आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

केंद्रीय शिरापरक कैथेटर

केंद्रीय शिरापरक कैथेटर क्या होते हैं?

कैंसर के इलाज में आमतौर पर कई प्रकार के इंजेक्शन, खून निकालना, और नसों के ज़रिए दवाएं और द्रव पदार्थ देना शामिल होता है। इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, कई बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में उनकी त्वचा के नीचे नस तक जाने के लिए एक कैथेटर (एक पतली, लचीली प्लास्टिक ट्यूब) लगा हो सकता है।

इलाज के शुरूआती कुछ दिनों में, किसी रोगी में एक पेरिफ़ेरल अंतः शिरा (नसों के लिए) (आईवी) लाइन (पीआईवी) अस्थायी उपयोग के लिए लग सकता है। पेरिफ़ेरल आईवी एक छोटा कैथेटर होता है जिसे सामान्य रूप से हाथ या कोहनी के पास बांह के अंदर नस में डाला जाता है। इस तरह का आईवी कैथेटर बहुत कम समय के उपयोग के लिए होता है और इसे कुछ दिनों बाद बदल दिया जाना चाहिए। साथ ही, नस का आकार छोटा होने के कारण, कुछ दवाइयां पेरिफ़ेरल आईवी के ज़रिए नहीं दी जा सकती है।

किसी केंद्रीय शिरापरक कैथेटर का उपयोग खून के नमूने लेने, कीमोथेरेपी करने, द्रव पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स देने, पैरेंटरल पोषण प्रदान करने और एंटीबायोटिक व अन्य दवाएं देने के लिए किया जा सकता है। यह चित्र एक सब्क्यूटेनियस पोर्ट का उदाहरण दर्शाता है।

किसी केंद्रीय शिरापरक कैथेटर का उपयोग खून के नमूने लेने, कीमोथेरेपी करने, द्रव पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स देने, पैरेंटरल पोषण प्रदान करने और एंटीबायोटिक व अन्य दवाएं देने के लिए किया जा सकता है। यह चित्र एक सब्क्यूटेनियस पोर्ट का उदाहरण दर्शाता है।

बचपन में होने वाले कैंसर के इलाज के दौरान एक अतः शिरा (नसों के लिए) नली को बड़ी नस में डाला जा सकता है जो कि हृदय तक जाता है। इस तरह के कैथेटर को केंद्रीय शिरापरक कैथेटर (अक्सर “सेंट्रल लाइन”) कहा जाता है। दवाएं, द्रव पदार्थ, रक्त उत्पाद और पोषण देने के लिए एक केंद्रीय शिरापरक कैथेटर का उपयोग किया जा सकता है। केंद्रीय शिरापरक कैथेटर के ज़रिए कुछ खून के नमूने भी लिए जा सकते हैं। केंद्रीय शिरापरक कैथेटर सुई लगाने की आवश्यकता को कम करता है जिससे रोगी और उसके परिवार को होने वाली परेशानी और चिंता कम हो जाती है। केंद्रीय शिरापरक कैथेटर इलाज की अवधि के दौरान अपनी जगह पर अक्सर बना रहता है (महीनों से लेकर वर्षों तक)। अगर संक्रमण या अन्य जटिलता होती है, तो डिवाइस को निकाला जा सकता है और ज़रूरत पड़ने पर फिर से डाला भी जा सकता है।

केंद्रीय शिरापरक कैथेटर के उपयोग:

  • खून के नमूने लेना
  • कीमोथेरेपी देना
  • द्रव पदार्थ और इलेक्ट्रॉलाइट देना
  • पैरेंटरल पोषण प्रदान करना
  • एंटीबायोटिक और अन्य दवाएं देना
 

केंद्रीय शिरापरक कैथेटर के प्रकार

बचपन में होने वाले कैंसर रोगियों में उपयोग किए जाने वाले केंद्रीय शिरापरक कैथेटर के 3 प्रमुख प्रकार होते हैं:

  1. पेरिफ़ेरली इन्सर्टेड सेंट्रल कैथेटर (पिक लाइन)
  2. टनल्ड सेंट्रल लाइन
  3. सब्क्यूटेनियस पोर्ट (त्वचा के नीचे पोर्ट)
एक सब सब्क्यूटेनियस या “सब क्यू” पोर्ट केंद्रीय शिरापरक कैथेटर होता है जो पूरी तरह से त्वचा के नीचे होता है। ह्यूबर सुई की मदद से पोर्ट के ज़रिए दवा दी जाती है। इस फ़ोटो में, कैंसर के रोगी को पोर्ट लगाया गया है और एक नर्स उस जगह पर ड्रेसिंग कर रही है।

एक सब सब्क्यूटेनियस या “सब क्यू” पोर्ट केंद्रीय शिरापरक कैथेटर होता है जो पूरी तरह से त्वचा के नीचे होता है। ह्यूबर सुई की मदद से पोर्ट के ज़रिए दवा दी जाती है।

केंद्रीय शिरापरक कैथेटर के प्रकार उनके डाले जाने वाले स्थान और उनके उपयोग के तरीके पर निर्भर करते हुए अलग-अलग होते हैं। प्रत्येक रोगी के लिए कौन सा कैथेटर श्रेष्ठ है इसका निर्धारण कई कारकों द्वारा किया जाता है। इनमें शामिल है:

  • दवाओं और अन्य इलाजों के प्रकार और संख्या
  • इलाज की अवधि
  • उपयोग की बारंबारता
  • थेरेपी की तीव्रता
  • बच्चे की उम्र, आकार और स्वास्थ्य स्थिति
  • बच्चे की गतिविधि का स्तर
  • कैथेटर के रखरखाव के लिए कितनी देखभाल की ज़रूरत होती है
  • संक्रमण और अन्य जटिलताओं का जोखिम

एक चिकित्सक प्रक्रिया के बारे में विस्तार से बताएगा साथ ही जोखिम और लाभों पर चर्चा करेगा। केंद्रीय शिरापरक कैथेटर को लेकर सबसे बड़ा जोखिम संक्रमण होना है। संक्रमण के जोखिम को कम करने और लाइन के ठीक से काम करने के लिए लाइन से संबंधित सभी देखभाल निर्देशों का पालन करना ज़रूरी है।


समीक्षा की गई: जून 2018