आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

पोजीट्रान एमिशन टोमोग्राफी (पैट) स्कैन

पैट (पोजीट्रान एमिशन टोमोग्राफी) स्कैन एक परीक्षण है जो दिखाता है कि शरीर के अंदर के अंग और ऊतक कैसे कार्य करते हैं। ये परीक्षण कैंसर का निदान और इलाज करने में चिकित्सकों की मदद करते हैं क्योंकि वे कैंसर और अन्य कोशिकाओं की गतिविधि को देख और ट्रैक कर सकते हैं। जिन प्रक्रियाओं को मापा जा सकता है उनमें खून के प्रवाह, ट्यूमर की वृद्धि दर और कीमोथेरेपी दवाओं की कार्रवाई शामिल है।

पैट-सीटी स्कैन क्या है?

कभी-कभी पैट स्कैन और कंप्यूटेड टोमोग्राफ़ी (सीटी) स्कैन एक ही समय में किए जाते हैं। पैट-सीटी स्कैन पैट और सीटी स्कैन दोनों से तस्वीरें लेता है और उन्हें जोड़ता है, जिससे चिकित्सकों को कैंसर के फ़ंक्शन, आकार, प्रकार और कैंसर होने की जगह के साथ ही उसके आसपास की संरचनाओं के बारे में जानकारी मिलती है। सीटी पहले किया जाता है, ताकि शरीर के अंगों और संरचनाओं की एनाटॉमिक तस्वीरें ले ली जाएं और फिर पैट किया जाता है और रंगीन तस्वीरें ली जाती है जो ऊतकों में मेटाबॉलिक या अन्य कार्यात्मक परिवर्तन दिखाते हैं।

एक नॉन-हॉजकिन लिंफोमा के बाल रोगी का पैट सीटी स्कैन
एक नॉन-हॉजकिन लिंफोमा के बाल रोगी के पार्श्व भाग का पैट सीटी स्कैन
एक नॉन-हॉजकिन लिंफोमा के बाल रोगी के अक्षीय तल का पैट सीटी स्कैन

पैट-सीटी स्कैन पैट और सीटी स्कैन दोनों से तस्वीरें लेता है और उन्हें जोड़ता है।

पैट स्कैन कैसे काम करता है?

पैट स्कैन कोशिकाओं में ग्लूकोज़ या चीनी के स्तर को माप सकता है। पैट स्कैन से पहले, रोगियों को रेडियोएक्टिव ट्रेसर का इंजेक्शन लगाया जाता है - ग्लूकोज़ का एक रूप जिसमें थोड़ी मात्रा में रेडियोएक्टिव सामग्री संलग्न होती है। क्योंकि कैंसर कोशिकाएं इतनी तेज़ी से बढ़ती और विभाजित होती हैं, वे सामान्य कोशिकाओं की तुलना में बहुत अधिक ग्लूकोज़ को अवशोषित करती हैं। ग्लूकोज़ अणु से जुड़ी रेडियोएक्टिव सामग्री की वजह से ग्लूकोज़ पैट स्कैन में चमकता है। 

पैट स्कैन कराने के लिए तैयार युवा पुरुष कैंसर रोगी रेडियोएक्टिव ट्रेसर लेता है।

रोगियों को रेडियोएक्टिव ट्रेसर का इंजेक्शन लगाया जाता है - ग्लूकोज़ का एक रूप जिसमें थोड़ी मात्रा में रेडियोएक्टिव सामग्री संलग्न होती है।

रेडियोएक्टिव ट्रेसर, गामा किरण नामक अदृश्य ऊर्जा का उत्सर्जन करता है, जिसे गामा कैमरे या पैट स्कैनर से देखा जा सकता है।

सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले ट्रेसर में से एक है FDG (फ़्लोरोडियॉक्सीग्लूकोज़)। यह बाल चिकित्सा केंद्र में एक प्रयोगशाला में निर्मित होता है और परीक्षण के लिए सीधे पैट क्लिनिक में ले जाया जाता है।

पैट स्कैन के लिए मुलाकात के दौरान रोगी क्या उम्मीद कर सकता है?

  • रोगी पहले पंजीकरण डेस्क पर चेक-इन करेंगे और प्रतीक्षा करने वाली जगह पर जाएंगे। फिर रोगी और माता-पिता को पैट स्कैनर वाले क्षेत्र में वापस बुलाया जाएगा।
  •  एक नर्स या टेक्नोलॉजिस्ट, रोगी के ग्लूकोज़ स्तर की जांच करेगा। अगर स्तर सही है, तो नर्स या टेक्नोलॉजिस्ट रेडियोएक्टिव ट्रेसर (जिसे एफडीजी कहा जाता है) को एक शिरा में इंजेक्ट करेगा।
  • ट्रैसर को ऊतकों में स्कैन किए जाने के लिए रोगी को लगभग 45 मिनट तक इंतज़ार करना होगा।
  • पैट मशीन बड़ी और गोल होती है और केंद्र में एक बेड के साथ एक खुली जगह होती है। बेड इसी जगह से अंदर जाता है। जब स्कैन का समय होता है, तो टेक्नोलॉजिस्ट रोगी को बेड पर आने में मदद करेगा, रोगी को उचित स्थिति में लाने में मदद करेगा और फिर एक निकटवर्ती कमरे में जाएगा। टेक्नोलॉजिस्ट यहां से पैट स्कैनर चलाते हुए, रोगी को देख, सुन सकता है और उससे बात कर सकता है।
  • परीक्षण में दर्द नहीं होगा, लेकिन रोगी के लिए स्थिर रहकर 30-45 मिनट तक लेटे रहना असहज हो सकता है। रोगी को प्रक्रिया के दौरान सोने में मदद करने के लिए बेहोश करने की दवाई दी जा सकती है। एक शिशु जीवन विशेषज्ञ, रोगी को शांति से लेटने के लिए समझा सकता है।
युवा पुरुष कैंसर रोगी का पैट स्कैन होते हुए, लाल बत्ती उसके चेहरे पर दिखाई दे रही है।

मशीन के चालू होने पर रोगी को स्कैन की लाल लेज़र रोशनी दिखाई देगी, लेकिन उन्हें महसूस नहीं होगी।

  • मशीन के चालू होने पर रोगी को स्कैन की लाल लेज़र रोशनी दिखाई देगी लेकिन उन्हें महसूस नहीं होगी। पैट स्कैनर बहुत शोर नहीं करता है और यह रोगी को स्पर्श नहीं करेगा। आमतौर पर रोगी संगीत सुन सकते हैं या फिल्म देख सकते हैं।
  • परीक्षण के दौरान कुछ समय के लिए मशीन के केंद्र में बने बड़े से छेद के माध्यम से बेड धीरे-धीरे स्लाइड करेगा।
  • अगर बेहोश नहीं किया गया था, तो रोगी आमतौर पर तुरंत सामान्य गतिविधि पर लौट सकते हैं। अगर बेहोश किया गया था, तो सही होगा कि रोगी पहले ठीक हो जाए और एनेस्थीसियाका असर खत्म हो जाए।

परीक्षण से पहले रोगी को क्या करना चाहिए?

  • परीक्षण की तैयारी के लिए, रोगियों को कुछ खाद्य पदार्थ और पेय नहीं लेने चाहिए या परीक्षण से कई घंटे पहले सख्ती से व्यायाम नहीं करना चाहिए क्योंकि यह स्कैन को प्रभावित कर सकता है। देखभाल करने वाली टीम तैयारी के तरीके के बारे में विशिष्ट जानकारी प्रदान करेगी।  
  • रोगी को ढीले, आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए। पैट स्कैनर को ठंडा रखा जाता है, इसलिए कमरा ठंडा हो सकता है।
  • चेक-इन के लिए दिए गए मुलाकात के समय से कुछ मिनट पहले पहुंचना आवश्यक होता है। 

क्या रेडियोएक्टिव सामग्री सुरक्षित होती है?

रेडिएशन का स्तर बहुत कम है और चिकित्सक इसमें शामिल जोखिमों और लाभों पर चर्चा करेंगे। अगर रोगी और परिवारों को कोई चिंता है, तो उन्हें अपनी देखभाल टीम से बात करनी चाहिए। रेडियोएक्टिव पदार्थ कोशिकाओं द्वारा लिया जाता है और लंबे समय तक शरीर में नहीं रहता है। रेडियोएक्टिव क्षय की प्राकृतिक प्रक्रिया के माध्यम से, यह समय के साथ अपनी रेडियोधर्मिता खो देगा। यह परीक्षण के बाद के पहले कुछ घंटों के दौरान मूत्र या मल के माध्यम से शरीर से बाहर निकल सकता है। हो सकता है चिकित्सीय टीम रेडियोएक्टिव सामग्री को बाहर निकालने में मदद करने के लिए रोगियों को बहुत सारा पानी पीने के लिए कहे।

रेडियोधर्मिता की मात्रा बहुत कम होने के बावजूद, यह सुझाव दिया जाता है कि माता-पिता स्कैन के बाद अपने बच्चे की देखभाल करते समय ये सावधानियां बरतें:

  • रोगी के डायपर बदलने या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में आने के बाद हमेशा हाथ धोएं।
  • नियमित कूड़ेदान में रखने से पहले, गंदे डायपर 2 दिनों के लिए एक अलग कूड़ेदान में रखें।
  • गर्भवती महिलाओं को स्कैन के बाद कम से कम 24 घंटे तक रोगी के गले नहीं मिलना चाहिए। इसके अलावा, रोगी को अगले दिन तक शिशुओं और बच्चों से सीधे संपर्क से बचना चाहिए।

रोगियों को परिणाम, कैसे पता चलेगा?

एक विकिरण चिकित्सक, जिसके पास न्यूक्लियर मेडिसिन में विशेष प्रशिक्षण है, तस्वीर का विश्लेषण करेगा और संदर्भित चिकित्सक को एक रिपोर्ट भेजेगा। रोगी की अगली मुलाकात के दौरान संदर्भित चिकित्सक परीक्षण के परिणामों को समझाएगा।


समीक्षा की गई: जून 2018