आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बच्चों और किशोरों मे खून का कैंसर (ल्यूकेमिया)

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) क्या है?

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया), खून और बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) में होने वाला कैंसर है। यह बच्चों और किशोरों में पाया जाने वाला सबसे आम कैंसर है। अमेरिका में हर साल लगभग 3500- 4000 बच्चों को खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) हो जाता है, और भारत में हर साल लगभग 12000 बच्चों में यह बीमारी पाया जाता है। पाए जाते हैं।

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया), बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) के ठीक से काम न करने पर होता है। बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) हड्डी के अंदर का मुलायम भाग है। यह एक खून की कोशिका फ़ैक्टरी की तरह काम करता है। खून की सारी कोशिकाएँ यहीं बनती हैं। ये खून बनाने वाली कोशिकाओं के रूप में शुरू होती हैं (हेमेटोपोएटिक कोशिकाएँ)। अगर बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) ठीक से काम करता है तो ये खून बनाने वाली कोशिकाएँ ऐसी कोशिकाएँ बन जाती हैं जो अंत में लाल रक्त कोशिकाओंसफेद रक्त कोशिकाओं, और प्लेटलेट्स में बदल जाती हैं।

खून बनाने की प्रक्रिया और उसमे ब्लास्ट कोशिकाएँ उत्पन्न कैसे होती हैं, यह रेखा-चित्र में दिखाया गया है। रेखा-चित्र में ब्लड स्टेम सेल से शुरू होता है। बाईं ओर, यह माइलॉयड स्टेम सेल में विभाजित होती है, जो प्लेटलेट्स, लाल रक्त कोशिकाओं, माइलोब्लास्ट, और मोनोब्लास्ट में विभाजित हो जाती है। माइलोब्लास्ट सफेद रक्त कोशिकाओं में बदल जाती है (जिसे ग्रैन्यूलोसाइट्स भी कहा जाता है) और मोनोब्लास्ट, मोनोसाइट में बदल जाती है। रक्त स्टेम सेल की दाईं शाखा लिम्फॉइड स्टेम सेल में जाती है, जो लिम्फोब्लास्ट में बदल जाती है (जो सफेद रक्त कोशिकाओं में बदलती है)।

खून बनाने की सामान्य प्रक्रिया।

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) से पीड़ित रोगी में, खून बनाने वाली कोशिकाएँ ठीक तरह से परिपक्व नहीं होती हैं। खून में बहुत सारे अपरिपक्व रक्त कोशिकाएँ या खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) कोशिकाएँ बनती है।

ऐसा होने पर खून अपना काम सही तरीके से नहीं कर सकता है। इसमें निम्नलिखित चीज़ें कम पड़ती हैं:

  • लाल रक्त कोशिकाएँ –इनका काम शरीर के अंगों तक ऑक्सीजन पहुँचाना है। एनीमिया (खून की कमी) के कारण व्यक्ति बहुत थक जाता है।
  • सफेद रक्त कोशिकाएँ – इनका काम संक्रमण और रोग से लड़ना है। व्यक्ति बीमार पड़ जाता है।
  • प्लेटलेट्स – इनका काम खून का थक्का बनाना है। व्यक्ति का आसानी से खून बहने लगता है और घाव होने लगते हैं।

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) या तो एक्यूट या क्रॉनिक (पुराना) होते हैं। एक्यूट का अर्थ लक्षणों का तेज़ी से विकसित होना है। यह रोग बिना इलाज के तेज़ी से बढ़ेगा। क्रॉनिक (पुराना) का अर्थ रोग और लक्षणों में धीरे-धीरे वृद्धि होना।

एक्यूट खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) आमतौर पर बच्चों में अधिक पाया जाता है।

खून बनाने की प्रक्रिया और उसमे ब्लास्ट कोशिकाएँ उत्पन्न कैसे होती हैं, यह रेखा-चित्र में दिखाया गया है। रेखा-चित्र में ब्लड स्टेम सेल से शुरू होता है। बाईं ओर, यह माइलॉयड स्टेम सेल में विभाजित होती है, जो प्लेटलेट्स, लाल रक्त कोशिकाओं, माइलोब्लास्ट, और मोनोब्लास्ट में विभाजित हो जाती है। माइलोब्लास्ट सफेद रक्त कोशिकाओं में बदल जाती है (जिसे ग्रैन्यूलोसाइट्स भी कहा जाता है) और मोनोब्लास्ट, मोनोसाइट में बदल जाती है। ब्लड स्टेम सेल की दाईं शाखा लिम्फॉइड स्टेम सेल में जाती है, जो लिम्फोब्लास्ट (जो सफेद रक्त कोशिकाओं में बदलती है) और ब्लास्ट कोशिकाओं में बदल जाती है।

खून बनाने की प्रक्रिया जिससे ब्लास्ट बनते हैं।

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) के संकेत और लक्षण

संकेतों और लक्षणों मे निम्नलिखित शामिल हैं: 

  • बुखार
  • बार-बार संक्रमण होना
  • कमज़ोरी
  • थकान
  • आसानी से खून बहना और घाव होना
  • हड्डियों और जोड़ों में दर्द

खून के कैंसर (ल्यूकेमिया) की पहचान करना

खून के कैंसर (ल्यूकेमिया) का इलाज

खून के कैंसर (ल्यूकेमिया) का इलाज उसके प्रकार और जोखिम समूह पर निर्भर करता है। इसका सबसे आम इलाज कीमोथेरेपी है।

अन्य इलाजों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:

खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) का पूर्वानुमान (देखने का नजरिया/दृष्टिकोण)

कैंसर से बचने के आँकड़ों की चर्चा करते समय, चिकित्सक अक्सर एक संख्या का उपयोग करते हैं जिसे पांच साल की जीवित रहने की दर कहा जाता है, जो कि उन रोगियों का प्रतिशत है जो अपने कैंसर का पता चलने के बाद कम से कम पांच साल तक जीवित रहते हैं। एक्यूट खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) में, पांच साल के बाद रोग मुक्त बच्चों के निरोगी रहने की अधिक संभावना होती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इतने लंबे समय के बाद इन कैंसरों के वापस आने की संभावना बहुत ही कम होती है। जीवित रहने की दरें केवल अनुमानित हैं। आपके बच्चे का चिकित्सक , आपके बच्चे के विशेष मामले के संबंध में उसके जीवित रहने की दर पर जानकारी देने का सबसे अच्छा स्रोत है। 

एक्यूट खून का कैंसर (ल्यूकेमिया)

एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) (एएलएल) से पीड़ित बच्चों के लिए पांच साल की जीवित रहने की दर लगभग ९० प्रतिशत है।  

एक्यूट माइलॉयड ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) (AML) से पीड़ित बच्चों के लिए पांच साल की जीवित रहने की संपूर्ण दर 65 से 75 प्रतिशत है। जीवित रहने की दर AML के उपप्रकार और अन्य कारकों पर निर्भर रहती है। उदाहरण के लिए, AML के एक उपप्रकार, एक्यूट प्रोमायलोसाइटिक ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) (एपीएल) के लिए निरोग होने की दर अभी 10 प्रतिशत से अधिक है, लेकिन एएमएल के कुछ अन्य उपप्रकारों के लिए दरें काफी कम हैं।

क्रॉनिक (पुराना) ल्यूकेमिया (खून का कैंसर)

क्रॉनिक (पुराना) ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) के लिए, पांच साल की जीवित रहने की दरें कम मददगार होती हैं क्योंकि बच्चे वास्तव में रोगमुक्त हुए बिना खून का कैंसर (ल्यूकेमिया) के साथ लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं। पहले, क्रॉनिक माइलोजेनस ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) (सीएमएल) के लिए पाँच वर्ष तक जीवित रहने की दरें 60 से 80 प्रतिशत की सीमा में रिपोर्ट की जाती थी, लेकिन अब ये दरें काफी अधिक हैं।


समीक्षा की गई: जून 2018