आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बचपन में होने वाले कैंसर के इलाज में थकान

कैंसर के इलाज के दौरान मरीज अक्सर थका हुआ और कमजोर महसूस करते हैं। कैंसर से संबंधित थकान हर रोज की थकान से अलग है। यह नींद लेने या आराम करने से नहीं जाती है। थकान से कार्यों को पूरा करना या सामान्य गतिविधियां करना मुश्किल हो सकता है। यह स्कूल या काम, संबंधों और भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य में बाधा उत्पन्न कर सकती है। कुछ मरीजों में, इलाज खत्म होने के बाद भी थकान बनी रहती है।

मरीजों और परिवारों के लिए, थकान कैंसर और कैंसर के इलाज के सबसे आम और तनावपूर्ण दुष्प्रभावों में से एक है। संभावित कारणों का पता लगाने और उनसे निपटने की योजना बनाने के लिए, परिवारों का देखभाल टीम के साथ मिलकर काम करना ज़रूरी है।

थकान की समस्या को दूर करने के उपायों में ये शामिल हैं:

  • नींद लेने का शेड्यूल नियमित रखें।
  • विशेष रूप से कैंसर के इलाज के दौरान और बाद में अतिरिक्त आराम की योजना बनाएँ।
  • स्वस्थ आहार का सेवन करें।
  • सक्रिय रहें और जब संभव हो तो कुछ व्यायाम करें।
  • दिन में कुछ समय बाहर बिताकर या परदे खोलकर बाहर की प्राकृतिक रोशनी में रहें।
  • थकान के किसी भी अंतर्निहित कारणों के इलाज के लिए देखभाल टीम के साथ मिलकर काम करें।

कैंसर से संबंधित थकान क्या है?

कम ऊर्जावान महसूस करना, थकान या थकावट होना, जो किसी अन्य कारणों से नहीं होती है या आराम करने से भी दूर नहीं होती है, तो यह कैंसर से संबंधित थकान होती है। थकान के मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक प्रभाव होते हैं और ये दैनिक जीवन बाधा उत्पन्न करते हैं।

कैंसर में थकान के कारण

बचपन में होने वाले कैंसर के दौरान और उसके बाद, थकान आमतौर पर कई कारकों से होती है। इनमें कैंसर के इलाज, कैंसर के अपने प्रभाव और अन्य शारीरिक, व्यवहारिक और भावनात्मक कारक शामिल हैं।

कीमोथेरेपी और थकान

कीमोथेरेपी के दौरान थकान ज़्यादा और कम हो सकती है। आमतौर पर कीमो इलाज के बाद के दिनों में थकान सबसे खराब होती है जब रक्त कोशिकाओं की संख्या सबसे कम होती है। अगला इलाज होने तक ऊर्जा का स्तर धीरे-धीरे बढ़ सकता है। लक्षित इलाज और प्रतिरक्षा बढ़ाने का उपचार (इम्यूनोथेरेपी) एजेंट के कारण भी थकान हो सकती है।

कैंसर-रोधी दवाइयों से कई तरीकों से थकान हो सकती है। शारीरिक परिवर्तन जो थकान में योगदान कर सकते हैं उनमें ये शामिल हैं:

रेडिएशन थेरेपी और थकान

रेडिएशन थेरेपी लेने वाले मरीजों को भी थकान की समस्या हो सकती है। रेडिएशन से होने वाली थकान समय के साथ-साथ बदतर होती जाती है। इसमें आमतौर पर इलाज ख़त्म होने के बाद सुधार आ जाता है। विशेष रूप से मस्तिष्क में रेडिएशन के कारण थकान होने की संभावना होती है।

कैंसर से संबंधित थकान का जोखिम बढ़ाने वाले अन्य कारक

  • दवाइयाँ, जिसमें कॉर्टीकोस्टेरॉयड्स, दर्द की दवा, मतली-रोधी दवाएं शामिल हैं
  • कैंसर के इलाज के बाद खून कम होने या रक्त कोशिकाओं की संख्या में कमी होने के कारण खून की कमी होना
  • नींद की समस्याएँ
  • हार्मोन में बदलाव
  • दर्द
  • संक्रमण
  • पानी की कमी
  • तनाव, चिंता या उदासी की बीमारी
  • कम शारीरिक गतिविधि और कम शारीरिक फिटनेस
  • प्राकृतिक (बाहरी) प्रकाश के संपर्क में कम आना
  • पोषक आहार की कमी या कम कैलोरी का सेवन
  • हृदय, फेफड़े या गुर्दे की समस्या

थकान का आकलन

थकान का इलाज करने का पहला चरण है, समस्या के बारे में अधिक जानें और संभावित कारणों का पता लगाएं। इसमें ऑनसेट, अवधि, दैनिक गतिविधियों पर प्रभाव और किस कारण थकान में बेहतर लगता है या बहुत ज़्यादा थकान होती है, इस बारे में सवाल। अंतर्निहित कारणों के बारे में पता लगाने के लिए चिकित्सकीय इतिहास, शारीरिक जांच और प्रयोगशाला में जांच की जाती है। मरीज की नींद लेने, शारीरिक गतिविधि और खाने की आदतों से जुड़ी जानकारी से भी थकान का आकलन करने में मदद मिल सकती है।

कैंसर से जुड़ी थकान के आकलन में ये शामिल किए जा सकते हैं:

  • मरीज और घरवालों का साक्षात्कार
  • दवाइयों की समीक्षा
  • चिकित्सकीय इतिहास और शारीरिक जांच
  • खून की जाँच
  • नींद और गतिविधि की डायरी
 

थकान की समस्या से निपटने के उपाय

कैंसर के दौरान “बिल्कुल ऊर्जा नहीं” जैसा महसूस होना सामान्य बात है और यह ठीक हो जाएगी, यह जानने से मदद मिल सकती है। थकान बढ़ाने वाले चिकित्सकीय और भावनात्मक कारकों को पहचानने और उनका इलाज करने के लिए, परिवार को देखभाल टीम के साथ मिलकर काम करना चाहिए। एक रोगी की थकान के कारणों को पूरी तरह से नहीं जाना जा सकता है।

थकान की समस्या से निपटने के उपायों में ये शामिल हैं:

  • अच्छी नींद लेने की आदत डालना – कैंसर के दौरान नींद से जुड़ी समस्याएँ होना आम हैं, विशेषकर जब मरीज अस्पताल में होते हैं। नींद लेने का समय तय करने, बाहर प्राकृतिक रोशनी में अधिक समय बिताने और नींद के लिए आरामदायक माहौल बनाने से बेहतर नींद मिल सकती है और थकान कम होती है।
  • कसरत और शारीरिक गतिविधि – यहां तक कि कम मात्रा में शारीरिक गतिविधि भी ऊर्जा बढ़ाने और थकान को कम करने में मदद कर सकती है। कसरत से ताकत और तंदरुस्ती भी बेहतर होती है, जिससे कम प्रयास में दैनिक कार्यों को करना आसान होता है। थकान के कारण कसरत करना मुश्किल हो सकता है। लेकिन तब भी जब कसरत करना मुश्किल लगता है, तो थोड़ी देर के लिए कुछ कसरत करने की कोशिश करना ज़रूरी होता है।
  • अच्छा पोषण – कैंसर के दौरान मरीजों के लिए पर्याप्त कैलोरी और तरल पदार्थ लेना मुश्किल हो सकता है। इससे शरीर की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने की क्षमता में बाधा उत्पन्न हो सकती है। वजन कम होना और मांसपेशी कमजोर होने के कारण भी थकान हो सकती है। स्वस्थ खाने की आदतें और चिकित्सकीय पोषक तत्व की सहायता यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है कि बच्चों को उनकी आवश्यकता के अनुसार पोषक तत्व मिलें।
  • सायकोथेरेपी – मानसिक स्वास्थ्य के विशेषज्ञ यह जानने में मदद कर सकते हैं कि थकान अवसाद, चिंता या तनाव के कारण तो नहीं है। बातचीत करने की थेरेपी या परामर्श लेने से मरीजों को थकान की समस्या से निपटने के लिए खुद कार्यनीतियाँ बनाना सिखाया जा सकता है।
  • प्रकाश उपचार – प्राकृतिक रोशनी में जाएँ, खासकर सुबह में बाहर जाने से अच्छी नींद आ सकती है और थकान कम महसूस होती है। मरीजों के खासकर अस्पताल में रहने के दौरान, प्राकृतिक रोशनी लेना मुश्किल हो सकता है। उज्ज्वल प्रकाश उपचार के साथ इलाज शरीर के आंतरिक घड़ी को विनियमित करने में मदद करने के लिए निर्दिष्ट समय के लिए वितरित एक नियंत्रित प्रकाश स्रोत का उपयोग करता है।
  • अतिरिक्त चिकित्सा – मरीज को म्यूज़िक थेरेपी, आर्ट थेरेपी, विश्राम तकनीक, मसाज थेरेपी और अरोमाथेरेपी जैसे इलाजों के ज़रिए थकान में सहायता मिल सकती है। देखभाल टीम उन तकनीकों का पता लगाने में परिवार की मदद कर सकती है, जो ज़्यादा उपयोगी हो सकती हैं।

कैंसर से पीड़ित बच्चों और किशोरों में थकान: परिवारों के लिए सुझाव

  • थकान के बारे में अपनी देखभाल टीम से बात करें।
  • लक्षणों का रिकॉर्ड रखें। थकान कब होती है, कब ज़्यादा होती है, किससे थकान में राहत मिलती है और कोई भी संबंधित कारक जैसे दर्द, तनाव और नींद की समस्याओं के बारे में लिखकर रखें।
  • रोज़ एक ही तय समय पर नींद लें, विश्राम करें और गतिविधि करें।
  • सुनिश्चित करें कि खाद्य और तरल पदार्थों के सेवन से अच्छा पोषण मिले और पानी की कमी पूरी हो।

कैंसर से संबंधित थकान पर अधिक संसाधन