आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव

बचपन में होने वाले कैंसर के कुछ इलाज लंबे समय तक रहने वाली ज्ञान-संबंधी प्रक्रियाओं से जुड़ी परेशानियां उभरने का खतरा बढ़ाते हैं। इन परेशानियों को ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव के नाम से जाना जाता है। ऐसा हो सकता है कि इलाज के बाद महीनों या सालों बाद कहीं जाकर ये परेशानियां साफ़ तौर पर नज़र आएं और समय के साथ इनमें बदलाव भी आता जाए।

ब्रेन ट्यूमर या एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया (एएलएल) का इलाज करवाने वाले बच्चों में यह परेशानी उभरने की संभावना ज़्यादा होती है और इसकी वजह इन कैंसर के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाली थेरेपी होती हैं। हालांकि, दूसरे तरह के कैंसर के बचने वाले लोगों में भी ज्ञान-संबंधी परेशानियां देखी गई हैं।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले लोग मनोवैज्ञानिक से न्यूरोसाइकोलॉजिकल असेसमेंट यानि अपने सोचने-समझने और काम करने की क्षमता की जांच करवा सकते हैं। वह मेज पर झुका हुआ है और एक डॉवेल पर लकड़ी के ब्लॉक को संतुलित करने की कोशिश कर रहा है।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले लोग मनोवैज्ञानिक से न्यूरोसाइकोलॉजिकल असेसमेंट यानि अपने सोचने-समझने और काम करने की क्षमता की जांच करवा सकते हैं।

ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी आने पर जीवन शैली से जुड़े रोज़मर्रा के छोटे-बड़े कामों को करने में परेशानी आ सकती है। ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव की परेशानी से जूझ रहे बच्चों में स्कूली पढ़ाई के दौरान परेशानी आने और पढ़ाई-लिखाई में कमज़ोर रहने की संभावना कहीं ज़्यादा होती है। उन्हें नौकरी करने, आत्म-निर्भर होकर जीवन जीने और सामाजिक संबंध बनाने में भी कहीं ज़्यादा परेशानी आ सकती है।

ज्ञान-संबंधी काम में आने वाली परेशानी से जुड़े जोखिमों को समझना, रोगी के परिवार वालों को योजना बनाने में मदद कर सकता है ताकि वे परेशानी का नियमित मूल्यांकन कर सकें। जो परेशानी पैदा होती हैं, यह उनसे निपटने के लिए योजना बनाने में मदद कर सकता है। यह रोगियों को कहीं बेहतर तरीके से सहयोग देने में मदद कर सकता है ताकि वे ज़िंदगी से जुड़े फ़ैसले आसानी से ले सकें।

बच्चों में ज्ञान-संबंधी परेशानियों के लक्षण

  • व्यवस्थित तरीके से काम करने में परेशानी
  • काम पूरा करने में परेशानी
  • एक जगह ध्यान लगाने में परेशानी
  • लंबे समय तक एक जगह ध्यान लगाने में कमी
  • याददाश्त संबंधी समस्याएं
  • स्कूल से झुंझलाहट
  • योजना बनाने और उसे लागू करने में परेशानी आना
  • आवेगपूर्ण व्यवहार
  • स्कूल में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाना, ख़ास तौर पर पिछले प्रदर्शन को देखते हुए
  • साथ पढ़ने वाले दूसरे बच्चों की तुलना में धीरे सीखना
  • स्कूल या ऐसी एक्टिविटी में मन न लगना जिनमें दिमाग लगाना पड़ता है या फ़ोकस करना पड़ता है
  • स्कूल के नाम पर घबराहट होना
  • काम करने के लिए शेड्यूल बनाने, खुद स्कूल का काम करने और निर्देशों का पालन करने जैसे ज्ञान-संबंधी कौशल से जुड़े विकास के महत्वपूर्ण पड़ावों तक पहुंचने में देरी होना

वह वजहें जो ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव का जोखिम पैदा कर सकती हैं

ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव का जोखिम पैदा करने वाली वजहों में शामिल हैं:

  • सिर, गर्दन या रीढ़ की हड्डी के ऊपरी हिस्से पर दिया गया रेडिएशन या टोटल बॉडी रेडिएशन थेरेपी (टीबीआई) यानी पूरे शरीर को दिया गया रेडिएशन, ख़ास तौर पर कम उम्र में दिया गया
  • कुछ कीमोथेरेपी दवाएं, ख़ास तौर पर इंट्रावेनस (आईवी) यानी ड्रिप के ज़रिए ज़्यादा मात्रा में दी जाने वाली मेथोट्रिक्सेट, साइट्राबाइन और/या इंट्राथेकल इलाज
  • मस्तिष्क की सर्जरी और उससे जुड़ी वजहें शामिल हैं जैसे कि सर्जरी के बाद होने वाली परेशानियां और मस्तिष्क के हिस्सों पर बुरा असर
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाओं का इस्तेमाल

जोखिम बढ़ाने वाली दूसरी वजहों में इलाज के समय कम उम्र होना, इलाज की तीव्रता (खुराक और अवधि), आघात(लकवा), हाइड्रोसिफ़लस (दिमाग में पानी आ जाना), संक्रमण या सीज़र (दौरा) जैसी गंभीर बीमारियां शामिल हैं। जिन महिलाओं को क्रेनियल रेडिएशन इलाज दिया जाता है, उनमें पुरुषों की तुलना में ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव का ख़तरा कहीं ज़्यादा होता है। जीवित रहने वाले लोगों में गंभीर बीमारियां उभर सकती हैं जैसे दिल, फेफड़े या एंडोक्राइन संबंधी बीमारी। ऐसे लोगों में ज्ञान-संबंधी परेशानी होने का ज़्यादा जोखिम भी होता है।

इलाज की वजह से मस्तिष्क में होने वाले बदलाव

ऐसा माना जाता है कि कैंसर के इलाज की वजह से ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी दरअसल मस्तिष्क के सफेद पदार्थ में आने वाले बदलाव के साथ शुरू होती है। सफेद पदार्थ या व्हाइट मैटर माइलिन से बना होता है, जो तंत्रिका तंतुओं (नर्व फ़ाइबर) को एक तरह का इंसुलेशन (एक पदार्थ की मोटी परत) देता है और संकेतों को न्यूरॉन्स के बीच जल्दी से पहुंचने देता है। युवा होने के दौरान माइलिनेशन और सफेद पदार्थ का विकास जारी रहता है।

समय बीतने के साथ, मस्तिष्क के धूसर पदार्थ या ग्रे मैटर में भी बदलाव होने लगता है। धूसर पदार्थ न्यूरॉन्स या तंत्रिका कोशिकाओं से बना होता है, जिन पर मस्तिष्क में सूचना या जानकारी संसाधित करने और उनका संचार करने की ज़िम्मेदार होती है।

न्यूरॉन्स या तंत्रिका कोशिकाएं, मस्तिष्क और शरीर के बीच के संचार के लिए ज़िम्मेदार होती हैं।

न्यूरॉन्स या तंत्रिका कोशिकाएं, मस्तिष्क और शरीर के बीच के संचार के लिए ज़िम्मेदार होती हैं।

मस्तिष्क में सफेद पदार्थ और धूसर पदार्थ का बनना, कोई काम ध्यान से कर पाने या किसी काम में ध्यान लगा पाने, तर्क का इस्तेमाल करने और परेशानी का हल करने जैसे ज्ञान-संबंधी काम करने की क्षमता में बढ़ोत्तरी करता है।

कुछ कीमोथेरेपी इलाज और क्रेनियल रेडिएशन मस्तिष्क के फ्रंटल लोब में सफेद पदार्थ बनने की प्रक्रिया में अड़चन डाल सकते हैं। इससे ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी आ सकती है जो समय बीतने के साथ साफ़ तौर पर नज़र आने लगती है। मस्तिष्क के कुछ क्षेत्रों जैसे कि हिप्पोकैम्पस, याददाश्त बनाने में शामिल संरचना के ग्रे पदार्थ पर भी इलाज असर डाल सकते हैं जो क्रेनियल रेडिएशन को लेकर ख़ास तौर पर संवेदनशील होते हैं।

इलाज की वजह से कोशिकाओं और रक्त वाहिकाओं में सूजन आने या उन्हें नुकसान पहुंचने से भी मस्तिष्क को नुकसान पहुंच सकता है। मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं को पहुंचने वाले नुकसान से कई तरह के प्रभाव पड़ सकते हैं। इन प्रभावों में रक्तस्राव और लकवा (स्ट्रोक) शामिल हैं। यह एक बड़ा स्ट्रोक हो सकता है जिससे अचानक बड़े बदलाव आते हैं और ये बदलाव साफ़ तौर पर देखे जा सकते हैं या यह एक छोटा स्ट्रोक हो सकता है जिसमें बदलाव साफ़ तौर पर नज़र नहीं आते हैं लेकिन समय के साथ बढ़ते चले जाते हैं। ये प्रभाव इलाज के कई महीनों से लेकर सालों बाद नज़र आ सकते हैं।

इलाज से जुड़ी दूसरी वजहें भी ज्ञान-संबंधी कामों पर असर डाल सकती हैं जो सीधे तौर पर नज़र न आएं। इनमें सुनने और/ या देखने में परेशानी, स्कूल न जाना और भावनात्मक या सामाजिक मुद्दे शामिल हैं।

न्यूरॉन्स तंत्रिका आवेगों या विद्युतीय संकेतों के माध्यम से संचार करते हैं, जो एक न्यूरॉन से दूसरे न्यूरॉन में जाते हैं।

न्यूरॉन्स तंत्रिका आवेगों या विद्युतीय संकेतों के माध्यम से संचार करते हैं, जो एक न्यूरॉन से दूसरे न्यूरॉन में जाते हैं।

ज्ञान-संबंधी काम का आकलन

सीखने, व्यवहार और मस्तिष्क के विकास पर फ़ोकस करने वाले मेडिकल क्षेत्र को न्यूरोसाइकोलॉजी (तंत्रिका मनोविज्ञान) कहा जाता है। न्यूरोसाइकोलॉजिकल मूल्यांकन काम के इन अलग-अलग पहलुओं को मापता है:

  • उपलब्धि कौशल जैसे कि पढ़ना और गणित के सवाल हल करना
  • ध्यान और एकाग्रता
  • सीखना और याददाश्त
  • जानकारी एकत्रित करना, योजना बनाना और परेशानी सुलझाना
  • भाषा कौशल
  • दृश्य-स्थान को पहचानने के कौशल
  • मोटर समन्वय
  • व्यवहार, भावनात्मक और सामाजिक काम

ग्लोबल इंटेलिजेंस और शैक्षणिक उपलब्धि भी ज्ञान-संबंधी मूल्यांकन में अहम होती हैं। ज्ञान-संबंधी प्रक्रियाओं, भावनाओं, सामाजिक कौशल और व्यवहार में बच्चा अच्छा है या खराब, इसका मूल्यांकन करने के लिए माता-पिता और शिक्षकों की टिप्पणियों का भी इस्तेमाल किया जाता है।

ज्ञान-संबंधी परेशानियों की शुरुआत

बचपन में होने वाले कैंसर से जुड़ी ज्ञान-संबंधी परेशानियों और इलाज का नतीजा यह हो सकता है:

  • पहले की तरह काम न कर पाना या
  • उम्र और विकास के मुताबिक़ काम न कर पाना।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले ज़्यादातर लोगों में ज्ञान-संबंधी परेशानी कौशल की कमी होने की वजह से नहीं होती हैं। ज़्यादातर परेशानियां अक्सर सीखने की दर धीमी होने की वजह से होती हैं। बच्चे अभी भी नए कौशल सीखते हैं और विकसित करते हैं लेकिन उतनी जल्दी नहीं जितना कि उनके साथ पढ़ने वाले बच्चे या दोस्त करते हैं।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले लोगों में ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव आम तौर पर एग्ज़ीक्यूटिव फ़ंक्शन (लक्ष्य पाने के लिए अपना और अपने संसाधनों का प्रबंधन करना) में परेशानी से जुड़े होते हैं। इसमें वर्किंग मेमोरी (काम में ली जा रही जानकारी एकत्रित करने वाली स्मृति), लचीली सोच और आत्म-नियंत्रण शामिल हैं। ये कौशल किसी व्यक्ति को योजना बनाने, व्यवस्था करने और परेशानी हल करने की क्षमता देते हैं। अक्सर ध्यान, जानकारी संसाधित करने की रफ़्तार और काम को व्यवस्थित करने और पूरा करने की क्षमता में कमी आ जाती है।

पढ़ाई में आने वाले बड़े बदलाव के दौरान ये परेशानियां कहीं ज़्यादा साफ़ तौर पर नज़र आ सकती हैं। जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं, माता-पिता और शिक्षक अपेक्षा करते हैं कि बच्चे संगठन के कार्यों और प्रायोगिक शिक्षण में आत्मनिर्भर बनें। ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी वाले बच्चों के लिए, माता-पिता की बढ़ती उम्मीद पर खरे उतर पाना मुश्किल हो जाता है। वे कौशल और क्षमता से जुड़ी उम्मीदों को पूरा नहीं कर पाते हैं और उनके साथी उनके मुक़ाबले कहीं ज़्यादा तेज़ी से आगे बढ़ते हैं।

ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी अक्सर पढ़ाई-लिखाई और करियर पर असर डालती है। ये परेशानियां सामाजिक और भावनात्मक व्यवहार के साथ-साथ जीवन शैली पर बुरा असर डाल सकती हैं।

शुरुआती बचाव और साथ-साथ निगरानी करने से ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव का प्रबंधन करने में मदद मिल सकती है।

दो किशोर कैंसर रोगी साथ में पूल खेलते हुए।

सामाजिक गतिविधियों से जुड़ने के अवसर खोजने और करीबी संबंध बनाने से पूरी ज़िंदगी ज्ञान-संबंधी क्षमता को सुरक्षित रखने में मदद मिल सकती है।

ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव को प्रबंधित करने के तरीके

कैंसर के इलाज अक्सर मस्तिष्क की संरचनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ये नुकसान हमेशा के लिए असर डाल सकते हैं या कुछ दिनों के लिए। साथ ही, ये प्रभाव कई तरह के हो सकते हैं यानी हल्के से लेकर गंभीर तक। रोगी की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सही बचाव और संसाधन उपलब्ध करवाने हेतु व्यक्तिगत सीमाओं को समझना ज़रूरी है। ज़िंदगी जीने के सेहतमंद तौर-तरीके को अपनाने से ज्ञान-संबंधी सेहत को बेहतर बनाने और उसे बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

  1. कुछ रोगी दवाई से ठीक हो जाते हैं, खास तौर पर ध्यान और एकाग्रता के मामले में मदद के साथ। उदाहरण के तौर पर ऐसी उत्तेजक दवाएं जिनका उपयोग अटेंशन डेफ़िसिट हाइपरएक्टिविटी डिसॉर्डर (एडीएचडी) का इलाज करने के लिए किया जाता है। कैंसर से बचने वाले लोगों में ज्ञान-संबंधी प्रक्रिया के लिए जिन दवाओं का अध्ययन किया जा रहा है, उनमें मिथाइलफ़ेनीडेट, डोनेपेज़िल और मोडाफ़िनिल शामिल हैं। दवाओं का प्रबंधन करने और उनके दुष्प्रभाव को नियंत्रित करने के लिए परिवार के सदस्य बच्चों के चिकित्सक या उनकी देखभाल करने वाले चिकित्सक के साथ मिलकर काम कर सकते हैं।

  2. थेरेपिस्ट-डिलिवर्ड इंटरवेंशन (बदलाव लाने वाली रणनीतियां जिनका इस्तेमाल थेरेपिस्ट करता है) से कैंसर से बचने वाले लोगों को कमियां दूर करने के लिए रणनीति तैयार करने में मदद मिल सकती है। परेशानी को दूर करने के लिए उन्हें छोटे हिस्सों में बांटना या याददाश्त बढ़ाने के लिए उन्हें दूसरी चीज़ों से जोड़कर याद करना, रणनीतियों के उदाहरण हो सकते हैं। थेरेपिस्ट इस काम में मदद कर सकते हैं कि रोगी अपनी कमियों को दूर करने के लिए अपनी क्षमताओं का इस्तेमाल करें। ज्ञान संबंधी पुनर्सुधार की प्रक्रिया में प्रशिक्षित मनोविज्ञानी (साइकोलॉजिस्ट) खास तौर पर रोगी के मुताबिक देखभाल देने के लिए खास ज़रूरतों की पहचान करने और उन्हें पूरा करने में मदद कर सकते हैं। लर्निंग स्पेशलिस्ट (सीखने के काम को आसान बनाने वाले विशेषज्ञ) और स्कूल प्रोग्राम स्कूल में ही सहयोग और सुविधा दे सकते हैं।

    स्कूल सहायता

  3. दिमाग को चुनौती देने वाले काम और गतिविधियां, ज्ञान-संबंधी प्रक्रिया को बेहतर बना सकते हैं। मनोवैज्ञानिक के सुझाए कंप्यूटर प्रोग्राम से लेकर मुफ़्त गेमिंग ऐप्स तक, कम्प्यूटर वाले “ब्रेन गेम” उपलब्ध हैं। नए कौशल सीखना, पहेलियां हल करना और ऐसे खेल खेलना जिनमें याददाश्त या तर्क इस्तेमाल किया जाता है, दिमाग की सेहत में सुधार कर सकते हैं। मुख्य कार्य कुछ ऐसा खोजना है जिसमें लगातार चुनौती मिलती रहे ताकि मुश्किल बढ़ने के साथ-साथ कौशल में महारत हासिल होती जाए।

  4. शोध बताते हैं कि एक अच्छा सामाजिक माहौल मानसिक और ज्ञान-संबंधी सेहत में सुधार कर सकता है। लोगों से मिलने-जुलने से मस्तिष्क के रसायन बदल सकते हैं और तंत्रिका कोशिका को बढ़ने में मदद मिल सकती है। ज्ञान-संबंधी क्षमता में कमी की परेशानी से जूझ रहे लोगों के लिए सामाजिक कामों में हिस्सा लेना कहीं ज़्यादा मुश्किल हो सकता है। कैंसर से बचने वाले बच्चों के लिए सामाजिक और संचार कौशल को निशाना बनाने वाले बचाव के कार्य अहम साबित हो सकते हैं। खास तौर पर उन बच्चों के लिए जो इलाज या रोग की वजह से लंबे समय तक अलग-थलग पड़ गए हों। सामाजिक गतिविधियों से जुड़ने के अवसर खोजने और करीबी संबंध बनाने से पूरी ज़िंदगी ज्ञान-संबंधी क्षमता को सुरक्षित रखने में मदद मिल सकती है।

  5. शारीरिक व्यायाम से दिमाग की सेहत और ज्ञान-संबंधी क्षमता बेहतर होती है। सक्रिय रहना मस्तिष्क के सीखने और याददाश्त से जुड़े हिस्से की मस्तिष्क कोशिकाओं के विकास में मदद करता है। कैंसर से बचने वाले लोगों को व्यायाम से तनाव, चिंता और अवसाद का प्रबंधन करने में मदद मिल सकती है। शारीरिक गतिविधि भी सेहत और तंदरुस्ती को बेहतर बना सकती है। कैंसर से बचने वाले लोगों के लिए ये सभी फ़ायदे अहमियत रखते हैं।

    शारीरिक गतिविधि

  6. अच्छी नींद लेने की आदतें ज्ञान-संबंधी क्षमता को बेहतर बनाने के लिए अहम होती हैं। कैंसर से बचने वाले लोगों का अच्छी नींद न लेना और थकान, खराब ज्ञान-संबंधी प्रक्रिया से जुड़े होते हैं। भरपूर नींद न लेना दिल की सेहत और रोग प्रतिरोधक शक्ति पर बुरा असर डाल सकता है। बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले कुछ लोगों में स्लीप एपनिया जैसी नींद से जुड़े विकार उभर सकते हैं। देखभाल करने वाले चिकित्सक को बहुत ज़्यादा थकान, जोर-ज़ोर से आने वाले खर्राटे, नींद न आने या अच्छी नींद न आने जैसे लक्षणों के बारे में बताना ज़रूरी होता है।

    अच्छी नींद लेने के तरीके जानें:

खाने-पीने के लिए सेहतमंद चीज़ें चुनना, तनाव को कम करना और मोटापे, मधुमेह और हृदय रोग जैसी बीमारियों का प्रबंधन करना सेहतमंद दिमाग और ज्ञान-संबंधी प्रक्रिया के लिए ज़रूरी है। कैंसर इलाज के बाद देरी से होने प्रभाव के तौर पर हृदय रोग यानी दिल की बीमारी और फेफड़ों के रोग उभर सकते हैं और ज्ञान-संबंधी प्रक्रिया में गड़बड़ी पैदा करने का काम कर सकते हैं। इसलिए, किसी भी तरह के कैंसर से बचने वाले लोगों के लिए दिमाग की सेहत के साथ – ज़िंदगी भर सेहत – का ख्याल रखने की सोच अपनाना बेहद ज़रूरी है।

ज्ञान-संबंधी सेहत की बागडोर अपने हाथ में लेना

बीमारी से उबरने के दौरान रोगी और उसके परिवार के सदस्य ज्ञान-संबंधी सेहत को बेहतर बनाने के लिए कुछ कदम उठा सकते हैं।

  • अपने जोखिम के बारे में जानें। अपने इलाज से जुड़े ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव के जोखिम के बारे में अपने चिकित्सक से बात करें।
  • ज्ञान-संबंधी परेशानियों के लक्षणों पर गौर करें। ज्ञान-संबंधी परेशानियां इलाज पूरा होने के बहुत दिनों बाद उभर सकती हैं, इसलिए ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव के संकेतों को लेकर जागरुक रहना ज़रूरी है।
  • नियमित मूल्यांकन करें। समय-समय पर न्यूरोसाइकोलॉजिकल मूल्यांकन करवाने से रोग का शुरुआत में ही पता चल सकता है। यह हमें बड़ी परेशानी से बचाता है और रोग की तुरंत रोकथाम करने में मदद करता है।
  • मदद लें। मनोवैज्ञानिक और शिक्षा विशेषज्ञ ज्ञान-संबंधी देरी से होने वाले प्रभाव का सामना करने के लिए एक अच्छी रणनीति दे सकते हैं। नौकरी और ज़िंदगी से जुड़े कौशल का प्रशिक्षण भी फायदेमंद साबित हो सकता है, खास तौर से किशोर और युवाओं के मामले में जो आगे चलकर अपने भरोसे ज़िंदगी जीना चाहते हैं। शादीशुदा ज़िंदगी में होने वाले टकराव और परिवार के किसी सदस्य से होने वाले टकराव को दूर करने के लिए दी जाने वाली सलाह, कैंसर से बचने वाले लोगों और उनके परिवार के लोगों को रिश्तों पर ज्ञान-संबंधी क्षमता की कमी के प्रभावों को समझने और उन्हें प्रबंधित करने में मदद कर सकती है।
  • स्वास्थ्य संबंधी अच्छी आदतें अपनाएं। कई सेहतमंद आदतें जो शरीर के स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती हैं, वही आदतें ज्ञान-संबंधी स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती हैं। एक्टिव रहें, भरपूर नींद लें, लोगों से जुड़े रहें, तनाव पर नियंत्रण रखें और शरीर की अच्छी सेहत और मानसिक सेहत के लिए स्वास्थ्यवर्धक चीज़ें खाएं।


समीक्षा की गई: जून 2018