आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

यौवन की समस्याएं

यौवन क्या है?

यौवन जीवन का वह चरण है, जब बच्चा ऐसे शारीरिक और हार्मोनल परिवर्तनों से गुजरता है जो वयस्कता में अवस्थांतर को दर्शाते हैं। ये परिवर्तन इनके परिणामस्वरूप होते हैं:

  • पीयूष ग्रंथि में सेक्स हार्मोन का बनना
  • प्रजनन अंगों का विकसित होना, जैसे कि पुरुषों में वीर्यकोष और महिलाओं में अंडाशय

यौवन सामान्य रूप से लड़कियों में 8-13 वर्ष और लड़कों में 9-14 वर्ष की आयु के बीच शुरू होता है। यह 2-5 साल के बीच तक रह सकता है। यौवन का समय और अवधि, किसी व्यक्ति की आनुवंशिक पृष्ठभूमि से प्रभावित होती है।

यौवन के दौरान शारीरिक परिवर्तनों के साथ, किशोरावस्था से पहले वाले बच्चे और किशोरावस्था वाले बच्चों को मधुर संबंधों और सेक्स में अधिक रुचि होने लगती है।

यौवन के लक्षण

यौवन के विभिन्न स्वरूप हो सकते हैं।

लड़कियों में, यह आमतौर पर स्तन के “कोंपल” के विकास के साथ शुरू होता है। अन्य संकेत में ये शामिल हैं:

  • जघन और अन्य शरीर के बालों का विकास
  • शरीर की गंध
  • माहवारी की शुरुआत
  • मुँहासा

लड़कों में यह आमतौर पर वीर्यकोष और पेनिस (लिंग) के विस्तार के साथ शुरू होता है।

अन्य संकेत में ये शामिल हैं:

  • जघन बाल, शरीर के अन्य बाल और चेहरे के बालों का विकास
  • शरीर की गंध
  • मांसपेशी का विकास
  • विकास की गति
  • मुँहासा
  • आवाज का भारी होना

कैंसर और उसका इलाज यौवन को कैसे प्रभावित कर सकता है

कैंसर और कैंसर के इलाज का यौवन पर प्रभाव एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है।

यह काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि इलाज कब होता है और थेरेपी किस प्रकार की है। अक्सर इलाज का यौवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन बचपन में होने वाले कुछ कैंसर और बचपन में होने वाले कैंसर के इलाज के कारण बच्चों में जल्द ही यौवन आ सकता है। अन्य मामलों में, इलाज यौवन में देरी या रुकावट या यौवन आने में विफलता का कारण हो सकता है।

जोखिम कारक

यौवन पर प्रभाव के जोखिम कारकों में ये शामिल हैं:

  • मस्तिष्क, श्रोणि का क्षेत्र या यौन अंगों की सर्जिकल प्रक्रिया
  • मस्तिष्क या श्रोणि के क्षेत्र में रेडिएशन
  • अल्कायलेटिंग ऐजंट और कुछ अन्य दवाइओं के साथ कीमोथेरेपी
  • सेक्स हार्मोन का उत्पादन करने वाले जर्म सेल ट्यूमर

जल्दी यौवन आना

जल्दी यौवन आने के लक्षण, सामान्य यौवन के लक्षण के समान होते हैं, लेकिन वे समय से पहले आते हैं—लड़कियों में 8 साल की उम्र से पहले और लड़कों में 9 साल की उम्र से पहले और त्वरित गति से।

जल्दी यौवन तब आता है, जब हाइपोथेलेमस और पीयूष ग्रंथि (लड़कियों में) अंडाशय या लड़कों में वीर्यकोष को सामान्य से पहले महिला या पुरुष हार्मोन बनाने के लिए संकेत देते हैं। यह तब भी हो सकता है, जब कुछ ट्यूमर के प्रकार अतिरिक्त हार्मोन को पैदा करते हैं।

जल्दी यौवन आना:

  • जल्दी यौवन आने के कारण अपेक्षा से पहले यौन अंगों का विकास हो जाता है
  • शायद हड्डी का विकास तेजी से हो सकता और हड्डी के विकास में प्लेट समय से पहले बंद हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप कद-काठी छोटी हो सकती है।

यौवन में देरी

यौवन में देरी तब होती है, जब यौवन उम्र की सामान्य सीमा के भीतर शुरू नहीं होता है। विलंबित यौवन वाले कई बच्चे अंततः एक सामान्य रूप से सामान्य यौवन की प्रक्रिया से गुजरेंगे, बस बड़ी उम्र में।

कुछ मामलों में, यौवन जो पहले ही शुरू हो चुका होता है, कुछ समय के लिए रुक सकता है। इस स्थिति को यौवन में रुकावट कहा जा सकता है।

महिलाओं में, यह माहवारी को प्रभावित कर सकता है। माहवारी देर से शुरू हो सकती है, अनियमित माहवारी और/या जल्दी रजोनिवृत्ति (माहवारी का बंद होना) हो सकती है।

पुरुषों में यह टेस्टोस्टेरोन के उत्पत्ति को प्रभावित कर सकता है।

यौवन में प्रवेश करने में विफलता

कुछ बच्चों में यह स्थिति लंबे समय तक बनी रह सकती है, जो युवावस्था में पहुंचने से रोक सकती है।

देखभाल टीम यौवन से संबंधित समस्याओं से निपटने के लिए देखभाल योजना बनाने के लिए कैंसर से बचने वाले लोगों के साथ काम करेगी।

कैंसर से बचने वाले लोग इससे बचने के लिए क्या कर सकते हैं

यदि कैंसर से बचने वाले लोगों में जल्दी यौवन आने या यौवन में देरी के लिए जोखिम कारक हैं, तो निम्नलिखित जांच करवाने का सुझाव दिया जा सकता है:

  • एफएसएच (फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन), एलएच (ल्यूटिनकारी हार्मोन) और सेक्स हार्मोन (एस्ट्राडियोल या टेस्टोस्टेरोन) के स्तर के लिए खून की जाँच
  • अस्थि आयु एक्स-रे (यह एक्स-रे हड्डी के विकास की आयु या परिपक्वता को मापता है)

यदि समस्या का पता चल जाता है, तो चिकित्सक मरीज को एंडोक्राइन विशेषज्ञ के पास भेज सकता है। जल्दी से यौवन आने के मामलों में, अस्थायी रूप से यौवन को रोकने और हड्डी की परिपक्वता की दर को कम करने के लिए दवाइओं का उपयोग किया जा सकता है। देरी से यौवन आने के मामलों में, हार्मोन रिप्लेसमेंट उपचार को यौवन को उत्तेजित करने के लिए निर्धारित किया जा सकता है।

कभी-कभी उनकी उम्र में दूसरों की तुलना में पहले या बाद में यौवन का अनुभव करना मुश्किल हो सकता है। कैंसर से बचने वाले लोगों को मनोविज्ञानी (साइकोलॉजिस्ट) या परामर्शदाता के पास भी भेजा जा सकता है। जल्दी या विलंबित यौवन के मनोवैज्ञानिक प्रभावों का मूल्यांकन और प्रबंधन करना महत्वपूर्ण होता है।


समीक्षा की गई: फरवरी, 2019