आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बहरापन

बहरापन बचपन में होने वाले कैंसर या कैंसर के इलाजों का संभावित दुष्प्रभाव है। कुछ कैंसर दवाइयां और रेडिएशन और सर्जरी सहित अन्य इलाज, कान को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप बहरापन हो सकता है। कुछ मामलों में, ट्यूमर के कारण ही बहरापन हो सकता है।

जिन बच्चों को ओटोटॉक्सिक थेरेपी (जिन इलाजों को कान के नुकसान के लिए जाना जाता है) मिलती है, उन्हें समस्याओं को देखने के लिए नियमित रूप से सुनने की शक्ति की जांच करवानी चाहिए। बहरापन, बातचीत करने की शक्ति, सामाजिक संबंधों, सीखने के कौशल, शैक्षणिक उपलब्धि और कैरियर के लक्ष्यों को प्रभावित कर सकता है। कैंसर के बाद जीवन शैली को बेहतर बनाने के लिए शुरुआती मूल्यांकन और हस्तक्षेप से मरीजों और परिवारों को बहरेपन की समस्या से अच्छी तरह निपटने में मदद मिल सकती है।

बहरेपन से बचने के तरीके

  • कोलाहलपूर्ण शोर के संपर्क में न आएं।
  • श्रवण शक्ति को सुरक्षित रखने वाले यंत्रों का इस्तेमाल करें।
  • कान में डालकर सुनने वाले उपकरणों की आवाज़ कम करें।
  • सुनने की शक्ति की जांच करवाएं।
  • सुनने की शक्ति में कोई भी बदलाव के बारे में देखभाल टीम को बताएं।

कुछ मामलों में, देखभाल टीम बहरेपन के आधार पर दवाइयां या अन्य इलाजों में बदलाव का सुझाव दे सकती है।

 

ऑडियोलॉजी और श्रवण देखभाल के बारे में ज़्यादा जानें

जिन बच्चों को ऐसे इलाज दिए जाते हैं, जिनसे कान को नुकसान पहुंचता है, उन्हें समस्याओं को देखने के लिए नियमित रूप से सुनने की शक्ति की जांच करवानी चाहिए।

जिन बच्चों को ऐसे इलाज दिए जाते हैं, जिनसे कान को नुकसान पहुंचता है, उन्हें समस्याओं को देखने के लिए नियमित रूप से सुनने की शक्ति की जांच करवानी चाहिए।

बच्चों में बहरेपन के लक्षण

  • कान बजना
  • सुनने या समझने में परेशानी होना, विशेष रूप से भीड़ में या पृष्ठभूमि में चल रही आवाज़ सुनाई न देना
  • ध्यान न देना
  • ध्वनियों पर प्रतिक्रिया नहीं देना
  • टेलीविजन या संगीत की आवाज़ बढ़ाकर रखना
  • स्कूल में समस्याएँ होना, जैसे कि निर्देशों का पालन न करना या ग्रेड में गिरावट होना
  • बेहतर सुनने या “अच्छे कान” का इस्तेमाल करने के लिए सिर को घुमाना
  • बातचीत करने में बदलाव या देरी
  • संतुलन की समस्या

शिशुओं और छोटे बच्चों में सुनने और संचार के बारे में अधिक जानकारी पाएं।

बहरेपन का कारण

बचपन में होने वाले कैंसर के मरीजों में बहरेपन के जोखिम कारकों में ये शामिल हैं:

  • कुछ कीमोथेरेपी दवाइयां, विशेष रूप से प्लैटिनम दवाएं जैसे सिस्प्लेटिन और कार्बोप्लैटिन।
  • कान, मस्तिष्क, नाक, गले, साइनस या गाल की हड्डी पर रेडिएशन
  • कान, मस्तिष्क या श्रवण तंत्रिका नस को प्रभावित करने वाली सर्जरी
  • अन्य दवाएं
    • एमिकासिन, जेंटामाइसिन और टोबैमाइसिन सहित इरिथ्रोमाइसिन या एमिनोग्लाइकोसाइड एंटीबायोटिक्स जैसी कुछ जीवाणु नाशक दवाइयां
    • कुछ मूत्रवर्धक गुर्दे के एक क्षेत्र में काम करते हैं, जिनमें फ़्यूरोसेमाइड और एथाक्राइननिक एसिड शामिल हैं।
  • स्वास्थ्य संबंधी कारक जैसे समय से पहले जन्म, जन्म के समय कम वजन या पहले से कोई संक्रमण या बीमारी

कम उम्र में इलाज प्राप्त करने और/या कीमोथेरेपी या रेडिएशन की अधिक तेज़ खुराक से भी बहरेपन की संभावना बढ़ जाती है।

ओटोटॉक्सिक दवाएं, ड्रग्स कान को नुकसान पहुंचा सकती हैं, इसके परिणामस्वरूप बहरापन हो सकता है। ट्यूमर के प्रभाव से भी बहरापन हो सकता है। नियमित रूप से सुनने की शक्ति की जांच से किसी भी विकासशील समस्याओं की पहचान करने में मदद मिल सकती है।

ओटोटॉक्सिक दवाएं, ड्रग्स कान को नुकसान पहुंचा सकती हैं, इसके परिणामस्वरूप बहरापन हो सकता है। ट्यूमर के प्रभाव से भी बहरापन हो सकता है। नियमित रूप से सुनने की शक्ति की जांच से किसी भी विकासशील समस्याओं की पहचान करने में मदद मिल सकती है।

कान और सुनने की शक्ति

कान के तीन मुख्य भाग होते हैं:

  • बाहरी कान – ध्वनि तरंगें बाहरी कान के माध्यम से ही कान में प्रवेश करती हैं। यह कान के पर्दे तक ध्वनि को पहुंचाने के लिए एक नलीनुमा मार्ग की तरह काम करता है, जो बाहरी और मध्य कान को अलग करता है।
  • मध्य कान – मध्य कान हवा से भरा हुआ एक कक्ष होता है। कक्ष के अंदर, 3 तीन छोटी हड्डियां एक श्रृंखला बनाती हैं जो कि कान के पर्दे को आंतरिक कान से जोड़ती हैं। ये हड्डियां मैलेलस इनकस और स्टेप्स हैं। ध्वनि तरंगों से कंपन होता है, जो कि कान के पर्दे से मध्य कान की हड्डियों से होते हुए आंतरिक कान तक जाती हैं।
  • आंतरिक कान – आंतरिक कान में तरल पदार्थ से भरे कर्णावर्त होते हैं। छोटे तंत्रिका अंत को संवेदी लोम कोशिका कहा जाता है, यह तंत्रिका कर्णावर्त्त को जोड़ती है। लोम कोशिकाएं ध्वनि तरंगों को तंत्रिका आवेगों में बदलती हैं। ये संकेत सुनने से संबंधित नस से मस्तिष्क तक जाते हैं। मस्तिष्क नस (तंत्रिका) संकेतों को संसाधित करते हैं और ध्वनि का अर्थ बनाते हैं।

बहरेपन के प्रकार

बचपन में होने वाले कैंसर के मरीजों और कैंसर से बचे लोगों में बहरेपन के विभिन्न प्रकार को देखा जा सकता है। कीमोथेरेपी के कारण सुनने की समस्याएं दोनों कानों को प्रभावित कर सकती हैं। हालांकि, सर्जरी या रेडिएशन के बाद बहरापन एक या दोनों कानों में हो सकता है, यह विशिष्ट प्रकार की क्षति पर निर्भर करता है। कुछ मरीजों के लिए, समय के साथ सुनने की शक्ति में सुधार हो सकता है। कई मरीजों में बहरापन अक्सर स्थायी होता है और शायद उम्र के साथ स्थिति खराब हो सकती है। कुछ ठीक हुए लोगों को इलाज समाप्त होने के महीनों या वर्षों बाद सुनने की समस्याएं शुरू हो सकती हैं। इन समस्याओं को देर से दिखाई देने वाले प्रभाव के रूप में जाना जाता है। बहरेपन के प्रकार को समझना, देखभाल और निगरानी की योजना बनाने में मदद के लिए महत्वपूर्ण होता है।

प्रवाहकीय बधिरता
जब बाहरी या मध्य कान में रुकावट या क्षति होती है, तो इस प्रकार का बहरापन होता है। द्रव, मोम या सूजन आवाज को सामान्य रूप से पहुँचने से रोक सकती है, इससे लगता है कि आवाज़ दबाई जा रही है। कान का पर्दा या मध्य कान की हड्डियां भी कठोर या क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। संक्रमण, प्रवाहकीय बधिरता का एक सामान्य कारण हो सकता है। रेडिएशन थेरेपी से एक या दोनों कानों में प्रवाहकीय बधिरता हो सकती है।

संवेदी स्नायविक बधिरता
आंतरिक कान या सुनने से संबंधित नर्व (श्रवण तंत्रिका) या मस्तिष्क (तंत्रिका) की लोम कोशिकाओं को नुकसान से संवेदी स्नायविक बधिरता होती है।

  • कीमोथेरेपी कर्णावर्त के तरल पदार्थ में जा सकती है, जहां पर लोम कोशिकाओं द्वारा अवशोषित किया जाता है। कुछ प्रकार की कीमोथेरेपी दवाई लोम कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है। जब संवेदी लोम कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है, तो कंपन लोम कोशिकाओं तक पहुंचता है, लेकिन वे मस्तिष्क को ध्वनि संकेत नहीं भेज सकते हैं। आमतौर पर हाई फ्रीक्वेंसी ध्वनियों को प्रसारित करने वाली लोम कोशिकाएं पहले क्षतिग्रस्त होती हैं। यदि क्षति जारी रहती है, तो लो-पिच वाली ध्वनियों को सुनने की क्षमता खराब हो सकती है।
  • जहां पर रेडिएशन दिया गया है, उसके आधार पर रेडिएशन लोम कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है या नसों या मस्तिष्क के उन कुछ हिस्सों को नुकसान पहुंचा सकता है, जो ध्वनियों का अर्थ लगाते हैं। जिन बच्चों को कमजोर क्षेत्रों में 30 ग्रे (Gy) से अधिक रेडिएशन की खुराक मिलती है, उन्हें ज़्यादा खतरा होता है।
  • सर्जरी भी नसों या सुनने की शक्ति से जुड़े मस्तिष्क के हिस्सों को नुकसान पहुंचा सकती है। सूजन या ट्यूमर का दबाव कभी-कभी नसों को ठीक से काम करने से रोक सकता है।

बचपन में होने वाले कैंसर के मरीजों में बहरापन प्रवाहकीय, संवेदी स्नायविक या दोनों हो सकता है। प्रवाहकीय बधिरता समय के साथ सुधर सकती है, यदि समस्या का कारण, जैसे द्रव या सूजन को हटा दिया जाए। संवेदी स्नायविक बधिरता स्थायी रहने की संभावना होती है, विशेषकर अगर कीमोथेरेपी या रेडिएशन से लोम कोशिकाएं या नसें क्षतिग्रस्त हो गई हों।

बहरेपन की समस्या के लिए सहायता

बहरेपन के जोखिम वाले मरीजों में सुनने की शक्ति की जांच ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा की जानी चाहिए। सामान्य प्रकार के सुनने की शक्ति की जांच का ऑडियोलॉजिकल मूल्यांकन होता है, इसमें मरीज ईयरफ़ोन के माध्यम से विभिन्न ध्वनियों को सुनता है। प्रत्येक कान में कौन-सी आवाज और पिच सुनाई पड़ता है, ऑडियोलॉजिस्ट उसे रिकॉर्ड करता है। सुनने के टेस्ट में परिणामों को दर्ज किया जाता है और उसकी तुलना सामान्य सुनने की शक्ति के अपेक्षित स्तरों से की जाती है। इस जांच का इस्तेमाल समय के साथ सुनने की शक्ति को मॉनिटर करने के लिए भी किया जाता है। ध्वनि की प्रतिक्रिया में मस्तिष्क के तरंगों की निगरानी करके भी सुनने की शक्ति की जांच की जा सकती है। इस जांच को सुनने से संबंधित ऑडिटरी ब्रेनस्टेम रिस्पॉन्स (एबीआर) कहा जाता है। जोखिम कारकों और बहरेपन के लक्षणों के आधार पर ऑडियोलॉजिस्ट आगे की जांच और मॉनिटरिंग की सलाह देगा।

सुनने की शक्ति के विकार में मदद करने के लिए विभिन्न प्रकार की सेवाएं और सहायक उपकरण उपलब्ध हैं। इनमें शामिल है:

  • श्रवण यंत्र – श्रवण यंत्र वे उपकरण होते हैं, जो ध्वनि को तेज बनाते हैं। छोटे बच्चों के लिए कान के पीछे वाले मॉडल का सुझाव दिया जाता है। ये इस्तेमाल करने में आसान होते हैं और कान का विकास होने देते हैं। किशोरावस्था वाले बच्चों और वयस्कों के लिए छोटा श्रवण यंत्र एक अच्छा विकल्प हो सकता है। बच्चों के श्रवण यंत्र के बारे में ज़्यादा जानें।
  • कर्णावर्त तंत्रिका प्रत्यारोपण – कर्णावर्त तंत्रिका प्रत्यारोपण सर्जिकल रूप से प्रत्यारोपित उपकरण होते हैं, जो श्रवण तंत्रिका को उत्तेजित करते हैं। हालांकि, ये सभी प्रकार के बहरेपन में काम नहीं करते हैं। कर्णावर्त तंत्रिका प्रत्यारोपण के बारे में ज़्यादा जानें।
  • हियरिंग असिस्टिव टेक्नोलॉजी सिस्टम्स (एचएटीएस) – इसे सुनने में मदद करने वाला यंत्र भी कहा जाता है, इन प्रणालियों में शामिल हैं: फ़्रीक्वेंसी मॉड्यूलेशन (एफएम) सिस्टम, इन्फ्रारेड सिस्टम, इंडक्शन लूप सिस्टम, टेलीफ़ोन एम्पलीफायर्स, टेक्स्ट टेलीफ़ोन और अलर्टिंग डिवाइसेस। ये सिस्टम सार्वजनिक स्थलों (जैसे स्कूल, चर्च या थिएटर) में या घरेलू इस्तेमाल के लिए उपलब्ध हो सकते हैं। प्रत्येक प्रणाली को अलग तरीके से डिज़ाइन किया गया है, लेकिन लक्ष्य ध्वनि को एक अलग रूप में बदलना है जैसे कि टेक्स्ट। सुनने की शक्ति में मदद करने के लिए सहायक तकनीक के बारे में अधिक जानें।
  • अतिरिक्त संचार विधियाँ – ज़्यादा गंभीर बहरेपन की समस्या वाले लोगों के लिए स्पीच पढ़ना और सांकेतिक भाषा मददगार हो सकती है। संचार में सहायता के लिए स्कूलों और अस्पतालों जैसी जगहों पर साइन लैंग्वेज इंटरप्रेटर (सांकेतिक भाषांतरकार) उपलब्ध हो सकते हैं।

एक ऑडियोलॉजिस्ट मरीजों को उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप सबसे अच्छी सेवाओं और उपकरणों को प्रदान करने में उनकी मदद कर सकता है। यह महत्वपूर्ण है कि माता-पिता यह सुनिश्चित करें कि बच्चे अपने श्रवण उपकरणों का ठीक से उपयोग करें और सुनने की शक्ति को मॉनिटर करने के लिए फालो-अप अपॉइंटमेंट लें। बहरापन स्कूल, काम और रिश्तों सहित विभिन्न क्षेत्रों में समस्याओं से जुड़ा हुआ है। हालाँकि, श्रवण यंत्रों को पहनने और या अन्य उपकरणों और उपलब्ध सेवाओं (जैसे इंडिविजुअल एज्यूकेशन प्लान्स -आईईपी) का इस्तेमाल करके बच्चों को कैंसर के बाद जीवन में सफलता का सबसे अच्छा मौका दे सकते हैं।

मरीजों और परिवारों के लिए सुझाव

अपने जोखिम को जानें। अपनी देखभाल टीम से कैंसर के इलाजों (प्राप्त खुराक सहित) और बहरेपन के अन्य कारकों के बारे में बात करें।

जांच करवाएं और लक्षणों पर नज़र रखें। बेसलाइन सुनने की शक्ति की जांच करें और सुनने की शक्ति में परिवर्तनों को जल्दी पकड़ने के लिए नियमित रूप से निगरानी करें। बहरेपन के लक्षण आसानी से अनदेखे किए जा सकते हैं। इस बात की जानकारी रखें कि आपके चिकित्सक या ऑडियोलॉजिस्ट को किसी भी समस्या के लिए क्या देखना है और क्या नहीं।

सुनने में मदद करने वाले सहायक उपकरण और सेवाओं का इस्तेमाल करें। बहरेपन के नुकसान के कुछ नकारात्मक प्रभावों को उचित उपकरणों और सेवाओं का इस्तेमाल करके रोका जा सकता है। सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से ऑडियोलॉजिस्ट से मिलें और सलाह का पालन करें।

अपने सुनने की शक्ति को सुरक्षित रखें। प्रतिदिन का शोर आंतरिक कान की लोम कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है। तेज़ आवाज़ से सुनने की शक्ति को जल्दी नुकसान पहुंच सकता है और समय के साथ-साथ कम आवाज़ में भी नुकसान पहुंच सकता है। संगीत, ट्रैफ़िक, स्पोर्टिंग इवेंट्स और लॉनमूवर्स या कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट जैसे तेज़ आवाज़ वाले संसाधनों के संपर्क में आने का ध्यान रखें।

माता-पिता के लिए: अपने बच्चे के जोखिम को समझना

बहरेपन के जोखिम के बारे में आपके चिकित्सक से बात करने में मदद करने के लिए यहां पर एक त्वरित सूची दी गई है। जिन बच्चों को सिस्प्लेटिन, कार्बोप्लैटिन या सिर या गर्दन को रेडिएशन प्राप्त होता है, उन्हें इलाज पूरा होने के बाद सलाह के अनुसार फॉलो अप जांच के साथ कम से कम एक बार सुनने की शक्ति की जांच करवानी चाहिए।

जोखिम कारक
  मेरे बच्चे को सिस्प्लेटिन या कार्बोप्लैटिन कीमोथेरेपी मिली है।
  मेरे बच्चे को सिर या गर्दन पर रेडिएशन थेरेपी दी गई है।
  मेरे बच्चे को एमिनोग्लाइकोसाइड एंटीबायोटिक्स (एमिकासिन, जेंटामाइसिन, टोबैमाइसिन) या एरिथ्रोमाइसिन मिला है।
  मेरे बच्चे को कुछ मूत्रवर्धक जैसे कि फ़्यूरोसेमाइड या एथाक्रिनिक एसिड मिला है।
  मेरे बच्चे की उम्र 4 चार साल से कम थी, जब कैंसर का इलाज शुरू हुआ था।
  मेरे बच्चे में अन्य जोखिम भरे कारक भी हैं, जैसे कि समय से पहले जन्म होना, जन्म के समय कम वजन, पहले से ही सुनने की समस्याएं, बार-बार कान में संक्रमण, मैनिंजाइटिस, स्कार्लेट बुखार (लाल बुखार) या गुर्दे का खराब कार्य।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचने वाले लोगों में बहरेपन के जोखिम कारक होते हैं, उनके प्राथमिक चिकित्सक के पास उनकी वार्षिक जांच होनी चाहिए और सुनिश्चित करें कि सुनने की शक्ति की जांच नियमित फॉलो-अप देखभाल में शामिल हों।

 

बहरेपन के बारे में अतिरिक्त संसाधन


समीक्षा की गई: अगस्त, 2018