आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

जी मिचलाना और उल्टी होना

जी मिचलाना और उल्टी, कैंसर और कैंसर इलाजों से होने वाले सामान्य दुष्प्रभाव हैं। लक्षण हल्के से गंभीर प्रकार तक के हो सकते हैं और इलाज के पहले, उसके दौरान या बाद में उत्पन्न हो सकते हैं। बचपन में होने वाला कैंसर से पीड़ित रोगियों और परिवारों के अनुसार जी मिचलाना उन दुष्प्रभावों में से एक है, जो उन्हें सबसे अधिक परेशान करती है। यदि नियंत्रित न किया जाए, तो जी मिचलाना और उल्टी से भावनात्मक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, इलाज के अनुपालन में बाधा आ सकती है, दैनिक गतिविधियों में व्यवधान उत्पन्न हो सकता है और पोषण में कमी, वजन कम होने और अन्य स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं के उत्पन्न होने का कारण बन सकती है।

कैंसर से पीड़ित अधिकांश बच्चों के संबंध में, जी मिचलाने और उल्टी को कम करने के प्रभावी तरीके उपलब्ध हैं। इसमें जी मिचलाने की दवाएं, आहार योजना में परिवर्तन और गहरी सांस लेने और ध्यान कहीं और लगाने जैसी रोग का सामना करने वाली रणनीतियां शामिल हैं। अतिरिक्त चिकित्सा जैसे एक्यूपंक्चर, अरोमाथेरेपी और सम्मोहन भी प्रभावशील हो सकते हैं।

परिवारों को कैंसर देखभाल के दौरान “उल्टी करना” नामक शब्द देखने या सुनने को मिल सकता है। एमिसिस, उल्टी का नैदानिक नाम है। एंटीमैटिक दवाएं जी मिचलाने और उल्टी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं हैं।

जी मिचलाना क्या है?

जी मिचलाना, बीमार जैसा या बेचैनी महसूस होने की भावना है जिसमें व्यक्ति को उल्टी करने का मन होता है। जी मिचलाना व्यक्तिपरक है, जिसका अर्थ है कि यह व्यक्ति के अपने अनुभव पर निर्भर करता है। जी मिचलाने में आमतौर पर गले, भोजन-नली या पेट में बुरा अनुभव महसूस होना शामिल है। जी मिचलाने से जुड़ी अन्य समस्याओं में चक्कर आना, निगलने में कठिनाई होना, पसीना आना, ठंड लगना या चेहरे का लाल हो जाना शामिल हो सकते हैं।

उल्टी क्या है?

उल्टी होना या वमन होना, डायाफ्राम और पेट की मांसपेशियों के कारण होता है। ये मांसपेशियां संकुचित होकर आमाशय के पदार्थों को ऊपर भोजन-नली में धक्का देते हुए मुंह से बाहर निकालती हैं। यह प्रक्रिया कुछ ट्रिगर पर प्रतिक्रिया दिखाने वाली तंत्रिकाओं द्वारा नियंत्रित की जाती है। जी मिचलाना और उल्टी के आम ट्रिगर विषाणु, बैक्टीरिया, गति और भौतिक या रासायनिक संकेत होते हैं। ये उल्टी की प्रतिवर्ती क्रिया को नियंत्रित करने वाले तंत्रिका मार्गों को सक्रिय करते हैं।

जी मिचलाना और उल्टी एक दूसरे से जुड़ी हैं, लेकिन ये एक दूसरे के बिना घटित हो सकती हैं।

अधिक जी मिचलाने के बारे में बात करने में बच्चों की मदद करना

कुछ देखभाल टीम जी मिचलाने के बारे में बात करने में बच्चों की मदद करने के लिए रेटिंग स्केल का उपयोग करती हैं। इस स्केल में, जिसे बीएआरएफ स्केल कहा जाता है, बच्चे के जी मिचलाने के स्तर का आकलन करने के लिए चेहरों के चित्र आरेखों का उपयोग किया जाता है। चित्र विशेष रूप से उन छोटे बच्चों के लिए उपयोगी होते हैं जिन्हें अपने लक्षणों का वर्णन करना नहीं आता। जी मिचलाने में पहले से सुधार आया है या समस्या और बिगड़ गई है, यह देखने के लिए समय के साथ जी मिचलाने की जांच करना भी मददगार हो सकता है।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में जी मिचलाने और उल्टी होने के कारण

कैंसर से पीड़ित बच्चों में कीमोथेरेपी जी मिचलाने का एक प्रमुख कारण है। हालांकि, रेडिएशन थेरेपी और अन्य दवाओं से भी जी मिचलाने की भावना उत्पन्न हो सकती है। कुछ बच्चों को स्वयं कैंसर के प्रभाव के कारण या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के कारण जी मिचलाना की परेशानी होती है। मस्तिष्क के कैंसर वाले बच्चों में हाइड्रोसेफेलस हो सकता है, इसके कारण मस्तिष्क के अंदर तरल जमा होता जाता है। इस तरल से बढ़ा दबाव उन तंत्रिकाओं को ट्रिगर कर सकता है जिनके कारण उल्टी होती है।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में जी मिचलाना और उल्टी होने के सामान्य कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • कीमोथेरेपी
  • अन्य दवाओं में जीवाणु नाशक दवाई, नशीले पदार्थ दवाएं और दौरा न पड़ने के लिए दवाएं शामिल हैं
  • रेडिएशन थेरेपी
  • कैंसर ही, खासकर अगर ट्यूमर मस्तिष्क या पाचन प्रणाली को प्रभावित करता है
  • आमाशय और पाचक नाल के विकार
  • आंतरिक कान की समस्या
  • हार्मोन और मेटाबोलिज्म (चयापचय) असंतुलन
  • बुखार और संक्रमण
  • तनाव और चिंता
  • दर्द
  • पिछली उल्टी

जी मिचलाना और उल्टी की समस्या विभिन्न शारीरिक तंत्रों की जटिल पारस्परिक क्रिया के कारण उत्पन्न होती है जिसमें स्वचलित तंत्रिका तंत्र, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, एंडोक्राइन तंत्र, औरपाचन प्रणाली शामिल हैं। विचार और भावनाएं भी जी मिचलाना और उल्टी की समस्या उत्पन्न होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

कीमोथेरेपी के दौरान जी मिचलाना और उल्टी

कीमोथेरेपी प्राप्त करने वाले अधिकतम 70% बच्चे इलाज के दौरान कभी न कभी जी मिचलाना का अनुभव करेंगे। ये लक्षण पेट खराब होने से लेकर गंभीर उल्टियों तक अलग-अलग हो सकते हैं। कीमोथेरेपी से जुड़ी जी मिचलाना और उल्टी (एमिसिस) 3 प्रकार की होती हैं:

  1. तीव्र वमन (उल्टी करना) – कीमोथेरेपी के पहले 24 घंटे के दौरान होता है। यह आमतौर पर कीमोथेरेपी के बाद 1-2 घंटे में होता है और 4-6 घंटे के बाद इसमें सुधार आना शुरू हो जाता है।
  2. विलंबित वमन (उल्टी करना) – जो 24 घंटे के बाद शुरू होता है। आमतौर पर, विलंबित वमन (उल्टी करना) कीमोथेरेपी के बाद 48-72 घंटों के दौरान अधिक गंभीर होता है जिसमें अगले कुछ दिनों में सुधार आना शुरू हो जाता है।
  3. प्रत्याशित वमन (उल्टी करना) – कीमोथेरेपी से पहले विकसित होता है और यह उन ट्रिगर या प्रेरकों के कारण होता है जिन्हें व्यक्ति कीमोथेरेपी से जोड़ता है। यह एक अनुभव से प्राप्त प्रतिक्रिया है और उन रोगियों में सबसे आम है जिन्हें पिछले इलाजों के कारण गंभीर रूप से जी मिचला और उल्टियां हुईं थी।

कीमोथेरेपी दवाओं को उनके जोखिम या जी मिचलाना और उल्टी के कारण होने की संभावना द्वारा वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • उच्च (>90% जोखिम)
  • मध्यम (30-90% जोखिम)
  • निम्न (10-30% जोखिम)
  • न्यूनतम (<10% जोखिम)

यदि कोई जी मिचलाने से रोकने वाली दवाएं नहीं दी गई हैं तो ये श्रेणियां लक्षणों की संभावना पर आधारित होती हैं। जी मिचलाना और उल्टी होने के उच्च या मध्यम जोखिम के साथ कीमोथेरेपी प्राप्त कर रहे रोगियों को आमतौर पर लक्षण उत्पन्न होने से पहले ही जी मिचलाने और उल्टी को रोकने के लिए दवाएं दी जाती हैं।

वे कौन सी कैंसर दवाएं हैं जिनके कारण जी मिचलाना और उल्टी होती है?

जी मिचलाना और उल्टी होने के उच्च जोखिम के साथ कीमोथेरेपी जी मिचलाना और उल्टी होने के मध्यम जोखिम के साथ कीमोथेरेपी
कार्बोप्लैटिन कारमुस्टिन
सिस्प्लेटिन क्लोफाराबाइन
साइक्लोफॉस्फोमाइड (उच्च खुराक) साइक्लोफॉस्फोमाइड (निम्न खुराक)
साइट्राबाइन (उच्च खुराक) साइट्राबाइन (मध्यम खुराक)
डैक्टिनोमाइसिन डॉनोरूबिसिन
मेथोट्रिक्सेट (उच्च खुराक) डॉक्सोरूबिसिन (निम्न खुराक)
डकारबाज़िन इफोस्फामाइड
डॉक्सोरूबिसिन (उच्च खुराक) इमेटिनिब
साइट्राबाइन + इटॉप्साइड या टेनिपोसाइड इंट्राथेकल कीमोथेरेपी
डॉक्सोरूबिसिन + इफोस्फामाइड मेथोट्रिक्सेट (निम्न खुराक)
इटॉप्साइड + इफोस्फामाइड टेमोज़ोलोमाइड
साइक्लोफॉस्फोमाइड + डॉक्सोरूबिसिन, एपिरूबिसिन या इटॉप्साइड  

कीमोथेरेपी के कारण जी मिचलाने और उल्टी की समस्या क्यों होती है?

कीमोथेरेपी से जी मिचलाने और उल्टी होने का कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है। हालांकि, कीमोथेरेपी के कारण कुछ न्यूरोट्रांसमीटर स्रावित हो सकते हैं जो जी मिचलाना और उल्टी को नियंत्रित करते हैं। डोपामीन, सेरोटोनिन और पदार्थ पी सहित न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क के उन भागों में रासायनिक संकेतों के रूप में कार्य करते हैं जो जी मिचलाने और उल्टी को नियंत्रित करते हैं। कुछ जी मिचलाने से रोकने वाली दवाएं इन संकेतों को अवरुद्ध करने के लिए इन न्यूरोट्रांसमीटर तंत्रों पर कार्य करती हैं।

बच्चों में जी मिचलाने और उल्टी के इलाज के तरीके

कैंसर इलाज के दौरान जी मिचलाना और उल्टी को नियंत्रित करने के कई तरीके उपलब्ध हैं। परिवारों के लिए यह ज़रूरी है कि वे बच्चे के लक्षणों को नियंत्रित करना सुनिश्चित करने के लिए देखभाल टीम के साथ मिलजुल कर कार्य करें।

जी मिचलाना के लिए दवाएं

जी मिचलाना और उल्टी को रोकने या उनका इलाज करने के लिए जी मिचलाना की दवाओं (उल्टी रोकने की दवा) का उपयोग किया जा सकता है। बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में इस्तेमाल की जाने वाली आम दवाओं में शामिल हैं:

  • ऑन्डेनसेट्रॉन (Zofran®)
  • ग्रैनिसेट्रॉन (Kytril®)
  • लोराज़ेपैम (Ativan®)
  • डाइफेनहाइड्रैमीन (Benadryl®)
  • डेक्सामिथेसोन (Decadron®, Dexamethasone Intensol®, Dexpak®)
  • ऐप्रेपिटेंट (Emend®)
  • मेटोक्लोप्रमाइड (Reglan®)
  • ओलेंज़ापीन (Zyprexa®)
  • स्कोपोलामीन (Transderm Scop®)

कुछ रोगियों को दवाओं का एक संयोजन मिलेगा। जी मिचलाना और उल्टी को कम करने की लिए उपयोग की जाने वाली बहुत सी दवाओं के अन्य उपयोग हैं। परिवारों को अपने बच्चे द्वारा ली जा रही प्रत्येक दवा का उद्देश्य और खुराक निर्देश जानने के लिए हमेशा अपने चिकित्सक या औषधि विक्रेता से बात करनी चाहिए।

चिकित्सक कीमोथेरेपी योजना, बच्चे की आयु, कैंसर के प्रकार और अन्य रोगी कारकों के आधार पर जी मिचलाने की दवाएं लिखते हैं। कीमोथेरेपी शुरू होने से पहले कुछ रोगियों को दवा दी जाएगी। हालांकि, आवश्यकता पड़ने पर भी जी मिचलाने की दवाएं निर्धारित की जाती हैं। परिवारों के लिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि वे देखभाल टीम से लक्षणों पर विचार-विमर्श करें ताकि जी मिचलाने और उल्टी का सर्वोत्तम संभावित तरीके से प्रबंधन किया जा सके।

जी मिचलाने रोकने में मदद करने के लिए आहार योजना में परिवर्तन

कुछ खाद्य पदार्थ और गंध जी मिचलाने को और बढ़ा सकते हैं। कैंसर इलाज के दौरान बहुत से रोगियों की भूख कम हो जाती है। जब बच्चे खुद को ठीक महसूस नहीं करते तब अपनी पसंद की खाने की चीज़ों के प्रति उनका व्यवहार बहुत अलग हो सकता है। सर्वोत्तम तरीके का पता लगाने के लिए कुछ प्रयत्न-त्रुटि विधि से परीक्षण करना पड़ सकता है। कुछ सामान्य युक्तियां निम्नलिखित हैं:

  • भोजन और नाश्ता कम मात्रा में और थोड़ी-थोड़ी देर में खाएं।
  • धीरे-धीरे खाएं और पीएं।
  • भोजन के साथ तरल पदार्थ न लें।
  • सूखे, मसाले रहित नरम खाद्य पदार्थ दें जैसे कि क्रैकर या टोस्ट।
  • मसालेदार, अम्लीय या गरिष्ठ भोजन न लें।
  • ऐसी जगह पर खाएं जहां तेज़ गंध न हो।
  • बच्चे को चुनने दें कि उसे कब और क्या खाना है।

जी मिचलाने और उल्टी से पीड़ित रोगियों के लिए अधिक पोषण संबंधी युक्तियां प्राप्त करें

पोषण पेशेवर, देखभाल टीम के महत्वपूर्ण सदस्य हैं, खासकर जी मिचलाने और उल्टी से जूझ रहे बच्चों के लिए। आहार विशेषज्ञ परिवारों को पोषण संबंधी चुनौतियों से निपटने के तरीके ढूंढने में मदद कर सकता है। यदि बच्चों को गंभीर रूप से जी मिचलाने और उल्टी की समस्या है, तो हो सकता है कि उन्हें खिलाने वाली नली (एंटरल पोषण ) की या IV पोषण (पैरेंटरल पोषण) प्राप्त करने की आवश्यकता पड़े। ये उचित पोषण और हाइड्रेशन को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण प्रकार की प्रशामक देखभाल हैं। बचपन में होने वाले कैंसर की देखभाल में नैदानिक-इलाजात्मक पोषण के बारे में अधिक जानें

जी मिचलाने और उल्टी से निपटने के लिए अन्य रणनीतियां

जी मिचलाने और उल्टी से निपटने में मदद के लिए विभिन्न प्रकार की सामना करने की रणनीतियां और अतिरिक्त चिकित्सा बताए गए हैं। इनमें शामिल है:

  • मनोचिकित्सा
  • बायोफ़ीडबैक
  • गहरी सांस लेना और विश्राम तकनीकें
  • हिप्नोसिस
  • एक्यूपंक्चर
  • एक्यूप्रेशर
  • अरोमाथेरेपी
  • हर्बल पूरक - अदरक
  • ध्यान बंटाने वाली क्रियाएं (वीडियो गेम खेलना, कला, संगीत)
  • व्यायाम

परिवारों को किसी भी अतिरिक्त चिकित्सा को आज़माने से पहले उसका सुरक्षित होना सुनिश्चित करने के लिए अपनी देखभाल टीम से बात करनी चाहिए। देखभाल टीम परिवारों को यह पता लगाने में भी मदद कर सकती है कि लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए इलाजों का कौन सा संयोजन सर्वोत्तम रूप से काम करता है।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में जी मिचलाना और उल्टी: परिवारों के लिए युक्तियां और सुझाव

  • जी मिचलाना और उल्टी के बारे में अपनी देखभाल टीम से बात करें। कुछ दवाएं और दूसरी रणनीतियां हैं जो सहायक हो सकती हैं।
  • लक्षणों का रिकॉर्ड रखें। जी मिचलाना कब होती है, किस चीज़ से जी मिचलाना और बढ़ जाती है, किस चीज़ से इसमें सुधार आता है और कोई भी अन्य लक्षण जैसे दर्द, भूख न लगना, डायरिया या दस्त लगना या कब्ज होना, आदि सभी जानकारी लिखें। इससे आपको और आपकी देखभाल टीम को आपके लक्षणों को समझने और योजना बनाने में मदद मिल सकती है।
  • यदि आपके बच्चे को खाने या पीने में कोई समस्या हो रही है, तो इसके बारे में अपनी देखभाल टीम को सूचित करें। पोषण संबंधी सहायता या IV तरल पदार्थ की आवश्यकता पड़ सकती है।
  • जब आपके बच्चे को जी मिचलाना जैसा लग रहा हो, तो उसे उसकी पसंद की चीज़ खाने को न दें। यह आहार बीमार होने का अहसास भी करा सकता है।
  • च्यूइंग गम या चूसने वली हार्ड कैंडी, पॉपसिकल या बर्फ़ आज़माएं। 
  • भोजन के बाद पीठ के बल सीधे लेटने से बचें।
  • उल्टी के बाद मुंह कुल्ला करना सुनिश्चित करें। पेट से निकले एसिड से मुंह में जलन हो सकती है और दांत खराब हो सकते हैं।
  • जी मिचलाने की दवाओं के लिए खुराक संबंधी निर्देशों का पालन करें। सुनिश्चित करें कि आप पर्चे में लिखी दवाओं के खत्म होने से पहले ही उन्हें फिर से खरीद कर लेते हैं।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में जी मिचलाना और उल्टी विषय पर अधिक संसाधन


टूगेदर
इस आलेख में उल्लेखित किसी भी ब्रांडेड उत्पाद का समर्थन नहीं करता है।


समीक्षा की गई: जनवरी 2019