आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

लंबर पंक्चर

लंबर पंक्चर एक आम चिकित्सीय प्रक्रिया है जिसका उपयोग कभी-कभी बचपन में होने वाले कैंसर के रोग की पहचान करने में किया जाता है। इसे “एलपी” या “रीढ़ की हड्डी के अंदर से पानी निकालना” भी कहा जाता है।

प्रक्रिया के दौरान, एक चिकित्सक, नर्स प्रैक्टिशनर या अन्य योग्य मेडिकल पेशेवर एक पतली सुई का उपयोग करते हुए रीढ़ की हड्डी से द्रव का एक छोटा नमूना निकालता है।

इस द्रव को रीढ़ की हड्डी में पानी या  सीएसएफ कहा जाता है। यह मस्तिष्क और रीढ़ के अंदर की नस के आसपास होता है और उसकी सुरक्षा करता है। सीएसएफ़ के परीक्षण से पता चल सकता है कि रोगी को कोई बीमारी या संक्रमण है या नहीं है। शरीर सीएसएफ़ को लगातार बनाता रहता है। लंबर पंक्चर के दौरान निकाली गई छोटी सी मात्रा को रोगी का शरीर जल्दी से वापस बना लेता है।

यह प्रक्रिया कैसे होती है

  • लंबर पंक्चर के लगभग 1 घंटे पहले, एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता परीक्षण के स्थान पर सुन्न करने के लिए लगाई जाने वाली क्रीम लगा सकता है। अधिकांश मामलों में, रोगी को परीक्षण के दौरान नींद में रहने के लिए दवाई भी दी जाती है।
  • अगर रोगी होश में होता है, तो उसे परीक्षण वाली जगह पर सुन्न करने वाली तरल दवाई का एक इंजेक्शन दिया जा सकता है। रोगी या तो अपनी एक तरफ लेट जाएगा या बिस्तर के किनारे बैठ जाएगा।
  • स्वास्थ्य सेवा प्रदाता ठीक जगह पर सुई डालने के लिए रोगी की पीठ का निचला भाग छूकर देखेगा। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता किसी एंटीसेप्टिक से रोगी की पीठ को साफ़ करेगा। यह शायद ठंडा लगेगा। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता रोगी की पीठ पर “ड्रेप” कहलाने वाली एक प्लास्टिक या कपड़े का शीट रख सकता है, ताकि परीक्षण की जाने वाली जगह साफ़ दिखती रहे।
  • फिर, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता सुई को सही जगह पर डालेगा। खोखली सुई के अंदर एक और सुई होती है। जब बड़ी सुई सही स्थान पर होती है, तो चिकित्सक छोटी सुई को बाहर निकाल लेता है। इस प्रक्रिया से पानी टेस्ट ट्यूब में आ जाता है। पानी को एकत्रित करने में 10 मिनट या उससे कम समय लगता है। फिर स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता सुई को बाहर निकालता है, जगह को साफ़ करता है और एक पट्टी लगा देता है।
लंबर पंक्चर के लिए, रीढ़ की हड्डी में सुई लगाई जा रही है और रोगी करवट लेकर लेटा है

रोगी या तो अपनी एक तरफ लेट जाएगा या बिस्तर के किनारे बैठ जाएगा।

रेखा चित्र में दिखाया जा रहा है कि रीढ़ की हड्डी का पानी लेने के लिए स्पाइनल सुई डाली गई है।

रीढ़ की हड्डी का पानी के परीक्षण से पता चल सकता है कि रोगी को कोई बीमारी या संक्रमण है या नहीं।

रोगी को कैसा महसूस होता है

  • अगर वह होश में है, तो रोगी को एक हल्की चिकोटी काटने जैसा और थोड़ी सी परेशानी महसूस हो सकती है।
  • कुछ रोगी बताते हैं कि लंबर पंक्चर प्रक्रिया में दर्द नहीं होता है।


समीक्षा की गई: जून 2018