आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

कीमोथेरेपी के बाद पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी

कीमोथेरेपी के कारण हुई पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी एक प्रकार से नस की क्षति होती है, जो कीमोथेरेपी के पश्चात कभी-कभी दुष्प्रभाव के रूप में होती है। दर्द, संवेदनहीन होना या हाथ या पैर में झुनझुनी होना लक्षणों में शामिल हैं। नस की क्षति बढ़ने के साथ ही, हाथ और पैर की मांसपेशियां कमजोर हो सकती है। बच्चे अलग तरीके से चल सकते हैं क्योंकि वे पैर के अगले हिस्से को उठा नहीं पाते हैं, इस अवस्था को “फुट ड्रॉप” कहते हैं। कीमोथेरेपी ख़त्म होने के बाद पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी में आमतौर पर सुधार दिखाई देता है, क्योंकि नसें खुद को ठीक करने में सक्षम होती हैं। हालाँकि, लक्षण पूरी तरह ख़त्म नहीं हो सकते हैं और कभी-कभी थेरेपी के देरी से दिखाई देने वाले प्रभाव के रूप में नए लक्षण विकसित हो सकते हैं।

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी को नियंत्रण में करने के उपाय हैं। चिकित्सक दर्द को दूर करने में मदद के लिए दवाइयां लिख सकता है। शारीरिक चिकित्सा और व्यावसायिक चिकित्सा भी मरीज को दर्द, संवेदना का न होना और मांसपेशियों में कमजोरी को नियंत्रण करने में मदद कर सकती हैं।

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी के लक्षण

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी के विशेष लक्षण उसके प्रकार और नसों के नुकसान की गंभीरता पर निर्भर होते हैं। लक्षणों में निम्न शामिल हो सकते हैं:

संवेदक लक्षण

  • सुन्न होना (संवेदन की कमी ), झुनझुनी या जलन होना, आमतौर पर हाथ या पैर में
  • मुंह या जबड़े का दर्द
  • स्पर्श या तापमान के प्रति संवेदनशीलता
  • तेज, अचानक, बहुत ज़्यादा दर्द

मोटर लक्षण

  • संतुलन या समन्वय खोना
  • चाल में बदलाव या चलने के तौर तरीके में सजगता का न होना, जिससे लड़खड़ाहट या गिरने का एहसास होना
  • कमजोर सजगता
  • मांसपेशियों की कमजोरी और मांसपेशियों का नुकसान (पैर का पतला दिखना), विशेष रूप से बाहों और पैरों में
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • बारीक संचालक कौशल के साथ समस्याएं जैसे लिखना, जूते बांधना या कपड़ों में बटन लगाना

स्वायत्तता के लक्षण

  • कब्ज या पेशाब करने में परेशानी
  • पसीना होने में कमी
  • रक्त चाप में बदलाव

रीढ़ के अंदर की नस से दूर, नसों के सिरों से समस्याएं शुरू होती हैं। यही कारण हैं कि हाथ और पैर सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। इसी तरह, हाथों की जगह पहले पैरों से कमजोरी की शुरुआत होती है।

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी के कारण

पेरिफ़ेरल नस मस्तिष्क से संकेत शरीर के अलग हिस्सों में ले जाती है और वापस लाती हैं। इन संकेतों में अलग कार्य हो सकते हैं, जिसमें मोटर (संचालन), संवेदना (दर्द, स्पर्श) या स्वायत्त (रक्त चाप, तापमान) शामिल हैं।

कीमोथेरेपी की दवाइयां इन नसों को नुकसान पंहुचा सकती हैं। जो दवाएं बचपन में होने वाले कैंसर का अधिक खतरा पैदा करती हैं, उनमें:

  • विन्क्रिस्टाईन
  • विनाब्लास्टाइन
  • सिस्प्लेटिन
  • कार्बोप्लैटिन
  • बोर्टेजोमिब
  • थालिडोमाइड

दवाइयों की अधिक खुराक और कई दवाइयां एकसाथ लेने से न्यूरोपैथी की समस्या बढ़ सकती है। छोटे बच्चे अति प्रभावित होने वाले होते हैं, क्योंकि उनका तंत्रिका तंत्र अभी भी विकसित हो रहा होता है। रेडिएशन थेरेपी और चिकित्सीय स्थिति जैसे कि मधुमेह/डायबीटीज़ भी नसों को नुकसान पहुंचा सकती हैं और कीमोथेरेपी के साथ पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का खतरा बढ़ा सकता है।

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का आकलन

सामान्य तौर पर, पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का आकलन करते समय इन पर विचार करें:

  • लक्षणों के प्रकार (संवेदना, संचालन, स्वायत्त या संयोजन)
  • लक्षणों की तीव्रता (दर्द, दैनिक जीवन को लक्षण कितना प्रभावित करेंगे)
  • समय के साथ लक्षणों में बदलाव (क्या लक्षण अधिक खतनाक हो रहे हैं या स्थिर हैं)

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी लक्षण वाले मरीज को अतिरिक्त स्क्रीनिंग के लिए स्नायु विशेषज्ञ के पास भेजा जा सकता है। एक न्यूरोलॉजिकल परीक्षण में ऐसी जाँचें शामिल होती हैं जो सजगता, संवेदना और नसों (तंत्रिका) के संकेतों (चालन) को मापती हैं। इस जानकारी के आधार पर, चिकित्सक नसों की क्षति हेतु श्रेणी निर्धारण करने के लिए या गंभीरता को मापने के लिए रेटिंग स्केल का उपयोग कर सकते हैं।

शारीरिक चिकित्सक निम्न का मूल्यांकन करने के लिए एक परीक्षण भी कर सकता है:

  • मांसपेशियों की ताकत
  • जोड़ों की गति की सीमा
  • बैठे या खड़े रहने के दौरान पैरों और टखनों की स्थिति और संरेखण
  • संतुलन
  • चाल और पैरों की स्थिति देखने के लिए बिना जूते के चलना
  • स्पर्श और कंपन को महसूस करने की क्षमता
  • सजगता

मरीज, परिवार और देखभाल टीम के सदस्यों द्वारा मिली जानकारी अगले कदम को तय करने में मदद करती है।

कीमोथेरेपी के कारण हुई पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का निवारण और इलाज

कैंसर का प्रभावशाली ढंग से इलाज करते हुए चिकित्सक जितना हो सके उतना कम नसों को नुकसान के साथ कीमोथेरेपी और प्रशामक देखभाल की योजना बनाते हैं। शोधकर्ता दवाओं और हस्तक्षेपों का अध्ययन कर रहे हैं, जिसका उपयोग कीमोथेरेपी के दौरान नसों के ऊपर होने वाले विषैले परिणाम को कम करने में मदद कर सकेगा। जब संभव हो, चिकित्सक दवाइयों की खुराक को नियंत्रण में रखने, आराम के अंतराल या न्यूरोपैथी के खतरे को बढ़ाने वाली संयोजन चिकित्सा को टालने की कोशिश करते हैं।

वर्तमान के पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का इलाज लक्षणों के प्रबंधन पर केंद्रित है। कार्यनीतियों में ये शामिल हो सकते हैं:

  • दर्द प्रबंधन – नसों के दर्द के लिए विभिन्न प्रकार की दवाइयों का प्रयोग किया जा सकता हैं, जिसमें अवसादरोधी, दौरा रोकने की दवा जैसे कि गाबापेन्टिन और दर्द हटाने वाली दवा जैसे कि नशीले पदार्थ से बनी दर्द निवारक और लिडोकाइन शामिल हैं।
  • पुनर्सुधार सहायता – शारीरिक चिकित्सा और व्यावसायिक चिकित्सा मरीज के लिए इलाज और सहायता हस्तक्षेप प्रदान करती है। विशेष इलाज में ये शामिल हैं:
    • ताकत, गति की सीमा और संतुलन में सुधार करने के लिए व्यायाम
    • चलने के लिए सहायक उपकरण की मदद, जिसमें वॉकर, बैसाखी या छड़ी शामिल हैं
    • ऑर्थोटिक्स जैसे जोड़ों को संरेखित करने और कार्य को सुधारने के लिए आर्च या टखनों के लिए सपोर्ट
    • दैनिक गतिविधियों जैसे लिखने, कपड़ों में बटन लगाना या दांतों को ब्रश करने के लिए सहायक उपकरण की मदद
    • कमजोर मांसपेशियों को उत्तेजित करने के लिए हल्के विद्युत उत्तेजना (चिकित्सक की स्वीकृति की आवश्यकता है, क्योंकि यह कैंसर के इलाज के दौरान रोगियों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है)
    • घर में व्यायाम और परिवार की शिक्षा
  • अतिरिक्त चिकित्सा – रोगी मन और शरीर के उपचारों से मदद प्राप्त कर सकते हैं जैसे कि मालिश, एक्यूपंक्चर, बायोफ़ीडबैक और विश्राम तकनीकें। परिवारों को किसी भी अतिरिक्त चिकित्सा को आज़माने से पहले उसका सुरक्षित होना सुनिश्चित करने के लिए अपनी देखभाल टीम से बात करनी चाहिए।
  • कीमोथेरेपी का समायोजन – गंभीर पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी के मामले में, देखभाल टीम दवा के जोखिम को कम करने के लिए कीमोथेरेपी योजना में बदलाव का सुझाव दे सकती है। इन फैसलों को समग्र रोगी स्वास्थ्य के लिए जोखिमों के प्रति संतुलित होना चाहिए।

कीमोथेरेपी के कारण हुई पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी के देरी से दिखाई देने वाले प्रभाव

मांसपेशियों की कमजोरी, चाल में बदलाव और जोड़ों के ख़राब संरेखण के कारण बच्चों में होने वाले कैंसर से बचे हुए लोगों में दीर्घकालिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। जब जोड़ और मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करते, तो घुटने, कूल्हे और रीढ़ की हड्डी समय के साथ क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। यह दर्द और काम नहीं करने का कारण बनता है और गिरने के जोखिम को बढ़ा सकता है। दर्द और कम गतिशीलता काम और पारिवारिक जीवन को प्रभावित कर सकती है। पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी अक्सर शारीरिक गतिविधि के कार्य को निम्न स्तर की ओर ले जाती है, जो अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ाती है।

बचपन में होने वाले कैंसर से बचे लोगों के लिए, पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी का प्रबंधन और लक्षणों की नियमित निगरानी आजीवन स्वास्थ्य और जीवन शैली के लिए महत्वपूर्ण है।

परिवारों के लिए सलाह

  • ऐसे जूते पहनें जो सहायक हों लेकिन बहुत टाइट न हों। रबड़ के तलवों वाले जूते ढूंढें और उन जूतों से बचें जिनसे आसानी से फिसल या गिर सकते हैं।
  • एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा निर्धारित और अनुशंसित ऑर्थोटिक्स का प्रयोग करें। स्प्लिंट्स और अन्य कृत्रिम उपकरण कार्यों और गतिशीलता को बढ़ावा दे सकते हैं, बच्चों की उनकी गतिविधियों और स्वतंत्रता को बनाये रखने में मदद करते हुए उन्हें गिरने से बचा सकते हैं। बच्चे पहले विरोध कर सकते हैं, लेकिन वे अधिक सामान्य रूप से चलने और खेलने में सक्षम होंगे। घावों या फफोलों से बचाने के लिए नियमित रूप से पैरों की जाँच करें।
  • हाथों और पैरों को चोट से बचाएं। संवेदनहीनता के कारण रोजमर्रा की गतिविधियों में अंगों के कटने और जलने जैसी स्थिति पैदा हो सकती है। फफोले, खरोंच और कटने से होने वाले घाव की नियमित जाँच भी बहुत जरुरी है। नंगे पैर चलने से बचें।
  • हाथ धोने या नहाने से पहले पानी के तापमान की जाँच करें। अगर पानी ज़्यादा गरम है, तो संवेदनहीनता जलने का खतरा बढ़ा सकती है।
  • गर्म मौसम में समस्याओं पर ध्यान दें। कुछ रोगियों में गर्मी में अधिक लक्षण हो सकते हैं या पसीना कम हो जाता है।
  • लड़खड़ाने और गिरने को कम करने में मदद करने के लिए मंद रोशनी वाले क्षेत्रों और असमान सतहों (यानी घास, कंकड़, आदि) पर चलते समय सचेत रहें।

पेरिफ़ेरल (सतही) न्यूरोपैथी पर अतिरिक्त संसाधन


समीक्षा की गई: अगस्त, 2018