आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बचपन में होने वाले कैंसर के लिए कीमोथेरेपी

कीमोथेरेपी क्या है?

ज़्यादा तेज़ दवाओं का इस्तेमाल करके कैंसर का इलाज करना कीमोथेरेपी या “कीमो” कहलाता है। ये दवाएं कैंसर कोशिकाओं को मारने या उन्हें बढ़ने से रोकने का काम करती हैं। खास तरह की दवा और यह कैसे दी जाती है यह कई बातों पर निर्भर करता है। कीमोथेरेपी कैसे करनी है इसकी तैयारी कई बातों से तय की जाती है जैसे, कैंसर कौन सा है कितना फ़ैल चुका है, इलाज क्यों किया जा रहा है और दूसरी कौनसी इलाज साथ में चल रही है।

कीमोथेरेपी, उन कोशिकाओं पर हमला करके काम करती है जो तेज़ी से बढ़ती हैं और दोगुनी होती हैं, जैसे कि कैंसर कोशिकाओं।
हर दवा अलग तरीके से काम करती है। लेकिन, आम तौर पर, कीमोथेरेपी दवाएं विभाजित होने वाली कोशिकाओं पर असर करती हैं।

कीमोथेरेपी का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

कीमोथेरेपी का इस्तेमाल कैंसर ठीक करने, कैंसर को नियंत्रित करने या कैंसर के लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है. यह अकेले या सर्जरी और रेडिएशन थेरेपी जैसे दूसरे उपचारों के साथ इस्तेमाल की जा सकती है. उदाहरण के लिए, कुछ रोगियों को सर्जरी या रेडिएशन थेरेपी से पहले, ट्यूमर को छोटा करने के लिए कीमोथेरेपी दी जाती है. सर्जरी या रेडिएशन थेरेपी के बाद किसी बची हुई कैंसर कोशिका को खत्म करने के लिए भी कीमोथेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है. कीमोथेरेपी के प्रभाव को बढ़ाने के लिए रेडिएशन थेरेपी के साथ भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.

कीमोथेरेपी, कैंसर कोशिकाओं के तेज़ी से बढ़ने वाली और दोगुनी होने वाली कोशिकाओं पर हमला करके काम करती है। इस वीडियो में, एक कीमोथेरेपी दवा कैंसर कोशिकाओं (नीली) पर हमला करता है, जिससे कोशिकाएं खत्म हो जाती हैं, इसे एपोप्टोसिस कहते हैं.

कीमोथेरेपी कैसे दी जाती है?

कीमोथेरेपी कई तरीकों से दी जा सकती है. तरीका, कैंसर के प्रकार, कैंसर के स्थान और इस्तेमाल की जाने वाली खास दवा पर निर्भर है. 

अक्सर, कीमोथेरेपी मुंह से या किसी नस के ज़रिए दी जाती है। इसे सिस्टेेमिक कीमोथेरेपी कहा जाता है क्योंकि दवा पूरे शरीर को पहुंचती है। कीमोथेरेपी उन कैंसर कोशिकाओं को मार सकती है जो मुख्य ट्यूमर से दूर चली गई हैं।

  • अंतःशिरा (नसों के ज़रिए) (IV) कीमोथेरेपी - कीमोथेरेपी IV के ज़रिए नस में दी जाती है. बचपन में होने वाले कैंसर के लिए यह कीमोथेरेपी का सबसे आम रूप है।
  • ओरल (मुहं से) कीमोथेरेपी – कीमोथेरेपी एक गोली या तरल के रूप में दी जाती है जिसे आप निगलते हैं।

कभी-कभी, दवा ट्यूमर के पास दी जाती है। जैसे, रीढ़ के पानी में या पेट की गुहा में कीमोथेरेपी देना।

कीमोथेरेपी कब दी जाती है?

कीमोथेरेपी में आमतौर पर किसी समयावधि के दौरान उपचार की कई खुराकें शामिल होती हैं. ये इलाज एक निश्चित समय पर दिए जाते हैं. शेड्यूल का लक्ष्य दवा से ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा पहुंचाना है और शरीर को ठीक होने का एक मौका देना है.

अस्पताल के कमरे में कुर्सी पर बैठे एक रोगी का चित्र जो कीमोथेरेपी ले रहा है.

मेडिकल टीम ये तय करेगी:

  • दवा लगातार कितने दिनों तक दी जाएगी
  • कीमोथेरेपी की खुराक के बीच “बिना दवा वाले दिनों” की संख्या
  • चक्रों की संख्या

कीमोथेरेपी के एक चक्र में दो बातें शामिल होती हैं, लगातार जितने दिनों तक इलाज चलता है और जितने दिनों तक आराम करने के लिए कहा जाता है. जितनी बार यह चक्र दोहराने के लिए कहा जाता है, वही कीमोथेरेपी का एक कोर्स बनाता है.

कीमोथेरेपी किस तरह की है और रोगी का स्वास्थ्य कैसा है, इसके हिसाब से, कीमोथेरेपी अस्पताल, औषधालय या घर पर दी जा सकती है.

कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव

दुष्प्रभाव, कैंसर के इलाज से होने वाली परेशानियां हैं. कीमोथेरेपी के कई दुष्प्रभाव इलाज खत्म होने के बाद चले जाते हैं. लेकिन, कभी-कभी दुष्प्रभाव लंबे समय तक नहीं जाते हैं या जीवन में बाद में भी विकसित हो जाते हैं. इन्हें लंबे समय तक दुष्प्रभाव या देर से होने वाले प्रभाव कहा जाता है.

कीमोथेरेपी उन कोशिकाओं पर असर करती है जो कैंसर की तरह बढ़ती हैं और जल्दी से विभाजित होती हैं. लेकिन, यह शरीर की दूसरी तेज़ी से बढ़ने वाली कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है. इनमें वे कोशिकाएं शामिल हैं जो मुंह और आंतों को जोड़ती हैं और जिनकी वजह से बाल बढ़ते हैं. यही वजह है कि मुंह के छाले, मतली और बालों के झड़ने जैसे दुष्प्रभाव आम हैं. 

कीमोथेरेपी बोनमैरो की कोशिकाओं को भी नुकसान पहुंचा सकती है जहां नई रक्त कोशिकाएं बनती हैं. रक्त कोशिका काउंट कम होने से संक्रमण, चोट और थकान का जोखिम बढ़ सकता है.

दवाओं के अलग-अलग दुष्प्रभाव हो सकते हैं और सभी बच्चों पर दवाओं का प्रभाव एक-जैसा नहीं पड़ता. देखभाल करने वाली टीम आम दुष्प्रभावों जैसे कि वे कब हो सकते हैं और उन्हें प्रबंधित करने के कुछ तरीकों पर चर्चा करेगी।

बाईं ओर खड़े एक रोगी का चित्रण, साथ ही दाईं ओर उसी के चेहरे के तीन संस्करण। ऊपर वाला संस्करण रोगी के मुंह के घावों को पास से दिखाता है। बीच वाले संस्करण में रोगी का चेहरा हरे रंग में है जिससे मतली मालूम होता है। नीचे वाला संस्करण रोगी का गंजा सिर दिखाता है।

कीमोथेरेपी उन कोशिकाओं को लक्षित करती है जो कैंसर की तरह बढ़ती हैं और जल्दी से विभाजित होती हैं. लेकिन, यह शरीर की दूसरी तेज़ी से बढ़ने वाली कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है. इनमें वे कोशिकाएं शामिल हैं जो मुंह और आंतों को जोड़ती हैं और जिनकी वजह से बाल बढ़ते हैं. यही वजह है कि मुंह के छाले, मतली और बालों के झड़ने जैसे दुष्प्रभाव आम हैं.


समीक्षा की गई: जून 2018