े।

अपनी माँ को गले लगाता हुआ बचपन में होने वाले कैंसर से पीड़ित रोगी

दुष्प्रभावों की पूर्व-सूचना देना कठिन होता है। कुछ रोगियों में हल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जबकि अन्य रोगियों को गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। एक ही रोगी पर इलाज के एक से दूसरे कोर्स तक अलग-अलग दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

कैंसर इलाज के अधिकांश दुष्प्रभाव थेरेपी के समाप्त होने के बाद कम हो जाते हैं। लेकिन दुष्प्रभावों के साथ जीना, शारीरिक और भावनात्मक दोनों रूप से ही मुश्किल होता है। ऐसे में चिकित्सीय टीम दुष्प्रभावों के लिए रोगियों को तैयार करने और दुष्प्रभाव उत्पन्न होने पर उन्हें सहन करने में मदद कर सकती है।

बचपन में होने वाले कैंसर के इलाजों से संबंधित अन्य सामान्य दुष्प्रभाव

कुछ दुष्प्रभाव अधिक आम होते हैं। इन समस्याओं का सामना करना प्रायः एक प्रक्रिया होती है और यह परिवार के लोगों को पता लगाना होगा कि उनके लिए क्या है जो सबसे अच्छे तरीके से काम करेगा। हालांकि, इसके लिए कुछ रणनीतियां हैं जिनसे आपको मदद मिल सकती है।

भूख न लगना

कैंसर इलाज के दौरान बहुत से बच्चों की भूख कम हो जाती है। कुछ दवाइयां भोजन के स्वाद या गंध को भी बदल सकती हैं। अच्छा आहार पोषण और स्वस्थ वजन बनाए रखना कैंसर से लड़ने के लिए ज़रूरी है।

पोषण का प्रबंधन करने के लिए:

  • जब भी संभव हो स्वस्थ आहार चुनें।
  • आहार और जलपान कम मात्रा में और थोड़ी-थोड़ी देर में खाएं।
  • खूब पानी पीएं।
  • नियमित रूप से कसरत करें।
  • यह देखने के लिए कि कौन सी योजना सबसे अच्छे तरीके से कार्य करती है, विभिन्न खाद्य सामग्रियों या आहार/नाश्ते की योजनाओं को आज़माएं।
  • भूख, खाद्य सामग्रियों और शारीरिक गतिविधि पर नज़र रखने के लिए उनका लेखा-जोखा रखें।

दुष्प्रभावों का सामना करना

दुष्प्रभावों से निपटना बहुत कठिन हो सकता है। रोगी और परिवार अक्सर शारीरिक और भावनात्मक रूप से परेशान रहते हैं। कुछ दुष्प्रभावों पर चर्चा करना मुश्किल हो सकता है। इसमें हताश, उदास, क्रोधित, व्याकुल या संकोची अनुभव करना सामान्य बात है। लेकिन, हर इलाज और अनुभव अलग-अलग होने के कारण, यह ज़रूरी है कि देखभाल टीम इन लक्षणों के बारे में जानकारी रखें।

बहुत सी समस्याओं जैसे दर्द, जी मिचलाना, कब्ज और दस्त के इलाज के लिए दवाइयां उपलब्ध हैं। बहुत से रोगियों को प्रशामक देखभाल या दर्द विशेषज्ञों के परामर्श से लाभ होता है जो दुष्प्रभावों का प्रबंधन करने और आराम पहुंचाने के लिए प्राथमिक चिकित्सीय टीम के साथ कार्य करते हैं।

रोगी और माता-पिता, लक्षणों को बेहतर और बदतर बनाने वाली चीज़ों का और दिन गुज़ारने में उनकी मदद करने वाले तरीकों का भी पता लगाते हैं। जितना संभव हो, निम्नलिखित करने का प्रयास करें:

  • पौष्टिक भोजन खाएं
  • कुछ शारीरिक गतिविधि करें
  • सोने की एक अच्छी दिनचर्या बनाए रखें

माता-पिता और बड़े बच्चे, दुष्प्रभावों का रिकॉर्ड रखने पर विचार कर सकते हैं। निम्नलिखित पर नज़र रखने के लिए किसी जर्नल या मोबाइल ऐप का उपयोग किया जा सकता है:

  • लक्षण और उनकी गंभीरता
  • उनके होने का समय
  • क्या चीज़ मदद कर सकती है?

दवाओं के अतिरिक्त, बहुत से रोगियों को सामना करने की रणनीतियों का उपयोग करके मदद मिलती है जैसे:

  • विश्राम
  • गहरी सांस लेना
  • मालिश
  • बायोफ़ीडबैक
  • खेल संबंधी थेरेपी
  • संगीत और कला संबंधी थेरेपी

अन्य बच्चों और परिवारों से बात करने से आपको दुष्प्रभावों को प्रबंधित करने के लिए अतिरिक्त सुझाव और सहायता मिल सकती है। इससे यह जानने में मदद मिल सकती है कि दूसरे लोग भी इसी परिस्थिति—से गुज़र रहे हैं—या गुज़र चुके हैं। हालांकि, इसमें समस्या को हल करने और योजना बनाने की आवश्यकता हो सकती है, किंतु इससे दुष्प्रभावों पर बेहतर नियंत्रण रखना संभव होता है।


समीक्षा की गई: जून 2018