आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

कैंसर के बाद स्वस्थ भोजन

स्वस्थ आहार लेना बनाए रखना कैंसर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हालांकि सभी को खाने की ऐसी आदतें बनानी चाहिए, जो उम्र ढलने के बाद कैंसर के जोखिम को कम करेगा, यह कैंसर से बचे लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। स्वस्थ भोजन की आदतें मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती हैं और वयस्कों में होने वाले कुछ तरह के कैंसर के जोखिम को कम कर सकती हैं।

आहार, वजन और शारीरिक गतिविधि के लिए सुझावों में ये शामिल हैं:

  • पौध-आधारित खाद्य पदार्थ जैसे अनाज, सब्जियाँ, फल और फलियाँ अधिक खाएँ।
  • रेड मीट कम खाएं और प्रोसेस्ड मीट खाने से बचें।
  • उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ और शर्करा युक्त पेय से बचें।
  • डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों से बचें और नमक कम खाएं।
  • शराब का सेवन सीमित करें।
  • स्वस्थ सीमा के भीतर वजन रखें।
  • नियमित तौर पर शारीरिक रूप से सक्रिय रहें।

आहार विशेषज्ञ, फलों, सब्जियों और साबुत अनाज पर विशेष जोर देने के साथ, स्वस्थ आहार खाने की सलाह देते हैं। इसके अलावा, कैलोरी का सेवन नियंत्रित करने से स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

कैंसर से ठीक हुए लोगों के लिए स्वस्थ भोजन की आदतें मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती हैं और वयस्कों में होने वाले कुछ तरह के कैंसर के जोखिम को कम कर सकती हैं। युवा रोगी अन्य वैकल्पिक हल्के खाद्य पदार्थ भी आज़मा सकते हैं।

कैंसर से ठीक हुए लोगों के लिए स्वस्थ भोजन की आदतें मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती हैं और वयस्कों में होने वाले कुछ तरह के कैंसर के जोखिम को कम कर सकती हैं।

ज़्यादा खाएं:

  • फल और सब्जियां
    • रोजाना कम से कम 2½ कप सब्जियां और फल खाएं।
    • हर भोजन और स्नैक्स में सब्जियां और फल शामिल करें।
    • अतिरिक्त कैलोरी से बचने के लिए सॉस, ड्रेसिंग और डिप्स कम से कम लें।
    • पूरे फल और सब्जियां खाएं।
    • 100% सब्जी या फलों का रस पिएं।
  • साबुत अनाज। साबुत-अनाज का ब्रेड, पास्ता और जौ तथा जई से बने अनाज और ब्राउन राइस खाएं।
  • प्रोटीन। लीन मीट और पोल्ट्री, सीफूड, अंडे, बीन्स और नट्स सहित कई तरह के प्रोटीन खाद्य पदार्थ खाएं।

कम खाएं:

  • रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट। पेस्ट्री, कैंडी, अनाज के मीठे नाश्ते, कुकीज़ और अन्य मीठे खाद्य पदार्थों में शर्करा की उच्च मात्रा हो सकती है।
  • आहार वसा। वयस्क में होने वाले कई तरह के कैंसर, बीफ़ और पोर्क, मक्खन, शॉर्टनिंग और मार्जरीन में पाए जाने वाले संतृप्त वसा और ट्रांस वसा के उच्च सेवन से जुड़े हुए हैं। उच्च वसा वाले आहार बड़ी आंत, स्तन और प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं और मोटापे, हृदय रोग और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा करते हैं। संतृप्त वसा कुल दैनिक कैलोरी के 10% से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • प्रोसेस्ड मीट और रेड मीट। बेकन, सॉसेज, लंच मीट और हॉट डॉग जैसे खाद्य पदार्थ सीमित करें। रेड मीट खाते समय, लीन कट चुनें। तलने या चारकोल पर ग्रिल करने के बजाय सेकें, भुनें या उबालें। मछली, मुर्गा या फलियों जैसे स्वस्थ विकल्पों पर विचार करें।
  • डिब्बाबंद (प्रिज़र्वटिव) कुछ खाद्य पदार्थ, जैसे कि नमक से बने हुए और मसालेदार खाद्य पदार्थ और दोपहर के भोजन में, नाइट्राइट जैसे संरक्षक होते हैं, जो खाद्य पदार्थों को संरक्षित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले रसायन होते हैं। ये खाद्य पदार्थ बड़ी मात्रा में खाने पर पेट और भोजन-नली में कैंसर का खतरा बढ़ा सकते हैं।

भाग की मात्रा और कैलोरी पर पूरा ध्यान दें। 

  • भाग की मात्रा और कैलोरी के लिए खाद्य लेबल पढ़ें। 
  • सब्जियां और पूरे फल जैसे कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ चुनें। 
  • फ्रेंच फ्राइज़, आलू और अन्य चिप्स, आइसक्रीम, डोनट्स और अन्य मिठाई जैसे उच्च-कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ, कम खाएं।
  • मीठा पेय पदार्थ जैसे मीठे शीतल पेय, स्पोर्ट्स ड्रिंक और फलों के स्वाद वाले पेय को सीमित करें।
कैफ़ेटेरिया का कर्मचारी एक काउंटर पर सेब रखता है

एक स्वस्थ आहार कैंसर की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है

हरे पत्तेदार खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले रसायन होते हैं जो कैंसर से लड़ने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

खाद्य पदार्थ जो कैंसर से बचा सकते हैं

शोधकर्ताओं ने अध्ययन किया है कि कुछ प्रकार के खाद्य पदार्थ और खाद्य पदार्थ के भाग, कैंसर के विकास को कैसे प्रभावित कर सकते हैं। इस बात के प्रमाण हैं कि खाद्य पदार्थों में कुछ पदार्थ कैंसर कोशिका के विकास को धीमा कर सकते हैं और कैंसर से बचा सकते हैं:

  • हरे पत्तेदार खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले रसायन होते हैं जो कैंसर से लड़ने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। इनमें शामिल है:
    • फाइटोकेमिकल्स, लाल, नारंगी, पीले और कुछ गहरे हरे रंग की सब्जियों में पाए जाते हैं
    • पॉलीफेनोल, जड़ी-बूटियों, मसालों, सब्जियों, हरी चाय, सेब और जामुन में पाया जाता है
    • एलियम यौगिक, चाइव (प्याज़ की पत्तियां), लहसुन, लीक और प्याज़ में पाया जाता है
    • ग्लूकोसाइनोलेट्स, गोभी, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली और फूलगोभी जैसी पत्तेदार सब्जियों में पाया जाता है
  • एंटीऑक्सीडेंट्स, जैसे कि बीटा कैरोटीन, लाइकोपीन और विटामिन ए, सी और ई, कोशिका क्षति के जोखिम को कम कर सकते हैं।
  • आहार फाइबर पाचन प्रणाली के माध्यम से भोजन को अधिक तेज़ी से स्थानांतरित करने में मदद करता है।
    • साबुत अनाज और बीज, जैसे जौ, जई, बुलगुर, मक्का और राई
    • साबुत अनाज का ब्रेड और पास्ता
    • फलियां और दालें जैसे काली बीन्स, गरबेन्ज़ो बीन्स, दाल और टूटे मटर
    • सब्जियां और फल

मोटापा

शरीर की ज़रूरत से ज़्यादा कैलोरी खाने से वजन बढ़ सकता है।

अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त होने से कई प्रकार के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है जिसमें ये शामिल हैं:

  • स्तन (विशेषकर उन महिलाओं में जो रजोनिवृत्ति (माहवारी का बन्द होना) से गुजर चुकी हैं)
  • बड़ी आंत और मलाशय
  • एंडोमेट्रियम (गर्भाशय की लाइनिंग)
  • भोजन-नली
  • गुर्दा
  • पाचक-ग्रंथि
  • अंडाशय
  • जिगर
  • पौरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट)

नियमित शारीरिक गतिविधि करने से मोटापे को रोकने में मदद मिल सकती है। शारीरिक गतिविधि, मोटापे पर इसके प्रभाव के अलावा कुछ कैंसर के जोखिम को भी कम कर सकती है।

वयस्कों को हर सप्ताह कम से कम 75 मिनट की जोरदार-तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि या 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि करनी चाहिए। मध्यम-तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि का मतलब है, तेजी से चलना।

बच्चों और किशोरों को और भी अधिक शारीरिक गतिविधि करने की आवश्यकता होती है:

  • प्रत्येक दिन कम से कम 1 घंटे की मध्यम-से-जोरदार गतिविधि, जिसमें प्रत्येक सप्ताह कम से कम 3 दिन जोरदार गतिविधि शामिल है।
  • हर सप्ताह कम से कम 3 दिन, मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां करनी चाहिए।
  • बैठने या लेटने, टीवी देखने या टैबलेट या स्मार्टफ़ोन पर "स्क्रीन टाइम" जैसे गतिहीन कामकाज कम करें।

उन तरीकों के बारे में अधिक जानें जिनसे परिवार सही से खा सकते हैं, सक्रिय हो सकते हैं और स्क्रीन समय कम कर सकते हैं।

शराब और कैंसर का खतरा

वाइन, बीयर और शराब जैसे पदार्थों के सेवन से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। शराब सीधे सिर और गर्दन, जिगर, भोजन-नली, स्तन कैंसर और बड़ी आंत और मलाशय में कैंसर का जोखिम बढ़ा देता है।

जबकि शोधकर्ताओं को ठीक से पता नहीं है कि शराब से कैंसर का खतरा क्यों बढ़ जाता है, संभावनाओं में ये शामिल हैं:

  • शराब में ऐसे रसायन होते हैं जो स्वस्थ कोशिकाओं के डीएनए और प्रोटीन को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • शराब से खून में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ सकती है और स्तन, अंडाशय और गर्भाशय के कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।
  • शराब, शरीर के महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को संसाधित करने और अवशोषित करने की क्षमता को कम कर सकती है, जिसमें विटामिन, ए, सी, डी और ई शामिल हैं, साथ ही फोलेट और कैरोटीनॉइड भी शामिल हैं।

अगर वयस्क शराब पीते हैं, तो पुरुषों को प्रति दिन 2 पेय और महिलाओं को प्रति दिन 1 पेय तक सीमित रहना चाहिए। बीयर के एक पेय को 12 औंस, वाइन को 5 औंस और 80-प्रूफ शराब (आसुत शराब) को 1.5 औंस के रूप में परिभाषित किया गया है।

शराब के उपयोग को सीमित करने के अन्य सुझावों में ये शामिल हैं:

  • भारी मात्रा में या अनियंत्रित शराब न पिएं।
  • रेड वाइन को अपवाद न बनाएं।
  • तंबाकू उत्पादों के साथ शराब का उपयोग न करें, क्योंकि इससे कैंसर के विकास के जोखिम बढ़ जाते हैं।

कैंसर के जोखिम के बारे में एक चिकित्सक से बात करें। चिकित्सक दोबारा हो सकने वाले कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद करने के लिए, पूरी तरह से शराब बंद करने या उससे बचने की सलाह दे सकते हैं।

रोगियों को चिकित्सक से पूछना चाहिए कि क्या बीमारी के दौरान या कुछ दवाओं का सेवन करते समय शराब पीना सुरक्षित है।


समीक्षा की गई: जून 2018