आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बचपन में होने वाले कैंसर में कब्ज

कब्ज क्या है?

कब्ज एक ऐसी स्थिति है, जिसमें मल (विष्ठा) सख्त हो जाता है, मल विसर्जन में मुश्किल होती है या पाचन तंत्र में से बहुत धीरे से निकलता है। यह मल विसर्जन को नियमित रूप से कम कर सकता है और दर्द, भूख न लगना, बवासीर और त्वचा में दरार पड़ना या फटना जैसी समस्याएं पैदा कर सकता है।

कब्ज, कैंसर और कैंसर के इलाज का एक सामान्य दुष्प्रभाव है। इससे असुविधा पैदा हो सकती है, दैनिक गतिविधियों में बाधा उत्पन्न हो सकती है और जीवन शैली बदल सकती है। कब्ज की गंभीर समस्या से मलाशय में रुकावट महसूस हो सकती है, यह एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें बहुत ज़्यादा सख्त मल आंत या मलाशय में अटक जाता है। सख्त मल के कारण गुदा की त्वचा में या उसके आसपास की त्वचा में दरारें भी पड़ सकती हैं या त्वचा फट सकती है। इस तरह त्वचा फटने को गुदचीर कहा जाता है। कैंसर और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले बच्चों के लिए, त्वचा में इन दरारों से गंभीर संक्रमण हो सकता है।

कब्ज एक ऐसी चीज है, जिसके बारे में बच्चे और विशेषकर किशोर बच्चे शायद बात न करना चाहें। हालांकि, कब्ज की समस्या से निपटने के तरीके हैं। आहार में बदलाव, तरल पदार्थ लेना और शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से इसमें मदद मिल सकती है। देखभाल टीम कब्ज की समस्या से निपटने के लिए कुछ दवाइयां लेने की सलाह भी दे सकती है।

बच्चों में कब्ज के लक्षण

  • सख्त, सूखा या गांठदार मल आना
  • सामान्य से अधिक बड़ा मल आना या छोटे-छोटे टुकड़ों में मल आना
  • सामान्य से कम मल विसर्जन होना
  • मल को बाहर निकालने में दबाव लगाना या नहीं निकाल पाना
  • बाथरूम में काफी समय लगना
  • पेट में दर्द
  • मल विसर्जन के बाद भी फिर से शौच के लिए जाने की ज़रूरत महूसस होना
  • पेट में सूजन आना या पेट भरा या फूला हुआ महसूस होना
  • भूख न लगना
  • पोंछने के बाद टॉयलेट पेपर पर थोड़ा-सा खून दिखना
  • अंडरवियर पर मल या मल के निशान होना
  • चिड़चिड़ा होना, रोना या शौचालय उपयोग से बचना

कब्ज की समस्या का निदान

सभी की मल विसर्जन की आदतें अलग-अलग होती हैं। हालांकि, मल विसर्जन आमतौर पर प्रति सप्ताह 3 या इससे अधिक बार होना चाहिए।

कब्ज की समस्या की पहचान करने में:

  • मल विसर्जन (प्रति सप्ताह 2 या उससे कम बार) होता है
  • मल दिखने में (सख्त, सूखा, गांठदार या मोटाई अधिक होना)
  • मल त्यागने के प्रयास में (दर्द होना या मल विसर्जन में दबाव लगाना)

कब्ज की चिकित्सकीय जांच में ये शामिल हो सकते हैं:

  • स्वास्थ्य इतिहास और शौचालय की आदतों की समीक्षा
  • पेट में दर्द होना
  • गुदा क्षेत्र की जांच
  • प्रयोगशाला में खून और मल की जांच
  • रीफ़्लेक्स और मांसपेशियों की जांच
  • इमेजिंग जाँच

बचपन में होने वाले कैंसर में कब्ज होने के कारण

जैसे-जैसे भोजन पाचन तंत्र में से गुज़रता है, पोषक तत्व और पानी अवशोषित होते हैं। अपशिष्ट, आंत और मलाशय से गुज़रते हुए मल के रूप में बाहर निकल जाता है। कभी-कभी, पाचन तंत्र धीमा हो जाता है और मल आंतों में से धीरे-धीरे गुज़रता है। इससे अधिक पानी अवशोषित हो सकता है, जिससे मल सख़्त और सूखा हो सकता है।

कैंसर के इलाज के दौरान कई कारकों से कब्ज हो सकता है। इनमें शामिल है:

  • कम फाइबर वाले आहार
  • भोजन सेवन में कमी
  • कम तरल पदार्थ का सेवन या पानी की कमी
  • शारीरिक गतिविधि न होना
  • ट्यूमर के कारण पेट या आंतों पर दबाव
  • दर्द या जी मिचलाने की दवाइयां
  • कुछ कीमोथेरेपी दवाइयां
  • अन्य चिकित्सीय स्थितियां जैसे मधुमेह/डायबीटीज़, हाइपोपैरैथायराइडिज्म या आन्त्र बीमारी

दवाइयां, जिनके कारण कब्ज होता है

कुछ दवाइयों से कब्ज होना एक सामान्य दुष्प्रभाव है। कैंसर वाले बच्चों के लिए, जो दवाइयां अक्सर कब्ज का कारण बनती हैं, वे दर्द की दवाइयां और मतली-रोधी दवाइयां होती हैं। कुछ कीमोथेरेपी दवाओं जैसे कि विन्क्रिस्टाईन और विनाब्लास्टाइन का दुष्प्रभाव कब्ज है। जिन बच्चों को खून की कमी के लिए आयरन की दवाई दी जाती है, उन्हें भी कब्ज हो सकता है।

वे दवाइयां जिनके कारण कब्ज होने की ज़्यादा संभावना होती है, उनमें ये शामिल हैं:

  • दर्दनाशक दवाइयां जिसमें नशीले पदार्थ दवाइयां और एनसैड शामिल हैं
  • मतली-रोधी दवाएं
  • एंटासिड्स
  • मूत्रवर्धक
  • एंटीहिसटामाइन सहित एलर्जी की दवाइयां
  • एंटीडिप्रेसेंट दवाइयां
  • आयरन की खुराक

नशीले पदार्थ से कब्ज क्यों होता है?

बचपन में होने वाले कैंसर के इलाज के दौरान दर्द को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए अक्सर नशीले पदार्थ वाली दवाइयां दी जाती हैं। इनमें से कुछ दवाइयां कोडीन, फेंटानील, हाइड्रोकोडोन, मेथाडोन, मॉर्फिन और ऑक्सीकोडोन हैं। नशीले पदार्थ वाली दवाइयां कुछ तरीकों से कब्ज पैदा कर सकती हैं:

  1. नशीले पदार्थ (ओपिओइड) आंतों की गतिविधि को धीमा कर सकता है। यह पाचन प्रणाली में से अपशिष्ट के गुज़रने को धीमा कर देता है।
  2. नशीले पदार्थ आंतों में तरल पदार्थ को कम कर सकते हैं। इसके कारण मल सूखा और सख्त होता है।
  3. नशीले पदार्थ मांसपेशियों की टोन को कम कर सकते हैं और रीफ़्लेक्स को कमजोर कर सकते हैं, जो मल त्याग को नियंत्रित करता है। यह मल को बाहर धकेलना कठिन बना सकता है।

चूंकि कब्ज एक सामान्य दुष्प्रभाव है, इसलिए देखभाल करने वाली टीम नशीले पदार्थ दिए जाने पर कब्ज को रोकने के लिए जुलाब लेने की सलाह दे सकती है।

 

कब्ज के लिए इलाज

बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में कब्ज को रोकने और इलाज में मदद करने के लिए कई तरीके हैं। परिवारों के लिए यह ज़रूरी है कि वे बच्चे के लक्षणों को नियंत्रित करना सुनिश्चित करने के लिए देखभाल टीम के साथ मिलजुल कर कार्य करें। कब्ज की सामान्य समस्या का इलाज आमतौर पर आहार और अन्य व्यवहार परिवर्तनों के साथ किया जाता है जैसे कि अधिक पानी पीना और शारीरिक गतिविधि बढ़ाना। इलाज में अगला कदम आमतौर पर मल विसर्जन करने के लिए दवाई दी जाती है।

कब्ज के लिए दवाइयां

कब्ज की दवाइयों को अक्सर जुलाब की दवाइयां (लैक्सेटिव) कहा जाता है। जुलाब की दवाइयां (लैक्सेटिव) अलग-अलग तरीकों से काम करती हैं, जैसे मल को नरम करना या मल त्याग को उत्तेजित करना।

  • मल नरम करने की दवाएं (डोक्यूसेट) मल को नरम करने के लिए उसमें पानी और वसा की मात्रा को बढ़ाती हैं।
  • ओस्मोटिक लैक्सेटिव (Miralax®, लैक्टुलोज) कब्ज को कम करने के लिए जठरांत्रीय मार्ग में तरल पदार्थ को बढ़ाता है।
  • उत्तेजक लैक्सेटिव (सेना, बिसाकोडिल) मांसपेशियों के संकुचन को बढ़ाते हैं, जो पाचन तंत्र में से मल गुज़रने में मदद करने के लिए आंतों में मार्ग बनाते हैं।
ओस्मोटिक लैक्सेटिव/ मल नरम करने वाली दवाएं उत्तेजक लैक्सेटिव संयोजन दवाइयां
पॉलीइथाइलीन ग्लाइकोल 3350 (MiraLax®) सेना (Ex-Lax®, Senexon®, Senokot®) सेना + डोक्यूसेट (Correctol 50 Plus®, Ex-Lax Gentle Strength®, Peri-Colace®, Senokot S®)
डोक्यूसेट (Colace®, Pedia-Lax®) बिसाकोडिल (Correctol®, Dulcolax®)  
नोट: लैक्सेटिव के लेबल पर संघटकों को पढ़ना महत्वपूर्ण है। कई लोकप्रिय ब्रांड के नामों में कई फ़ार्मुले होते हैं,जो विभिन्न तरीकों से काम करते हैं। ब्रांड नाम केवल उदाहरण के लिए हैं।

कब्ज की दवाइयां अक्सर मुंह से ली जाती हैं। लैक्सेटिव दवाइयां कभी-कभी एक मलाशय से संबंधित वर्ति या एनीमा के रूप में दिया जा सकता है, लेकिन सिर्फ़ चिकित्सक द्वारा निर्देश दिए जाने पर इनका उपयोग किया जाना चाहिए।

कई लैक्सेटिव दवाइयां चिकित्सक के पर्चे के बिना काउंटर पर उपलब्ध होती हैं। हालांकि, किसी भी दवा को लेने से पहले देखभाल टीम के साथ बात करना बहुत ज़रूरी है। ठीक से उपयोग न करने पर लैक्सेटिव दवाइयां जी मिचलाना, ऐंठन, दस्त और पानी की कमी जैसी समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

यदि कब्ज किसी नशीले पदार्थ के कारण होता है, तो ओपिओइड के कारण होने वाले कब्ज को दूर करने में मदद करने के लिए मेथिलनाल्ट्रेक्सोन (Relistor®) नाम की दवा दी जा सकती है। देखभाल टीम दर्द के इलाज की योजना में बदलाव करने पर भी विचार कर सकती है।

कब्ज की समस्या से निपटने में मदद के लिए आहार में परिवर्तन

जी मिचलाना, भूख में कमी और थकान कैंसर के इलाज के दौरान रोगियों को पर्याप्त कैलोरी लेना और उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ का सेवन करना कठिन बना सकती है। कब्ज की समस्या से निपटने में मदद के लिए कुछ आहार परिवर्तनों में ये शामिल हैं:

  • उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ खाएं। उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों में फल, सब्जियां, साबुत अनाज, बीन्स और नट्स शामिल हैं।
  • खूब पानी पीएं।
  • नियमित भोजन करें।
  • नाश्ते में गर्म पेय पदार्थ या गर्म दलिया लें। गर्म तापमान पाचन तंत्र को उत्तेजित करने में मदद कर सकता है।

दुष्प्रभावों से निपटने में मदद के लिए पोषण-संबंधी सुझावों के बारे में अधिक जानें

  1. कुछ मामलों में, कब्ज की गंभीर समस्या के कारण मलाशय में रुकावट हो सकती है। जब ऐसा होता है, मल अधिक मात्रा में सूखकर सख्त हो जाता है, जो मलाशय में फंस जाता है। मरीज मल त्याग नहीं कर पाता है। इलाजों में मलाशय और आंत में सीधे तरल पदार्थ डालने के लिए एनीमा देना शामिल है। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को अधिक मात्रा में इकट्ठा हुए मल को निकालने के लिए हाथ में दस्ताने पहनकर मलाशय में खुद अपनी उँगलियों को डालकर मल को निकालना पड़ सकता है।

  2. इलेयुस तब होता है, जब आंतों की सामान्य गतिविधि न होने के कारण आंत अवरुद्ध हो जाती है। पेट की सर्जरी के बाद कभी-कभी यह स्थिति उत्पन्न होती है। इसे पोस्टऑपरेटिव इलेयुस के रूप में जाना जाता है। इलेयुस के इलाज में आईवी तरल पदार्थ शामिल हैं, ऐसी दवाइयां नहीं दी जाती हैं, जिनसे कब्ज हो और किसी भी अंतर्निहित समस्या का इलाज चल रहा हो।

    जठरांत्रीय विसंपीडन का उपयोग दबाव और उल्टी से राहत देने के लिए वात, तरल पदार्थ और अन्य सामग्री को बाहर निकालने के लिए किया जा सकता है। यह अक्सर नाक के माध्यम से और पेट में एक नासोगैस्ट्रिक (एनजी) ट्यूब डालकर किया जाता है।

  3. कब्ज की क्रॉनिक (पुरानी) समस्या वाले बच्चों को त्वचा में जलन, बवासीर या गुदचीर के कारण दर्द, खुजली और परेशानी हो सकती है। गुदा क्षेत्र की त्वचा के कटने, दरार पड़ने या फटने के कारण संक्रमण हो सकता है। त्वचा की किसी भी समस्या के बारे में देखभाल टीम को बताएं। यह विशेष रूप से प्रतिरक्षा में अक्षम उन बच्चों के लिए ज़रूरी है, जो गंभीर संक्रमण के जोखिम में हैं।

इन समस्याओं को रोकने और इलाज के कुछ तरीकों में ये शामिल हैं:

  • मल त्याग करते समय दबाव डालने से बचें और शौचालय में ज़्यादा देर न बैठें।
  • धीरे से पोंछें, लेकिन अच्छी तरह से साफ करना सुनिश्चित करें। नम टॉयलेट पेपर या अनसेंटेड बाथरूम वाइप्स का उपयोग करने से मदद मिल सकती है।
  • गर्म स्नान करें या उस जगह पर गर्म कपड़ा लगाएं।
  • अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट द्वारा बताई गई क्रीम लगाएं।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में कब्ज: परिवारों के लिए सुझाव

  • अपने बच्चे को कब्ज और अन्य दुष्प्रभावों के होने की संभावना के लिए मानसिक तौर पर तैयार करें। अपने बच्चे को आयु के अनुसार उचित तरीके से उसके शरीर के बारे में जानने में मदद करें और बातचीत करते समय ईमानदार रहें और खुलकर बात करें।
  • गुदचीर और बवासीर जैसी समस्याओं के बारे में बात करें और सुनिश्चित करें कि बड़े बच्चे और किशोर उम्र के बच्चे संकेतों और लक्षणों के बारे में जानते हैं। यदि संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं, तो देखभाल टीम को यह बताने के महत्व पर ज़ोर दें।
  • अपनी देखभाल टीम के साथ कब्ज के बारे में चर्चा करें। कुछ दवाएं और दूसरी रणनीतियां हैं जो सहायक हो सकती हैं।
  • शौचालय की आदतों का रिकॉर्ड रखें। मल कितनी बार, कितना और दिखने में कैसा है, इन सारी बातों को लिखें। दर्द या दबाव होने की समस्या को नोट करना सुनिश्चित करें। यह आपके चिकित्सक को समस्या को बेहतर ढंग से समझने में मदद कर सकता है।
  • उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ दें। यदि आपके बच्चे को खाने या पीने में कोई समस्या हो रही है, तो इसके बारे में अपनी देखभाल टीम को सूचित करें।
  • जितना हो सके शारीरिक गतिविधि के लिए प्रोत्साहित करें।
  • जुलाब की दवाओं (लैक्सेटिव) के लिए खुराक निर्देशों का पालन करें।

कैंसर से पीड़ित बच्चों में कब्ज पर जानकारी के अधिक स्रोत


टूगेदर
इस आलेख में उल्लेखित किसी भी ब्रांडेड उत्पाद का समर्थन नहीं करता है।


समीक्षा की गई: फरवरी, 2019