आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

जाँच के परिणामों की प्रतीक्षा करना

वर्कअप क्या है?

"वर्कअप" एक सामान्य शब्द है, जिसे चिकित्सक कभी-कभी रोगनिदान करने के लिए उपयोग की जाने वाली कई प्रक्रियाओं का वर्णन करने के लिए उपयोग करते हैं। इस प्रक्रिया में समय लगता है। 

एक ही बार क्लिनिक जाने के दौरान खून की जाँच और एक्स-रे जैसी कई प्रक्रियाएं हो सकती हैं। कुछ जाँच जैसे सीटी स्कैन, एमआरआई और बायोप्सी को बाद में किसी निश्चित समय पर करना पड़ता है। परिवार वाले अन्य सुविधाओं को पाने के लिए जा सकते हैं। 

कई लोग कहते हैं कि जाँच के परिणामों की प्रतीक्षा करना रोग की पहचान प्रक्रिया के सबसे तनावपूर्ण भागों में से एक है। जाँच के प्रकार के आधार पर परिणाम तैयार होने में कुछ घंटों से लेकर कुछ सप्ताह तक लग सकता है।

चिकित्सक जानकारी पर चर्चा करने से पहले तब तक प्रतीक्षा कर सकता है जब तक कि सभी जाँच परिणाम नहीं आ जाएं। जाँच के प्रकार के आधार पर परिणाम तैयार होने से पहले कुछ घंटों से लेकर कुछ हफ्तों तक का समय लग सकता है। इस तस्वीर में एक पिता अपने बेटे को लाल गाड़ी में बैठाकर अस्पताल के गलियारे में खींचता है।

चिकित्सक जानकारी पर चर्चा करने से पहले तब तक प्रतीक्षा कर सकता है जब तक कि सभी जाँच परिणाम नहीं आ जाएं। जाँच के प्रकार के आधार पर परिणाम तैयार होने से पहले कुछ घंटों से लेकर कुछ हफ्तों तक का समय लग सकता है।

परिणाम आने में समय क्यों लग सकता है

जब इमेजिंग जांच की जाती है तो विकिरण चिकित्सक को चित्रों को पढ़ना और विश्लेषण करना चाहिए और उस व्यक्ति को देने के लिए रिपोर्ट तैयार करनी चाहिए जिसने जांच करवाई हैं। इस प्रक्रिया में कई दिन लग सकते हैं। इमेजिंग जांच के उदाहरणों में एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, कंप्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन और मैगनेटिक रेसोनेन्स इमेजिंग (एमआरआई) शामिल हैं।

यदि बायोप्सी (टुकड़ा निकालना) की जाती है तो परिणाम आने में कुछ दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक का समय लग सकता है। नमूना विश्लेषण के लिए रोग लक्षण विद्या (पैथालॉजी) प्रयोगशाला में भेजा जाता है। कभी-कभी इसे अतिरिक्त जांच के लिए अन्य विशेष प्रयोगशालाओं में भेजा जा सकता है।

कई बार चिकित्सक जानकारी पर चर्चा करने से पहले तब तक प्रतीक्षा कर सकता है जब तक कि सभी जाँच परिणाम नहीं आ जाएं। एक जांच के परिणाम तब तक कई उत्तर नहीं दे सकते हैं जब तक कि बच्चे की गई अन्य सभी जांचों के संबंध में इसकी समीक्षा न की जाए।

चूंकि चिकित्सक ने कैंसर के लक्षण देखने के लिए जांच कराने का आदेश दिया है इसका मतलब यह नहीं है कि कैंसर रोग की पहचान हो गई है। जांच कराने वाले को कैंसर का संदेह हो सकता है या संभावनाओं के रूप में इसे खारिज करना चाहता है।

स्कैनज़ाइटी क्या है?

जांच से जुड़ी और स्कैन के परिणामों की प्रतीक्षा करने से होने वाली चिंता और घबराहट का भी नाम है — स्कैनज़ाइटी। इस शब्द को अभी तक किसी भी आधिकारिक शब्दकोश में नहीं रखा गया है लेकिन इसका उपयोग अनौपचारिक रूप से मरीजों, परिवारों और चिकित्सा पेशेवरों द्वारा किया जाता है।

Urbandictionary.com में यह परिभाषा है: चिंता और घबराहट जो चिकित्सा परीक्षा से गुज़रने या उसके परिणाम प्राप्त करने से पहले समय की अवधि के दौरान होती है। स्कैनज़ाइटी सामान्य  है और  यह कई लोगों और ज़्यादातर मरीजों और परिवारों द्वारा अनुभव किया जाता है।

‘स्कैनज़ाइटी’ एक अनौपचारिक शब्द है जिसका उपयोग परिणामों की प्रतीक्षा करते समय मरीजों और परिवारों को होने वाली चिंता का वर्णन करने के लिए किया जाता है। इस चित्र में बचपन में होने वाले कैंसर का मरीज अस्पताल के प्रतीक्षालय में मछली  की टंकी को देख रहा है।

‘स्कैनज़ाइटी’ एक अनौपचारिक शब्द है, जिसका उपयोग चिकित्सा जांच के परिणामों के प्राप्त होने से पहले मरीजों और परिवारों को होने वाली चिंता का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

इन तरीकों से ‘स्कैनज़ाइटी’ से निपटा जा सकता है:

  • अपनी मनपसंद गतिविधियों में ध्यान लगाना — स्कैन से पहले और परिणामों की प्रतीक्षा के दौरान कुछ दिनों और सप्ताह तक कुछ सुखद करने में समय बिताने से आपका ध्यान कहीं और रहता है।
  • व्यायाम — कई अध्ययनों से पाया गया है कि व्यायाम तनाव और चिंता को कम करने में प्रभावकारी है।
  • आराम करने की तकनीक — गहरी सांस लेने की कोशिश करें, सुकून देने वाला संगीत सुनें, विज़ुअलाइज़ेशन, योग, ध्यान, मालिश या ताई ची।
  • चिंता को स्वीकार करें और माने — अक्सर केवल अपनी भावनाओं को स्वीकार करने से  ही उन्हें संभालने में मदद मिल सकती है। अपने आप को याद दिलाएं कि तनावपूर्ण समय में स्कैनज़ाइटी  एक सामान्य प्रतिक्रिया होती है।
  • दूसरों से सहायता ढूंढें — तनावपूर्ण समय के दौरान दूसरों से बात करना लाभकारी हो सकता है। शांत और सहायता देने वाले परिवार के सदस्यों और दोस्तों को पहचानें जिनसे आप स्कैनेंगज़ाइअटी के बारे में बात करने में ज़्यादा सहज महसूस करेंगे।
  • आगे की योजना बनाएं — ऐसे समय में स्कैन कराए जब कम से कम तनावपूर्ण समय हो। स्कैन करने से पहले, उसके दौरान और बाद में आप कौन से उपकरणों या संसाधनों का उपयोग करेंगे और किसे लाएंगे उसकी भी योजना बनाएं। स्कैन होने के बाद कुछ मनोरंजन की योजना बनाएं।
  • परिणामों के लिए तैयार रहें — जानें कि आपको कब और कैसे मिलेगा। अनुकूल परिणामों की उम्मीद करें लेकिन सबसे खराब स्थिति के लिए योजना बनाएं। परिणामों की प्रतीक्षा करने से किसी को ऐसा महसूस हो सकता है कि उनका किसी स्थिति पर नियंत्रण नहीं है। योजना बनाने से आपको परिस्थितियों पर नियंत्रण करने की समझ मिल सकती है।
  • दूसरों की मदद करें — जरूरतमंद लोगों की मदद करने पर ध्यान दें। इससे आपका ध्यान आपके तनाव से हट सकता है।
  • पेशेवर व्यक्ति से सहायता लें — अगर स्कैनज़ाइटी बहुत बढ़ जाती है और संसाधनों से मदद नहीं मिल रही है तो अपने प्राथमिक देखभाल प्रदाता से बात करें। आप देखभाल करने की योजना बनाने के लिए मिलकर काम कर सकते हैं  इसमें परामर्शदाता या अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर व्यक्ति से अतिरिक्त सहायता ली जा सकती है।
ऐसी गतिविधियों में ध्यान लगाएँ जिसमें आपको आनंद आता हो और स्कैनज़ाइटी में मदद मिल सकती है।

ऐसी गतिविधियों में ध्यान लगाएँ जिसमें आपको आनंद आता हो और स्कैनज़ाइटी में मदद मिल सकती है।

उपयोगी लेख


समीक्षा की गई: अगस्त, 2018