आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बच्चे को खोने के बाद

बच्चे की मौत से अधिक दु:खदायी कोई भी चीज़ नहीं है। परिवारों को लगता है कि वे इस दु:ख से कैसे उबर पाएंगे। हालांकि माता-पिता अपने बच्चे के बारे में कभी भी सोचना बंद नहीं करते या उन्हें याद करना नहीं भूलते, लेकिन समय के साथ दु:ख में कमी आती है। माता-पिता बताते हैं कि शुरुआती दिनों का यह गहरा, तीव्र दु:ख समय के साथ कम और अधिक नियंत्रणीय हो जाता है। हालांकि, प्रत्येक व्यक्ति के दु:ख का अनुभव अलग-अलग होता है। दु:ख किसी पूर्वानुमानित क्रम या पैटर्न का पालन नहीं करता है। एक दिन आगे की ओर बढ़ने जैसा लग सकता है। तो अगले दिन आसान से आसान काम भी कठिन लग सकता है। बाकी समय परिवार के सदस्य परेशान रहते हैं और खुश होने पर थोड़ा दोषी महसूस करते हैं। ये मनोभाव और प्रतिक्रियाएं सामान्य हैं।

दु:ख के भाव

किसी प्रियजन को खोने पर दु:ख होना एक सामान्य प्रतिक्रिया है और यह एक बहुत ही व्यक्तिगत प्रक्रिया है। प्रत्येक व्यक्ति अलग-अलग तरीके से, अलग-अलग समयावधि के लिए, और अलग-अलग गहनता के साथ दु:खी होता है। एक बच्चे के खोने के बाद भावनाओं का कोई मानक तय नहीं होता। कुछ सामान्य भावनाओं और प्रतिक्रियाओं में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • सदमा
  • उदासी
  • भय
  • गुस्सा
  • आत्मग्लानि
  • पछतावा
  • अकेलापन
  • व्याकुलता या चिंताओं से घिरे रहना
  • दूसरों के साथ समय बिताने की कम इच्छा होना
  • बच्चे के बारे में लगातार सोचते रहना, मन में उसकी तस्वीर उभरना, और उसकी यादों से घिरे रहना
  • बच्चे के साथ अधिक समय तक रहने की लालसा करना और खोए हुए समय के लिए तरसना
  • नींद न आना या सोते रहना
  • सामान्य से अधिक सोना
  • भूख मिट जाना
  • आनंददायक गतिविधियों में कम रुचि होना
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होना

जबकि हर कोई दुःखी होता है, तब भी लोग दुःख का अनुभव अलग-अलग तरह से करते हैं। एक ही परिवार में, पति/पत्नी की प्रतिक्रियाएं बहुत अलग हो सकती हैं। बच्चे और किशोर भी अपने दुःख के रास्ते अपनाते हैं, जिसमें रोने और दुःखी होने से लेकर दुर्व्यवहार और यहां तक कि आत्मग्लानि तक भिन्न तरीकों से दुःख का अनुभव करना शामिल है। ये सभी सामान्य भावनाएं हैं।

सहायता कब लें

मनोविज्ञानी (साइकोलॉजिस्ट), परामर्शदाता और सामाजिक कार्यकर्ता सहित मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर, दु:ख के दौरान मदद का एक महत्वपूर्ण स्रोत हो सकते हैं। मदद लेने का मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति के शोकाकुल होने के तरीके में कुछ गलत है। कुछ परिवारों के लिए, मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर मात्र अतिरिक्त सहायता ही प्रदान कर सकता है। दुःखी माता-पिता और भाई-बहन अक्सर चिंता करते हैं कि मित्र और परिवार के सदस्य उनके दुःख के बारे में सुनना पसंद नहीं करेंगे। परामर्शदाता के साथ, वे इसकी चिंता किए बिना खुलकर इस बारे में बात कर सकते हैं। मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर भावनाओं के बारे में बात करने के लिए एक सुरक्षित स्थान उपलब्ध करा सकते हैं और माता-पिता व भाई-बहनों को अधिक प्रभावी रूप से उबरने में मदद करने के लिए संसाधन प्रदान कर सकते हैं। 

कभी-कभी परिवार के सदस्यों में मानसिक स्वास्थ्य संबंधी विकारों के लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं जैसे चिंता, अवसाद या आघात पहुंचने के बाद होने वाला तनाव विकार (पीटीएसडी)। मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के साथ जिन विशिष्ट विचारों और भावनाओं पर चर्चा की जानी चाहिए उनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • मरणासन्न बच्चे के साथ समय बिताने के विचार
  • खुद को या किसी और को क्षति पहुंचाने के विचार
  • खुद को बेकार समझने के विचार
  • धीमी गतिविधियां
  • उन चीज़ों को देखना या सुनना जो दूसरों को दिखाई या सुनाई नहीं देती
  • गंभीर परेशानी या चिंता
  • नींद संबंधी समस्याएं, बुरे सपने आना
  • दैनिक गतिविधियों को करने में परेशानी
  • मृत्यु के प्रति अविश्वास
  • बच्चे की याद दिलाने वाली चीज़ों से बचना
  • नाराज़गी
  • भावनाएं जैसे बच्चे को खोने के बाद जीवन का कोई उद्देश्य या अर्थ नहीं है
  • अनासक्ति की भावना
  • अचानक, परेशान करने वाली यादें जिन्हें सोचकर ऐसा लगता है कि जैसे आप यादों को फिर से ताज़ा कर रहे हैं

स्वयं या दूसरों को क्षति पहुंचाने के विचार आने पर तुरंत सहायता प्राप्त करें:

  • 911 पर कॉल करें और ऐसे विचारों के बारे में रिपोर्ट करें।
  • राष्ट्रीय आत्महत्या रोकथाम लाइफ़लाइन से – 1-800-273-8255 पर फ़ोन से या https://suicidepreventionlifeline.org पर ऑनलाइन संपर्क करें।
  • निकटतम आपातकालीन कक्ष में जाएं।
देर दोपहर में जापानी गार्डन में रेड ब्रिज

किसी प्रियजन को खोने पर दु:ख होना एक सामान्य प्रतिक्रिया है और यह एक बहुत ही व्यक्तिगत प्रक्रिया है। सभी व्यक्ति अलग-अलग तरीके से, अलग-अलग समयावधि के लिए और अलग-अलग गहनता के साथ दु:खी होते हैं।


समीक्षा की गई: जून 2018