आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी)

प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) क्या है?

प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) कैंसर इलाज का वह प्रकार है जिसमें कैंसर से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली का उपयोग किया जाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली, संक्रमण और बीमारी से शरीर की रक्षा करती है। यह कीटाणु और विषाणु जैसे रोगाणुओं पर आक्रमण करने का काम करती है। प्रतिरक्षा प्रणाली, शरीर में अस्वस्थ या क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को नष्ट करने में भी सहायता करती है। चूंकि प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर का हिस्सा है, इसलिए प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) को कभी-कभी जैविक इलाज या बायोथेरेपी कहा जाता है।

प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) का मूल सिद्धांत सरल है: यह शरीर को हानिकारक आक्रमणकारियों से बचाने में मदद करती है। हालांकि, कैंसर कोशिकाएं कुटिल हो सकती हैं। ये अक्सर अपने आपको बदलने का तरीका ढूंढ ही लेती हैं, ताकि ये प्रतिरक्षा प्रणाली से छुप जाएँ। जब ये शरीर में आक्रमण करने की कोशिश करती हैं, तो ये शरीर की रक्षा प्रणाली को बंद करने के लिए कई तरीके भी इस्तेमाल करती हैं। आमतौर पर, कैंसर बचने के लिए जिन कुछ तरीकों का इस्तेमाल करता है, उन तरीकों को प्रभावहीन करके प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) काम करता है:

  • कैंसर कोशिकाओं को ढूँढने में प्रतिरक्षा प्रणाली की सहायता करती है, ताकि यह उन पर हमला कर सके।
  • कैंसर से लड़ने में प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया देने की क्षमता बढ़ाती है।

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) विभिन्न प्रकार के होते हैं और ये प्रत्येक इम्यूनोथेरेपी प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया में सहायता करने में अलग-अलग तरीके से काम करती हैं।

प्रतिरक्षा कोशिकाएँ और प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी): टी सेल और एनके सेल

प्रतिरक्षा प्रणाली रोगाणुओं और शरीर में प्रवेश करने वाले अन्य हानिकारकों पर आक्रमण करने के लिए, लिंफोसाइट नाम की कोशिकाओं सहित विभिन्न प्रकार की विशेष सफेद रक्त कोशिकाओं का इस्तेमाल करती है। मौजूदा कैंसर की प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) में दो प्रकार के लिंफोसाइट, टी सेल और एनके कोशिकाओं (एनके) सेल पर मुख्य ध्यान होता है।

टी सेल

टी सेल आधारित रोग प्रतिरोधक शक्ति को अनुकूलनीय या उपार्जित रोग प्रतिरोधक शक्ति कहा जाता है, क्योंकि जब टी सेल हानिकारक कोशिकाओं के बारे में आवश्यक और विशेष जानकारी हासिल कर लेता है, तो उसके बाद ही उसे आक्रमण के लिए प्रोग्राम किया जाता है। अन्य शब्दों में, टी सेल को हानिकारक कोशिकाओं पर आक्रमण करने के लिए “ओके” सिग्नल मिलने से पहले उन कोशिकाओं के बारे में जानकारी मिलनी ज़रूरी है, जिनका वे सामना करने वाले हैं। टी सेल उन कोशिकाओं को अपना लक्ष्य बनाते हैं, जिन्हें वे शरीर की कोशिकाओं के रूप में पहचानते हैं, लेकिन यह दर्शाता है कि कुछ उन्हें नुकसान पहुंचा रहा है, जैसे कि जब कोई वायरस उन्हें संक्रमित करता है। टी सेल जिन कोशिकाओं को बाहरी या हानिकारक के रूप में पहचानते हैं, उनकी सतह पर एंटीजन नाम के प्रोटीन का पता लगाकर यह काम करते हैं। वे टी सेल रिसेप्टर से उस एंटीजन को पहचानते हैं।

अधिकांश टी सेल-आधारित प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) इस पर निर्भर करते हैं कि टी सेल कैंसर कोशिका की सतह पर एंटीजन को देखने में सक्षम हो। एक बार टी सेल विशिष्ट कैंसर एंटीजन को जान लेता है, तो शरीर उस टी सेल की कई और प्रतिकृतियाँ बना लेता है जो एंटीजन को पहचान सके, ताकि वे उस विशिष्ट एंटीजन वाली अन्य कैंसर कोशिकाओं को ढूंढकर उन पर हमला कर सके। कुछ टी सेल एंटीजन को याद भी रख सकते हैं और फिर से दिखाई देने पर उनके विरुद्ध प्रतिक्रिया दे सकते हैं। यह “स्मृति” एक महत्वपूर्ण तरीका है, जिससे टी सेल-आधारित प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) उस एंटीजन वाली कैंसर कोशिकाओं को वापस आने (रोग को वापस आने) से रोक सकते हैं।

टी सेल आधारित प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के प्रकारों में प्रतिरक्षा चेकपॉइंट इनहिबिटर, टीका, साइटोकिन्स और टी सेल ट्रांसफ़र शामिल हैं।

एनके कोशिकाएं

नेचुरल किलर कोशिकाएँ या एनके कोशिकाएँ, अन्य प्रकार के लिंफोसाइट हैं जो रोग प्रतिरोधक शक्ति में महत्वपूर्ण हैं। एनके कोशिकाएं, शरीर में उन कोशिकाओं को ढूंढती हैं, जो वैसी “खुद नहीं” होती हैं, जैसे कि कीटाणु। एनके कोशिकाएँ, कैंसर कोशिका पर मौजूद रहने वाले किसी विशिष्ट एंटीजन पर निर्भर नहीं होती हैं। एनके कोशिका-आधारित रोग प्रतिरोधक शक्ति को जन्मजात रोग प्रतिरोधक शक्ति के नाम से भी जाना जाता है, जो एक बहुत सामान्य रोग प्रतिरोधक शक्ति होती है।

एनके कोशिका-आधारित प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के प्रकारों में मोनोक्लोनल एंटीबॉडी (चूंकि ये कैंसर कोशिकाओं को टैग करके, एनके कोशिकाओं को आकर उन पर आक्रमण करने का संकेत देते हैं), साइटोकिन्स और एनके कोशिका ट्रांसफ़र शामिल हैं।

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के प्रकार

मोनोक्लोनल एंटीबॉडी। मोनोक्लोनल एंटीबॉडी, प्रयोगशाला में बनाए गए छोटे अणु होते हैं, जो विशेष तौर पर कैंसर कोशिका के एंटीजन से जुड़े होते हैं। मोनोक्लोनल एंटीबॉडी कई विभिन्न तरीके से कार्य कर सकते हैं। इनका इस्तेमाल नीचे दिए कामों के लिए किया जा सकता है:

  • कैंसर कोशिकाओं को फ्लैग करना, ताकि प्रतिरक्षा प्रणाली (एनके सेल) कोशिकाओं को ढूंढकर उन पर आक्रमण कर सके।
  • कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए, विषैले तत्व या रेडियोधर्मी अणुओं को सीधे उन कोशिकाओं तक ले जाना।
  • कैंसर कोशिका के बढ़ने के लिए आवश्यक संकेतों को अवरुद्ध करना।

चूंकि ये विशिष्ट एंटीजन को लक्ष्य बनाते हैं, इसलिए मोनोक्लोनल एंटीबॉडी वाले इलाज को लक्षित इलाज का प्रकार भी माना जाता है।

प्रतिरक्षा चेकपॉइंट इनहिबिटर। चेकपॉइंट इनहिबिटर ऐसी दवाइयाँ होती हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली में “ब्रेक” को बंद कर देती हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली में ऐसे चेकपॉइंट या सिग्नल होते हैं, जो उसे धीमा होने के लिए निर्देश देते हैं। ये चेकपॉइंट, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को नियंत्रण से बाहर होने और स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुँचने से रोकने के लिए ज़रूरी होते हैं। कभी-कभी कैंसर कोशिकाएँ, प्रतिरक्षा प्रणाली से छिपने के लिए इन सिग्नल का इस्तेमाल करती हैं। चेकपॉइंट इनहिबिटर “स्टॉप” सिग्नल को बंद कर सकता है, ताकि प्रतिरक्षा प्रणाली कार्य करती रहे।

टीका। जिन रोगियों को पहले से कैंसर हैं, उन्हें ट्यूमर-आधारित टीके दिए जाते हैं। यह बीमारी को रोकने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले दूसरे टीकों से अलग होता है। कैंसर के इलाज के वैक्सीन का लक्ष्य, प्रतिरक्षा प्रणाली की यह जानने में सहायता करना होता है कि लड़ने के लिए इसे क्या आवश्यक है। टीके में कैंसर एंटीजन या अन्य ट्यूमर मार्कर होता है। इससे प्रतिरक्षा कोशिकाओं को उस मार्कर से ट्यूमर कोशिकाओं पर आक्रमण के लिए प्रशिक्षित करने में सहायता मिलती है।

साइटोकिन्स। साइटोकिन्स शरीर में वे प्रोटीन होते हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को नियंत्रित रखने में सहायता करते हैं। इंटरफेरॉन और इंटरल्यूकिन विशिष्ट साइटोकिन्स हैं, जिनका कैंसर के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है। ये प्रोटीन, कैंसर कोशिकाओं पर आक्रमण करने वाले एनके सेल, टी सेल और अन्य प्रतिरक्षा कोशिकाओं को बढ़ने का संकेत देते हैं।

अडॉप्टिव सेल थेरेपी। अडॉप्टिव सेल थेरेपी एक प्रकार की प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) है, जिसमें खून से ली गई दाता की प्रतिरक्षा कोशिकाओं या रोगी की खुद की प्रतिरक्षा कोशिकाओं का इस्तेमाल होता है। कुछ प्रकार की अडॉप्टिव सेल थेरेपी में, रोगी की प्रतिरक्षा कोशिकाओं को प्रयोगशाला में इस तरह बदला या बनाया जाता है कि वे कैंसर कोशिकाओं पर आक्रमण करने में बेहतर तरीके से सक्षम हों। जिन टी सेल या एनके कोशिकाओं को आगे बनाया नहीं जाता है, उन्हें मुख्य रूप से बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) प्रत्यारोपण के बाद इस्तेमाल किया जाता है। इन कोशिकाओं को दाता से लेकर, ट्यूमर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए वापस रोगियों के शरीर में डाला जाता है।

साइटोकिन स्टोर्म के विरुद्ध सहायता करने के लिए कार टी-सेल थेरेपी को समझाती हुई आकृति।

किमेरिक एंटीजन रिसेप्टर या कार टी सेल थेरेपी, ट्यूमर-विशिष्ट टी सेल बनाने की एक पद्धति है। कैंसर के इलाज में, चिकित्सक ट्यूमर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए इन बदली हुई कोशिकाओं को रोगी के शरीर में वापस डालते हैं।

ट्यूमर-विशिष्ट टी सेल बनाने के लिए वर्तमान में दो इंजीनियरिंग पद्धतियाँ इस्तेमाल की जाती हैं। दोनों पद्धतियों में समान प्रक्रिया अपनाई जाती है। पहले, रोगी से टी सेल एकत्रित किए जाते हैं। इसके बाद, प्रयोगशाला में एक विशेष रिसेप्टर का इस्तेमाल करके टी सेल को ट्यूमर के अनुसार उन्हें बनाया जाता है। रोगी के शरीर में इन टी सेल को फिर से डालने से पहले इन्हें और बड़ा होने दिया जाता है। रोगी की नसों में डालने के बाद, ये टी सेल पूरे शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को ढूंढकर उन्हें नष्ट कर देते हैं। ट्यूमर-विशिष्ट रिसेप्टर को टी-सेल रिसेप्टर (टीसीआर) और किमेरिक एंटीजन रिसेप्टर (कार) कहा जाता है। कार को एनके सेल में जोड़ने को लेकर अध्ययन भी जारी हैं।

टी-सेल रिसेप्टर (टीसीआर) थेरेपी, रोगी के टी सेल को प्रयोगशाला में इस तरह से तैयार किया जाता है कि वे कोशिका सतह पर विशिष्ट रिसेप्टर को भेजें। कैंसर पर मौजूद एंटीजन, टी सेल पर लगे रिसेप्टर पर लग जाता है। यह रिसेप्टर टी सेल को कैंसर कोशिकाओं को ढूंढकर उन पर आक्रमण करने देता है।

कार (किमेरिक एंटीजन रिसेप्टर) टी-सेल प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) में रोगी के उन टी सेल का भी इस्तेमाल होता है, जिन्हें कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए तैयार किया गया है। “किमेरिक” (यानी कि दो विभिन्न मूल से या हाइब्रिड से मिलकर) उस टी सेल रिसेप्टर से संबंधित होता है, जो प्रयोगशाला में विशिष्ट मोनोक्लोनल एंटीबॉडी (मैब) के अंश से और टी सेल रिसेप्टर के हिस्से से बनाया जाता है। किसी विशिष्ट कैंसर एंटीजन के विरुद्ध लक्षित यह किमेरिक रिसेप्टर, प्रयोगशाला में रोगियों के कुछ टी सेल में शामिल किया जाता है और नए रिसेप्टर वाले टी सेल बढ़कर अधिक हो जाते हैं। रोगियों के कैंसर एंटीजन के अनुसार बनाई गई संशोधित कोशिकाओं को उनकी नस में डाला जाता है। शामिल किया गया किमेरिक रिसेप्टर, उन टी सेल को पूरे शरीर में विशिष्ट एंटीजन वाली कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने देता है।

प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) कैसे दिया जाता है?

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) की दवाईयां आमतौर पर इंजेक्शन से शिरा (आईवी) के माध्यम से दी जाती हैं। प्रतिरक्षा कोशिकाएँ आईवी द्वारा या सीधे ट्यूमर क्षेत्र में इंजेक्ट करके दी जाती हैं।

खुराक और इलाज का शेड्यूल, थेरेपी के प्रकार पर निर्भर होता है। प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) में आमतौर पर किसी समयावधि के दौरान इलाज की कई खुराकें शामिल होती हैं। इलाज के बाद एक निश्चित शेड्यूल, इलाज के साइकल और आदि इलाज के लिए जाना पड़ सकता है। शेड्यूल का लक्ष्य, प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) को काम करने और शरीर को ठीक होने का एक मौका देना होता है।

थेरेपी कितनी अच्छी तरह से काम कर रही है, यह जानने और इसके दुष्प्रभाव देखने के लिए चिकित्सक रोगियों को ध्यान से मॉनिटर करता है।

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के दुष्प्रभाव

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के दुष्प्रभाव, किसी ख़ास प्रकार के इलाज पर निर्भर होते हैं, लेकिन प्रतिरक्षा प्रणाली के सक्रिय होने के परिणामस्वरूप लक्षण दिखते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली सक्रिय होने पर सूजन आती है। यह स्थानीय प्रतिक्रिया या सामान्य प्रतिक्रिया हो सकती हैं, क्योंकि प्रतिरक्षा कोशिकाएँ शरीर के उन हिस्सों पर संचरण करती हैं, जहां “शरीर पर आक्रमण करने वाली” कोशिकाएँ मिलती हैं। लक्षण अक्सर उन्हीं लक्षणों की तरह होते हैं, जो जुकाम या बुखार जैसे संक्रमण से लड़ने पर शरीर में होते हैं। रोगी को बुखार आ सकता है, ठंड लग सकती है, शरीर में दर्द हो सकता है, चकत्ते हो सकते हैं और थकान हो सकती है।

प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के अन्य दुष्प्रभावों में ये भी हो सकते हैं:

  • प्रतिरक्षा कोशिका की प्रतिक्रिया के कारण सूजन आना या वजन बढ़ना
  • सरदर्द और भ्रांति होना
  • रक्त चाप में बदलाव
  • दिल की घबराहट
  • साँस लेने में परेशानी
  • दस्त होना

बचपन में होने वाले कैंसर में प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) का भविष्य

चूंकि प्रतिरक्षा कोशिकाएँ पूरे शरीर में संचार कर सकती हैं, इसलिए मुख्य ट्यूमर से दूर फैल रहीं कैंसर कोशिकाओं को मारने में भी प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) मदद कर सकता है। कैंसर के इलाज में प्रतिरक्षा प्रणाली को इस्तेमाल करने का एक और संभावित लाभ यह है कि कुछ प्रतिक्रिया कोशिकाएँ “स्मृति” प्रतिक्रिया उत्पन्न कर सकती हैं। टी सेल विशिष्ट एंटीजन पर आक्रमण करना सीखता है और यदि वह एंटीजन वापस आता है, तो वह उसे याद रख सकता है। यदि टी सेल इस तरह के एंटीजन को दोबारा देखता है, तो वह और तेज़ी से प्रतिक्रिया कर सकता है। इस प्रतिरक्षा प्रणाली की स्मृति से कैंसर रोग के वापस न होने की पूरी उम्मीद होती है।

बचपन में होने वाले कैंसर में प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) पर शोध बढ़ रहे हैं। बीमारी के चल रहे परीक्षणों में कई बचपन में होने वाले कैंसरों में प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपचार (इम्यूनोथेरेपी) के इस्तेमाल पर अध्ययन किया जा रहा है।  


समीक्षा की गई: जून 2018