आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

रोग प्रतिरोधक शक्ति, बीमारी और संक्रमण

प्रतिरक्षा प्रणाली क्या है?

प्रतिरक्षा प्रणाली, संक्रमण से शरीर की रक्षा करती है। विशेष कोशिकाओं, ऊतकों और अंगों का एक नेटवर्क जो शरीर को "नुकसान पहुंचाने वालों" की एक किस्म या रोगाणुओं से बचाने के लिए एक साथ काम करता है। इन रोगाणुओं या कीटाणुओं में जीवाणु, परजीवी, विषाणु और फफूंदी शामिल हैं। ज़्यादातर मामलों में, शरीर हानिकारक हमलों से खुद का बचाव कर सकता है। कुछ लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली इतनी कमज़ोर होती है कि रोगाणुओं से भी नहीं लड़ सकती।

प्रतिरक्षा प्रणाली में रक्षा की पहली पंक्ति एक ऐसी ढाल है जो रोगाणुओं को शरीर में प्रवेश करने से रोकती है। त्वचा शरीर का मुख्य कवच है जो हमले के खिलाफ़ एक शारीरिक बाधा के रूप में काम करती है। श्वसन तंत्र और पाचन (श्लेष्मा झिल्ली) की ऊपरी परतें भी हानिकारक रोगाणुओं को अंदर आने से रोकती हैं।

इस चित्रण में न्यूट्रोफ़िल कोशिकाएं कीटाणुओं को पहचान कर, रक्त वाहिकाओं में घुसकर संक्रमण के स्थान पर जाती हैं और चिह्नित कीटाणु को नष्ट करती हैं।

सफेद रक्त कोशिकाएं, जिन्हें न्यूट्रोफ़िल कहा जाता है, शरीर की पहरेदारी करती हैं। साथ ही, बीमारी का कारण बनने वाले कीटाणुओं या रोगाणुओं को देखने और नष्ट करने के लिए खून और लसिका तंत्र के माध्यम से पूरे शरीर में घूमती हैं।

अगर एक रोगजनक हमलावर ढाल को पार कर जाता है, तो क्या होता है? शरीर, रक्षा की अगली पंक्ति के साथ प्रतिक्रिया करता है। प्रतिरक्षा प्रणाली की विशेष कोशिकाएं, शरीर की पहरेदारी करती हैं। साथ ही, रोगाणुओं को देखने और नष्ट करने के लिए खून और लसिका तंत्र के माध्यम से पूरे शरीर में घूमती हैं।

एक बाहरी आक्रमणकारी जो प्रतिरक्षा प्रणाली में प्रतिक्रिया का कारण बनता है उसे एंटीजन कहा जाता है। कुछ प्रतिरक्षा कोशिकाएं किसी भी आक्रमणकारी रोगजनक पर हमला करने के लिए कार्य करती हैं। अन्य कोशिकाएं विशिष्ट रोगजनकों को पहचानने और याद रखने के लिए प्रशिक्षित होती हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली एंटीबॉडी का उत्पादन करती है जो विशिष्ट एंटीजन को रोकती हैं, ताकि वे नष्ट हो सकें। इस तरह से यह विशेष बीमारियों से बचाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली या टीकाकरण काम करता है।

  1. रोकथाम
  2. पहरेदारी
  3. चेतावनी
  4. नष्ट करना
 

प्रतिरक्षा प्रणाली संसाधन

चेहरे पर एक मास्क पहने हुए कैंसर रोगी

कुछ रोगियों को हवा के रोगाणु या धूल और बीजाणुओं से बचने के लिए विशेष मास्क पहनने की आवश्यकता हो सकती है।

कैंसर और प्रतिरक्षा प्रणाली

कैंसर और कैंसर के इलाज, प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि कैंसर से बीमार बच्चे में संक्रमण और बीमारी होने का खतरा ज़्यादा होता है। कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले किसी व्यक्ति को प्रतिरक्षा में अक्षम कहा जाता है।

कैंसर, रोग प्रतिरोधक शक्ति को कैसे प्रभावित करता है

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे कैंसर, रोग प्रतिरोधक शक्ति को कम कर सकता है:

  • कैंसर या कैंसर का इलाज, संक्रमण से लड़ने के लिए उपलब्ध प्रतिरक्षा कोशिकाओं की संख्या को कम कर सकता है।
  • रेडिएशन और कुछ दवाइयां सहित कैंसर का इलाज, त्वचा या झिल्ली को कमज़ोर कर सकते हैं जो मुंह और पाचन तंत्र को प्रभावित करते हैं।
  • चिकित्सा प्रक्रियाएं और उपकरण जैसे कि नली, ऐसी जगह बना देते हैं जहां से रोगाणु शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

कैंसर के दौरान संक्रमण

कई कारणों से कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले कैंसर रोगियों के लिए संक्रमण बहुत खतरनाक हो सकता है।

  • संक्रमण के लक्षणों को पहचानना मुश्किल हो सकता है। संक्रमण के सामान्य संकेतों में लालिमा, सूजन, दर्द और बुखार शामिल हैं। कम रोग प्रतिरोधक शक्ति वाले रोगियों में, संक्रमण का एकमात्र लक्षण बुखार हो सकता है।
  • हो सकता है, संक्रमण होने पर शरीर जल्दी प्रतिक्रिया न दे। इससे बीमारी लंबे समय तक बनी रह सकती है क्योंकि प्रतिरक्षा प्रणाली भी काम नहीं करती है।
  • कभी-कभी, संक्रमण जल्दी से फैल सकता है क्योंकि संक्रमण से लड़ने के लिए पर्याप्त सफेद रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों को संक्रमण के किसी भी संकेत पर चिकित्सा देखभाल लेनी चाहिए।

सफेद रक्त कोशिका

सफेद रक्त कोशिकाएं (ल्यूकोसाइट्स) प्रतिरक्षा प्रणाली की सबसे महत्वपूर्ण कोशिकाओं में से एक हैं। सफेद रक्त कोशिकाएं बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) में बनती हैं, और वे पूरे शरीर में लसिका तंत्र के माध्यम से घूमती हैं। उनका मुख्य कार्य संक्रमण और बीमारी से लड़ना है। सफेद रक्त कोशिका की गणना (डब्बलयूबीसी) किसी रोगी के खून में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या को मापने का परीक्षण है। सफेद रक्त कोशिकाओं की कम संख्या किसी व्यक्ति के लिए संक्रमण का जोखिम बढ़ा देती हैं।

यह उदाहरण एक लड़के के लसिका तंत्र के नामांकित अंगों को दर्शाता है: गर्दन की गाँठ, लसिका वाहिकाएं, बगल में गाँठ, ऊसंधी संबंधित गांठ, तिल्ली/प्लीहा, बाल्यग्रन्थि और टॉन्सिल।

लसिका तंत्र गाँठ, ग्रंथियों और वाहिकाओं का एक जाल होता है जो संक्रमण से लड़ने के लिए पूरे शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं को भेजता है।


समीक्षा की गई: जून, 2018