आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बचपन में होने वाले कैंसर में त्वचा की देखभाल

घाव और त्वचा की देखभाल का महत्व

कैंसर से पीड़ित बच्चों के लिए घाव और त्वचा की देखभाल बेहद जरूरी है। नियमित निगरानी और सफाई से कई समस्याओं को रोका जा सकता है।

बचपन में होने वाला कैंसर से पीड़ित बाल रोगी अपने भाई के साथ बाहर खेल रही है

मरीजों और देखभालकर्ता को बनते हुए घावों के संकेत का ध्यान रखना चाहिए और चिकित्सीय टीम को किसी भी तकलीफ के बारे में बताना चाहिए।

त्वचा मानव शरीर का सबसे बड़ा अंग है जिसका कुल क्षेत्रफल लगभग 20 वर्ग फुट है। यह एक सुरक्षात्मक बाधा के रूप में शरीर की रक्षा कड़ी की पहली पंक्ति है। त्वचा अन्य अंगों और कोमल ऊतकों के साथ शरीर की रक्षा, ठीक करने और सहायता करने के लिए भी काम करती है।

सामान्य परिस्थितियों में त्वचा में ठीक होने और फिर से बनने की उल्लेखनीय क्षमता होती है। स्वस्थ बच्चों में किसी समस्या के बिना ही त्वचा ठीक हो जाती है। लेकिन कैंसर और कैंसर के इलाज प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर कर सकते हैं। यहां तक कि त्वचा के थोड़ा सा कटने से भी संक्रमण हो सकता है। कुछ कैंसर के इलाजों के दुष्प्रभावों से त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। एक बच्चे की त्वचा वयस्क त्वचा की तुलना में कम विकसित होती है और त्वचा की देखभाल की ज़रूरत उम्र के आधार पर बहुत अलग अलग हो सकती है।

घाव और त्वचा की देखभाल के बारे में बातचीत 

कैंसर के इलाज के दौरान घाव और त्वचा की देखभाल के बारे में बात करना परिवारों के लिए महत्वपूर्ण है। सावधानीपूर्वक निगरानी और नियमित रूप से त्वचा की जांच महत्वपूर्ण है। साथ ही, बच्चे को अपनी त्वचा पर ध्यान देना चाहिए और अगर कोई समस्या दिखती है तो उसे बताना चाहिए। घाव और त्वचा की समस्याओं को बताने में रोगी असहज या शर्मिंदा महसूस कर सकते हैं। बच्चों में अक्सर यही होता है - विशेष रूप से किशोर - जब तक उन्हें अत्यधिक तकलीफ न हो तब तक वे बताते नहीं है। वे शरीर के कुछ क्षेत्रों में जांच से बचने की कोशिश भी कर सकते हैं।

त्वचा की देखभाल के बारे में बात करने और इसका महत्व समझाने से बच्चे अपनी त्वचा पर अधिक ध्यान दे सकते हैं। परिवार - मरीजों और देखभालकर्ता दोनों को बनते हुए घावों के संकेत का ध्यान रखना चाहिए और चिकित्सीय टीम को किसी भी तकलीफ के बारे में बताना चाहिए।


समीक्षा की गई: जून, 2018