आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बच्चे के अनुकूल परिभाषाएँ

9 और उससे अधिक आयु वालों के लिए उपयुक्त

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) — नींद की दवा ताकि आप प्रक्रिया या सर्जरी के दौरान कुछ भी ना देखेंगे, ना सुनेंगे और ना महसूस करेंगे।

बायोप्सी (टुकड़ा निकालना) — जब ऊतक का एक छोटा टुकड़ा शरीर से बाहर निकाला जाता है और एक माइक्रोस्कोप में रखकर देखा जाता है कि क्या कोई कैंसर कोशिका या अन्य रोग कोशिकाएं हैं या नहीं।

रक्त कोशिकाओं की संख्या — एक  प्रयोगशाला अध्ययन सफेद रक्त कोशिकाओं, लाल रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स की मात्रा बताता है।

खून लेना — नर्स या चिकित्सक शिरा (नस) से कुछ खून निकालने के लिए एक सुई का उपयोग करेंगे।

खून देना — यह ज़रूरत पड़ने पर आपके शरीर को अधिक रक्त देने का एक तरीका है।

बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) — हड्डियों के बीच में कुछ गुलाबी और स्पंज जैसा पदार्थ। यह वही जगह है जहाँ कई कोशिकाएँ बनती हैं जिनमें रक्त कोशिकाएँ और शिशु रक्त कोशिकाएँ  (जिन्हें स्टेम सेल कहा जाता है) होती हैं।

बोन मैरो ट्रांसप्लांट — एक बोन मैरो ट्रांसप्लांट (इसे स्टेम सेल ट्रांसप्लांट भी कहा जाता है) कई गंभीर बीमारियों के इलाज की योजना का हिस्सा होता है। बोन मैरो ट्रांसप्लांट में स्वस्थ बच्चे का खून (इसे स्टेम सेल कहा जाता है) को एक  व्यक्ति के बोन मैरो या  रक्तप्रवाह से लिया जाता है और उस व्यक्ति को दिया जाता है जिसे इलाज की ज़रूरत होती है। कभी-कभी आपके खुद के शरीर से स्वस्थ स्टेम सेल का  उपयोग ट्रांसप्लांट (प्रत्यारोपण) के लिए किया जा सकता है। अन्य समय स्टेम सेल किसी मेल खाने वाले  दाता से लिया जाता हैं। कोशिकाएं  दाता के रक्तप्रवाह या बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) से आ सकती हैं। यदि बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) से स्टेम कोशिकाएं चाहिए तो  दाता सर्जरी के लिए जाता है जहां पर लंबी सुई से बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) को निकाला जाता है। स्वस्थ स्टेम सेल को बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) से अलग किया जाता है और उस मरीज को दिया जाता है जिन्हें इसकी आवश्यकता होती है।

कैंसर — शरीर में  अस्वस्थ कोशिकाओं के बढ़ने की बीमारी। कैंसर तब होता है जब अस्वस्थ कोशिकाएं जल्दी जल्दी विभाजित होने लगती हैं। जहां भी कैंसर कोशिकाएं होती हैं वहां वे शरीर के उस हिस्से के लिए उस तरह से काम करना मुश्किल बना सकती हैं जिस तरह से उसकी ज़रूरत होती है। स्वयं के नाम और ख़ास तरह की दवाई या इलाज के मुताबिक कई अलग-अलग प्रकार के कैंसर होते हैं। कैंसर शरीर के किस हिस्से में होते हैं, वे कैसे दिखते हैं और जिस तरह से वे बढ़ते हैं, उसके अनुसार कैंसर के कारण अलग-अलग होते हैं।

नली — एक छोटी, पतली  और लचीली नली जिसके माध्यम से शरीर में तरल पदार्थ डाला जाता है या शरीर से बाहर निकाला जाता है।

कोशिकाएं शरीर का सबसे छोटा हिस्सा और इसे केवल माइक्रोस्कोप की मदद से देखा जा सकता है। कोशिकाएं बिल्डिंग की ईंट की तरह काम करती हैं जो शरीर के सभी हिस्सों को बनाने के लिए एक-दूसरे से जुड़ी होती हैं। मानव शरीर लाखों कोशिकाओं से बना हुआ है।

रीढ़ की हड्डी में पानी — मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के आसपास का द्रव्य पदार्थ। इसे संक्षेप में सीएसएफ कहा जा सकता है। यह द्रव्य पदार्थ मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को एक तकिये या ढाल की तरह सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है। इस द्रव्य पदार्थ में विकसित होने वाले पोषक तत्व (जैसे विटामिन) शरीर के कुछ हिस्सों को मजबूत रखने में सहायता करते हैं। अस्पताल में चिकित्सीय टीम से कोई माइक्रोस्कोप में सीएसएफ की थोड़ी मात्रा देख सकता है और यह महत्वपूर्ण जानकारी  जान सकता  है कि किसी का शरीर कैसे काम कर रहा है और दवाई काम कर रही है या नहीं।

कीमोथेरेपी — इसे कभी-कभी कीमो कहा जाता है। यह कैंसर की कोशिकाओं से छुटकारा दिलाने और उन्हें शरीर में बढ़ने से रोकने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रभावशाली दवाई है। विभिन्न नामों  की कई अलग-अलग प्रकार की कीमोथेरेपी होती हैं। कुछ कीमोथेरेपी गोली के रूप में बनाई जा सकती है और अन्य द्रव्य होती हैं।

कल्चर — आपके शरीर में रोगाणुओं की जाँच के लिए एक प्रकार की जाँच। चिकित्सक या नर्स कल्चर लेने के लिए आपका थोड़ा खून ले सकते हैं। उन्हें आपके नीचे, नाक या गले को छूने या पोंछने के लिए रूई के फाहे का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।

रोग की पहचान करना  — बीमारी का नाम। चिकित्सक यह पता लगाने के लिए कई जांच कर सकते हैं कि मरीज किन किन वजहों से बीमार पड़ता है। एक बार जब चिकित्सीय टीम यह तय कर लेती है कि मरीज के शरीर के अंदर क्या अस्वस्थ है, तो वे मरीज को उसकी बीमारी का नाम बता सकते हैं। नाम या रोग की पहचान करने से चिकित्सीय टीम को पता चलता है कि कौन सी दवाइओं की ज़रूरत है।

नली के द्वारा निकालना (ड्रेन) — एक छोटी ट्यूब होती है जो आपके शरीर के सर्जरी वाले हिस्से से द्रव्य पदार्थ को बाहर निकालती है। द्रव्य पदार्थ सर्जरी क्षेत्र में इकट्ठा होता है और उसे वहां नहीं होना चाहिए। यह पानी की तरह दिख सकता है लेकिन इसमें खून भी हो सकता है।

पट्टी बदलना —  आपकी सेंट्रल लाइन, पीआईसीसी लाइनों या पोर्ट पर एक नई पट्टी लगाना।

डाई/ कंट्रास्ट — जब आपका स्कैन होता है तो यह दवाई चिकित्सक को आपके शरीर के अंदरूनी हिस्से को बेहतर तरीके से देखने में मदद करती हैं।

फोली — एक छोटी ट्यूब होती है जो मूत्र को शरीर से बाहर निकालती है। आपके शरीर में जहां से मूत्र निकलता है  यह ट्यूब वहां पर लगती है।

IV — एक छोटी ट्यूब होती है जिसे सुई का उपयोग करके शिरा (नस) में डाला जाता है। यह शरीर को दवा देने का एक ज़रिया है।

लाइन या सेंट्रल लाइन — एक ट्यूब जो हृदय के पास बड़ी नस में जाती है और छाती के बीच में शरीर से बाहर निकलती है।

लंबर पंक्चर — चिकित्सकों और नर्स प्रैक्टिशनर आपकी रीढ़ की हड्डी से कुछ सीएसएफ निकालने के लिए एक छोटी सुई का उपयोग करते हैं। सीएसएफ एक प्रकार का द्रव्य पदार्थ है जो सभी लोगों के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के आसपास होता है।

लसिका ग्रंथि — शरीर के कुछ हिस्से जो छोटे मटर के एक समूह की तरह दिखते हैं और रोगाणुओं को पकड़ने और उनसे छुटकारा दिलाने में मदद करने के लिए एक छलनी की तरह काम करते हैं। लसिका ग्रंथि संक्रमण से लड़ने में मदद करने के लिए शरीर के बीमार हिस्सों में सफेद रक्त कोशिकाओं को संग्रहित और स्थानांतरित करती हैं। लसिका ग्रंथियां शरीर के अंदर विभिन्न स्थानों पर पाई जाती हैं। दो जगहों पर आप इसे ध्यान से देख सकते हैं -  आपकी  गर्दन पर और बगल के अंदर।

दवाई — बीमारी के इलाज या रोकथाम के लिए उपयोग की जाने वाली कोई चीज़। आमतौर पर इसे गोलियों के रूप में खाया जाता है या फिर शिरा (नस) में  द्रव्य पदार्थ के रूप में दिया जाता है।

अंग — ऊतकों का एक समूह जो शरीर का हिस्सा जो उसके निश्चित काम के लिए बना  हैं। अंगों के कुछ उदाहरण पेट, हृदय और मस्तिष्क हैं।

पीआईसीसी लाइन — एक लंबी ट्यूब होती है जिसे छोटी शिरा (नस) में रखा जाता है और वहां से वह एक बड़ी शिरा (नस) में जाती है। पीआईसीसी लाइन चिकित्सकों और नर्सों को दवा देने और रक्त पाने का एक तरीका है।

प्लेटलेट्स — कोशिकाएं जो रक्तस्राव को रोकने में शरीर की मदद करती हैं जैसे शरीर के अंदर एक पट्टी। जब किसी के शरीर कहीं कट जाता है या चोट लग जाती है तो प्लेटलेट्स का काम एकसाथ आकर रक्तस्राव को रोकना होता है।

पोर्ट-ए-कैथ (पोर्ट) — आपके शरीर को दवा देने या रक्त पाने का एक तरीका। यह गोल आकार का होता है जिसके बीच में रबर लगी होती है और इसे त्वचा के नीचे लगाया जाता है। पोर्ट का उपयोग करने के लिए नर्स त्वचा के भीतर से रबर सेंटर में एक सुई लगाती है।

रेडिएशन थेरेपी — इलाज का एक प्रकार है जो शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद करने के लिए अदृश्य किरणों का उपयोग करता है। व्यक्ति रेडिएशन को देख या महसूस नहीं कर सकता है।

लाल रक्त कोशिकाएं — रक्त का वह भाग है जो पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाता है और शरीर को ऊर्जा देता है।

स्कैन — शरीर के अंदर का चित्र लेता है। मशीन आपको स्पर्श नहीं करेगी।

टीका या इंजेक्शन — सुई का उपयोग करके दवाई देने का एक और तरीका।

स्टेरॉयड — एक प्रकार की दवाई है जो कैंसर कोशिकाओं से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। इनसे बीमारियों या उनके इलाज से होने वाला जी मिचलना, उल्टी, एलर्जी और सिर दर्द में आराम मिल सकता है।

सर्जरी — चिकित्सक शरीर के अंदर अस्वस्थ पड़ी चीज़ को बाहर निकालने या ठीक करने के लिए छेद बनाते हैं। सर्जरी के दौरान ज्यादातर बच्चे एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के कारण सोते हैं ताकि वे इसे महसूस न कर पाएं। जब सर्जरी समाप्त हो जाती है, तो छेद बंद कर दिया जाता है, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) बंद कर दी जाती है और मरीज होश में आ जाता है।

ऊतक — शरीर में कोशिकाओं का एक समूह है जो एक ही काम करने के लिए संगठित और समूहित होता है। ऊतक बनाने वाली चीजों के उदाहरण हैं: हमारी त्वचा की बाहरी परत, मांसपेशियां और वह चीज़ें जो शरीर के हिस्सों  जैसे हड्डियों या उपास्थि को जुड़ने में मदद करती हैं।

इलाज — कैंसर को खत्म करने के लिए चिकित्सक द्वारा किए जाने वाले सभी प्रयास। इलाज योजना में उन सभी दवाओं, अपॉइंटमेंट, जाँचों और प्रक्रियाओं को शामिल किया जा सकता है जो प्रत्येक मरीज के लिए चुनी जाती हैं। विभिन्न प्रकार के कैंसर के लिए विभिन्न प्रकार के इलाज होते हैं।

ट्यूमर — बीमार कोशिकाओं का एक समूह जो शरीर में बढ़ता है और एक साथ चिपक कर गांठ बन जाता है। ट्यूमर कई प्रकार के होते हैं। कुछ ट्यूमर एक प्रकार के कैंसर होते हैं वहीं दूसरी ओर कुछ नहीं भी होते हैं। आप कुछ ट्यूमर को देख सकते हैं। अन्य ट्यूमर शरीर के अंदर गहराई में होते हैं और आप उन्हें नहीं देख सकते हैं। हर प्रकार के ट्यूमर का एक अलग नाम होता है। ट्यूमर शरीर के किस हिस्से में है, वे कैसे दिखते हैं, जिस तरह से वे बढ़ते हैं और उन्हें किस प्रकार की दवाई या इलाज की ज़रूरत होती है, उसके अनुसार ट्यूमर अलग-अलग होते हैं।

सफेद रक्त कोशिकाएं — रक्त का वह हिस्सा है जो संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं। ये कोशिकाएं लोगों को रोगाणुओं से और बीमार पड़ने से बचाने की कोशिश के लिए कड़ी मेहनत करती हैं। कई प्रकार की सफेद रक्त कोशिकाएं होती हैं और जो शरीर को रोग से ठीक करने में मदद करती हैं।


समीक्षा की गई: जून 2018