आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

एंटरल पोषण (नली के द्वारा पोषण)

एंटरल पोषण क्या है?

कैंसर के इलाज या उसके ठीक होने के दौरान रोगियों को वे सभी कैलोरी और पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं जो उन्हें मुंह से लेने की जरूरत होती है। नली के द्वारा पोषण या एंटरल पोषण, पेट या आंत में डाली ट्यूब के माध्यम से तरल या नुस्खे के रूप में (जैसे, पाउडर वाला बेबी फ़ूड) पोषण देता है। खिलाने वाली नली के माध्यम से कुछ दवाइयां भी दी जा सकती हैं।

आमतौर पर दो तरह से खिलाने वाली नली लगाई जाती हैं:

  1. नाक के माध्यम से (ऑपरेशन के बगैर)
  2. पेट में एक छोटा सा कट या चीरा (ऑपरेशन) के माध्यम से

सबसे आम खिलाने वाली नलियों में नासोगैस्ट्रिक ट्यूब (एनजी ट्यूब) और गैस्ट्रोस्टोमी ट्यूब (जी ट्यूब) शामिल हैं। पाचन प्रणाली में ट्यूब कैसे और कहां रखा जाता है, इसके आधार पर कई प्रकार के खिलाने वाली नली होते हैं।

कभी-कभी मरीज पर्याप्त कैलोरी या प्रोटीन मुंह से नहीं ले पाता है। इसमें किसी की गलती नहीं है। बच्चों को यह समझाना जरूरी है कि  इस तरह का पोषण सजा नहीं है। ज्यादातर बच्चों को खिलाने वाली नली से कोई परेशानी नहीं होती है। बच्चे को ट्यूब छूने या खींचने से रोकना बहुत जरूरी है। जलन या संक्रमण को रोकने के लिए ट्यूब स्थान के आसपास त्वचा की देखभाल के लिए निर्देशों का पालन करें।

कैंसर से ग्रस्त नवजात बच्चा भी एनजी ट्यूब देखकर सहज रहता है

नाक के माध्यम से और गले से होते हुए पेट या छोटी आंत में एक नासोगैस्ट्रिक ट्यूब डाली जाती है। 

खिलाने वाली नलियों के प्रकार

खिलाने वाली नली पेट या छोटी आंत से जुड़ती है। रोगी के फ़ॉर्मूला सहन करने और पोषक तत्वों को पचाने की क्षमता को देख कर यह तय किया जायेगा कि ट्यूब कहां लगेगी। जहाँ तक संभव हो ट्यूब को अधिक सामान्य पाचन के लिए पेट में रखा जाता है।

खिलाने वाली नली के 5 प्रकार हैं:

नासोगैस्ट्रिक ट्यूब (एनजी ट्यूब)। एनजी ट्यूब नाक से पेट में डाली जाती है। ट्यूब गले के नीचे और भोजन-नली के माध्यम से पेट में गुजरती है।

नासोजेजुनल ट्यूब (एनजे ट्यूब)। एक एनजे ट्यूब एनजे ट्यूब के समान है, लेकिन यह ट्यूब पेट से छोटी आंत तक जाती है।

गैस्ट्रोस्टोमी ट्यूब (जी ट्यूब)। जी ट्यूब को त्वचा में एक छोटा चीरा लगाकर डाला जाता है। यह ट्यूब पेट की दीवार से होकर सीधे पेट में जाती है।

गैस्ट्रोस्टोमी-जेजुनोस्टॉमी ट्यूब (जीजे ट्यूब)। जीजे ट्यूब को जी ट्यूब की तरह पेट में डाला जाता है, लेकिन यह ट्यूब पेट से होकर छोटी आंत तक पहुंचती है।

जेजुनोस्टॉमी ट्यूब (जे ट्यूब)। जे ट्यूब पेट की दीवार के माध्यम से सीधे छोटी आंत में जाती है और इस खिलाने वाली नली को लगाने के लिए एक छोटा चीरा लगाते हैं।

एनजी और एनजे ट्यूब सहित नाक से खिलाने वाली नली का इस्तेमाल आमतौर पर तब किया जाता है जब नली के द्वारा पोषण कम समय के लिए जरूरी होती है, आमतौर पर 6 सप्ताह से कम। ट्यूब नाक के एक छेद से बाहर निकलती है और मेडिकल टेप का उपयोग करके त्वचा पर लगाया जाता है। एनजी और एनजे ट्यूब के कई फायदे हैं  जैसे कि संक्रमण के कम खतरा और बदलने में आसानी। ट्यूब को चेहरे पर टेप के साथ ही लगाना चाहिए और ये यह कुछ बच्चों को परेशान कर सकता है। कीमोथेरेपी वजह से अन्य बच्चों को नाक की नलियों में त्वचा और श्लेष्मा झिल्ली में जलन के कारण तकलीफ हो सकती है

ऑपरेशन से लगाई गई ट्यूब (जी ट्यूब, जे ट्यूब, जीजे ट्यूब) का इस्तेमाल लंबे समय के लिए किया जाता है और अगर बच्चे को नाक में ट्यूब होने से परेशानी हो। पेट पर जहां से ट्यूब डाला जाता है उस खुली हुई जगह को स्टोमा कहा जाता है। शरीर के बाहर की तरफ मरीजों में एक लंबी ट्यूब या एक “बटन” या एक कम दिखने वाला ट्यूब होती है। ठीक हो जाने के बाद स्टोमा में दर्द नहीं होना चाहिए और बच्चों को काफी नियमित काम करने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

ठीक हो जाने के बाद, स्टोमा में दर्द नहीं होना चाहिए। बच्चों को काफी नियमित काम करने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए। इस फ़ोटो में जी ट्यूब वाला एक बच्चा अपनी माँ के साथ पगडंडी पर चलते-चलते कीड़ों को ढूंढ रहा है।

ठीक हो जाने के बाद, स्टोमा में दर्द नहीं होना चाहिए। बच्चों को काफी नियमित काम करने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

नली के द्वारा पोषण के दुष्प्रभाव

नली के द्वारा पोषण के सबसे आम दुष्प्रभाव जी मिचलाना, उल्टी, पेट में ऐंठन, दस्त, कब्ज और सूजन हैं।

अन्य संभावित दुष्प्रभावों में निम्न हो सकते हैं:

  • जहाँ ट्यूब लगी है वहाँ संक्रमण या जलन
  • ट्यूब अपनी जगह से हट रही है या निकल रही है
  • फ़ॉर्मूला फेफड़ों में जा रहा है।

देखभाल और फ़ीडिंग के निर्देशों का पालन करके अधिकांश दुष्प्रभावों को रोका जा सकता है।

खिलाने वाली नली वाले बच्चों में पोषण

एक पंजीकृत आहार विशेषज्ञ या पोषण विशेषज्ञ यह सुनिश्चित करता है कि बच्चे की विशिष्ट पोषण की जरूरते पूरी हो बचपन में होने वाले कैंसर से ग्रस्त  बच्चों के लिए खिलाने वाली नली का इस्तेमाल तब किया जाता है जब मरीज़ मुंह से खाने पर ज़रूरी पोषक नहीं ले सकता है। अन्य मरीज़ों को खिलाने वाली नली से सभी पोषक तत्व मिल सकते हैं।

एक फ़ॉर्मूला निर्धारित किया जाएगा जिसमें निम्न होगा:

  • कैलोरी
  • हाइड्रेशन (जलयोजन)
  • कार्बोहाइड्रेट
  • वसा
  • प्रोटीन
  • विटामिन और खनिज

कई मरीज़ों को नियत फ़ॉर्मूला खिलाया जा सकता है। शिशुओं के लिए माँ के दूध को सबसे अधिक प्राथमिकता दी जाती है। अन्य बच्चों को चिकित्सा स्थितियों जैसे एलर्जी, मधुमेह या पाचन समस्याओं के लिए विशेष फॉर्मूले की जरूरत होती है।

परिवार को अपने आहार विशेषज्ञ से सलाह लेते रहनी चाहिए। पोषण की ज़रूरत स्वास्थ्य कारकों और उल्टी या दस्त जैसे दुष्प्रभावों के आधार पर बदल सकती है।

एंटरल फ़ीडिंग देने के तरीके

नली के द्वारा पोषण देने के 3 मुख्य तरीके हैं: बोलस फ़ीडिंग, निरंतर फ़ीडिंग और ग्रेविटी फ़ीडिंग।

बोलस फ़ीडिंग - बोलस फ़ीडिंग में फॉर्मूले की बड़ी खुराक को खिलाने वाली नली के माध्यम से दिन में कई बार दिया जाता है। यह एकदम सामान्य खाने की दिनचर्या जैसा है।

निरंतर फ़ीडिंग - निरंतर फ़ीडिंग में, एक इलेक्ट्रॉनिक पंप का इस्तेमाल करके कई घंटों के अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा फ़ॉर्मूला दिया जाता है। कुछ बच्चों को जी मिचलाना और उल्टी को कम करने में मदद करने के लिए निरंतर फ़ीडिंग की आवश्यकता हो सकती है।

ग्रेविटी फ़ीडिंग - ग्रेविटी फ़ीडिंग में एक फ़ीडिंग बैग को आईवी पोल पर रखा जाता है और फ़ॉर्मूला एक निर्धारित मात्रा में ट्यूब के माध्यम से धीमी गति से टपकता है। मरीज़ के हिसाब से कम या ज़्यादा समय लग सकता है।

घर में एंटरल फ़ीडिंग

खिलाने वाली नली लगे हुए भी बच्चे घर जा सकते हैं। देखभाल करने वाली टीम यह पक्का करेगी कि परिवार को पता हो कि खिलाने वाली नली से कैसे खिलाना है और ट्यूब की देखभाल कैसे करनी है। परिवारों को निम्न तरह की समस्याओं पर नज़र रखनी चाहिए:

  • वजन बढ़ना या घटना
  • उल्टी या दस्त
  • शरीर में पानी की कमी (निर्जलीकरण)
  • संक्रमण

जो उपकरण और सामान परिवार को लगेगा उनमें निम्न शामिल हैं:

  • फ़ॉर्मूला: अधिकांश फ़ॉर्मूला इस्तेमाल करने के लिए तैयार मिलते हैं। कुछ फ़ॉर्मूला पाउडर या तरल के रूप में आते हैं जिन्हें आप पानी के साथ मिलाते हैं। 
  • सिरिंज
  • खिलाने वाली अडैप्टर नली (अगर बच्चे के पास दीर्घकालिक एंटरल पोषण के लिए एक बटन है)
  • फ़ीडिंग पंप (अगर निरंतर फ़ीडिंग  दी जा रही है)
  • ट्यूबिंग के साथ फॉर्मूला बैग (अगर निरंतर फ़ीडिंग दी जा रही है)
  • आईवी पोल (अगर ग्रेविटी फ़ीडिंग दी जा रही है)

घर में एंटरल फ़ीडिंग करते समय ध्यान देने वाली बातें:

  • खाना देने से पहले हमेशा साबुन और पानी से हाथ धोएं।
  • बच्चे का सिर पेट से ऊंचा रखें।
  • 24 घंटे या उससे अधिक समय के लिए रेफ्रिजरेटर में खोलकर रखे गए किसी भी तैयार फ़ॉर्मूले को फेंक दें।
  • कंपाउंड किए गए फ़ॉर्मूले को फ्रिज में रखें और 24 घंटे के बाद फ़ेक दें।
  • खिलाने के लिए तैयार फार्मूला को फ्रिज में न रखें।
  • फ़ीडिंग के दौरान सिरिंज को पूरी तरह से खाली न होने दें।
  • हर इस्तेमाल के बाद गर्म पानी और साबुन के साथ (और एडेप्टर अगर इस्तेमाल किया गया है तो) को धो लें।
  • पोषण देते समय जी मिचलाना, उल्टी, पेट में सूजन या जलन के लक्षण देखें। ऐसा होने पर फ़ीडिंग बंद कर के तुरंत चिकित्सक को बुलाएं।
  • जलन या संक्रमण के संकेत के लिए जहां ट्यूब लगी है वहां के आसपास की त्वचा की जांच करें।


समीक्षा की गई: नवंबर, 2018