मुख्य विषयवस्तु में जाएं

आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

वॉयडिंग सिस्टौरेथ्रोग्राम (VCUG)

एक VCUG (वॉयडिंग सिस्टौरेथ्रोग्राम) पेशाब के रास्ते की तस्वीरें लेता है और दिखाता है कि यह कैसे काम कर रहा है.

इसमें फ़्लोरोस्कोपी नामक तकनीक का उपयोग किया जाता है. फ़्लोरोस्कोपी को कभी-कभी “लाइव” एक्स-रे भी कहा जाता है. यह दिखाता है कि शरीर के अंदर के अंग कैसे काम करते हैं.

डॉक्टर इस परीक्षण का अनुरोध उन रोगियों के लिए करते हैं जिन्हें बार-बार मूत्र मार्ग में संक्रमण या अन्य संबंधित समस्याएं होती हैं.

VCUG दिखा सकता है कि क्या रोगी में वैसिकॉइरेटरल (VU) रिफ्लक्स नामक समस्या है. इस स्थिति के कारण मूत्राशय से किडनी तक गलत दिशा में मूत्र प्रवाह होता है. VCUG यह भी दिखा सकता है कि क्या मूत्रमार्ग में कोई असामान्यताएं या रुकावटें हैं.

एक्स-रे तस्वीर कैंसर से पीड़ित बच्चे में VCUG परीक्षण की शुरुआत दर्शाती है. 
एक्स-रे, कैंसर से पीड़ित बच्चे में VCUG परीक्षण की प्रगति दर्शाता है.
एक्स-रे, कैंसर से पीड़ित बच्चे में VCUG परीक्षण की अतिरिक्त प्रगति दर्शाता है.
एक्स-रे, कैंसर से पीड़ित बच्चे में VCUG परीक्षण की अंतिम स्थिति दर्शाता है.

VCUG दिखा सकता है कि क्या किसी रोगी को वैसिकॉइरेटरल (VU) रिफ्लेक्स है और क्या मूत्रमार्ग में असामान्यताएं या रुकावटें हैं.

VCUG कौन करता है?

एक रेडियोलॉजिस्ट और रेडियोलॉजिकल टेक्नोलॉजिस्ट परीक्षण करते हैं. स्टाफ़ के अन्य सदस्य मदद कर सकते हैं.

परीक्षण में कितना समय लगता है?

परीक्षण में आमतौर पर लगभग 30 मिनट लगते हैं.

क्या VCUG सुरक्षित है?

VCUG एक्स-रे का एक प्रकार है, इसलिए यह तस्वीरों को बनाने के लिए कम मात्रा में आयनीकृत रेडिएशन का उपयोग करता है. किसी VCUG के दौरान इस्तेमाल की गई रेडिएशन की मात्रा बहुत कम होती है. चिकित्सा लाभ, रेडिएशन जोखिम की थोड़ी मात्रा की तुलना में बहुत ज़्यादा हैं. परिवारों को चिकित्सा टीम के साथ, कोई चिंता होने पर चर्चा करनी चाहिए.

अंगों के विस्तृत मूल्यांकन को दिखाने वाला एक वयस्क पुरुष के शरीर का ग्राफ़िक. मूत्र मार्ग के अंग हाइलाइट किए गए हैं, जिसमें किडनी, यूरेटर, ब्लैडर और मूत्रमार्ग शामिल हैं.

VCUG पेशाब के रास्ते की तस्वीरें लेता है और दिखाता है कि यह कैसे काम कर रहा है.

माता-पिता को रोगी को तैयार करने में कैसे मदद करनी चाहिए?

माता-पिता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनका बच्चा:

  • समझता या समझती है कि परीक्षण क्यों हो रहा है और इसमें क्या होगा. एक बाल जीवन विशेषज्ञ रोगी को तैयार करने और उसकी सहायता करने में मदद कर सकता है.
  • ढीले, आरामदायक कपड़े पहनें जो आसानी से उतारे और पहने जा सकें. अधिकांश केंद्रों पर, रोगी को अपने कपड़े निकाल कर, गाउन पहनना होगा.

परीक्षण से पहले किन विवरणों का ध्यान रखा जाना चाहिए?

  • अस्पताल के आधार पर, माता-पिता को बीमा कंपनी के साथ परामर्श करना पड़ सकता है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि प्रक्रिया के लिए बीमा कंपनी कितना भुगतान करेगी.
  • माता-पिता को ये बातें मेडिकल टीम को बताना चाहिए:
    • कोई भी दवा जो रोगी लेता है, जिसमें बिना पर्ची वाली दवाएं भी शामिल हैं.
    • एलर्जी, विशेष रूप से आयोडीन के प्रति. यह VCUG के दौरान इस्तेमाल होने वाले कंट्रास्ट लिक्विड में होता है.
    • अगर रोगी गर्भवती है या हो सकती है.
  • केंद्र पर पहुंचने के लिए पर्याप्त समय दें. मुलाकात के लिए समय पर पहुंचना आवश्यक होता है, भले ही चेक-इन के लिए दिए जाने वाले समय से कुछ समय पहले पहुंच जाएं.
  • माता-पिता और रोगी प्रक्रिया के लिए समय होने तक प्रतीक्षा करने वाली जगह पर प्रतीक्षा करेंगे. प्रतीक्षा अवधि लंबी होने की स्थिति में ही कुछ और करें.

VCUG जांच के दौरान क्या होता है?

  • रेडियोलॉजी स्टाफ़ का एक सदस्य परिवार के साथ इस बारे में बात करेगा कि रोगी को VCUG की आवश्यकता क्यों है और इसकी प्रक्रिया समझाएगा.
  • टेक्नोलॉजिस्ट, रोगी को एक्स-रे टेबल पर मदद करेगा. इस परीक्षण के लिए रोगी पीठ के बल लेट जाते हैं. शिशुओं और छोटे बच्चों को इमेजिंग के दौरान स्थिर रूप से लिटाए रखने में सहायता के लिए विशेष उपकरण लगाया जा सकता है. रोगी को स्थिर रहना होगा, ताकि तस्वीर धुंधली न हो.
  • परीक्षण के लिए एक पतली, खोखली ट्यूब कैथेटर की आवश्यकता होती है जिसे रोगी के मूत्राशय के अंदर डाला जाता है.
    • एक नर्स या टेक्नोलॉजिस्ट उस क्षेत्र को साफ करेगा जहां कैथेटर डाला जाएगा. इस एंटीसेप्टिक से ठंड लग सकती है.
    • स्टाफ़ का विशेष रूप से प्रशिक्षित सदस्य - एक नर्स, टेक्नोलॉजिस्ट या डॉक्टर - मूत्रमार्ग के माध्यम से रोगी के मूत्राशय के अंदर कैथेटर डालेगा. रोगी कुछ दबाव महसूस करेगा और बाथरूम जाने की आवश्यकता महसूस कर सकता है.
    • एक नर्स या टेक्नोलॉजिस्ट कैथेटर को टेप से चिपकाएगा ताकि परीक्षण के दौरान यह बाहर न आए.
  • रेडियोलॉजी स्टाफ़ सदस्य कैथेटर को एक्स-रे कंट्रास्ट तरल की बोतल से जोड़ देगा. यह कंट्रास्ट मूत्र पथ, मूत्राशय और मूत्रमार्ग को विशेष रूप से फ़्लोरोस्कोपी स्क्रीन पर देखने में मदद करता है.
  • टेक्नोलॉजिस्ट एक्स-रे मशीन (जिसे “फ्लोरो टॉवर” भी कहते हैं) को रोगी के शरीर के ऊपर लाएगा. कंट्रास्ट तरल पदार्थ कैथेटर के माध्यम से रोगी के मूत्राशय में प्रवाहित होगा. टेक्नोलॉजिस्ट विभिन्न कोणों से तस्वीर लेने के लिए, रोगी को इधर-उधर हिलाएगा.
  • रोगी को पेशाब रोक के रखना होगा, भले ही उसे ज़ोर से पेशाब लगी हो. जब मूत्राशय भरा होता है, तो रेडियोलॉजिस्ट रोगी को मेज पर पेशाब करने के लिए कहेगा. तरल को इकट्ठा करने के लिए तौलिये, एक मूत्र पात्र, बेड पैन या शोषक पैड रखे होंगे. जब रोगी पेशाब करता है, तब रेडियोलॉजिस्ट और एक्स-रे लेगा.
  • जब मरीज पेशाब करेगा तो कैथेटर संभवतया पने आप निकल जाएगा. उसके बाद, रेडियोलॉजिस्ट कुछ और एक्स-रे लेगा.

परीक्षण के दौरान रोगी क्या महसूस करेगा?

VCUG परीक्षण असहज हो सकता है. कैथेटर डालना और मूत्राशय को तरल से भरने से असुविधा हो सकती है.

बच्चों और किशोरों को VCUG शर्मनाक और अप्राकृतिक लग सकता है, क्योंकि वे अकेले में बाथरूम जाने के आदी होते हैं. माता-पिता आमतौर पर रोगी के साथ कमरे में रह सकते हैं. साथ ही, परिवार इस प्रक्रिया के दौरान बाल जीवन विशेषज्ञ से वहां रहने के लिए कह सकता है.

रेडियोलॉजी स्टाफ़ को परीक्षण करने का अनुभव होता है. यह एक आवश्यक चिकित्सा प्रक्रिया है, इसलिए रोगियों को शर्मिंदा महसूस नहीं करना चाहिए.

परीक्षण के बाद रोगी को क्या महसूस होगा?

कुछ रोगियों को प्रक्रिया के बाद पेशाब के दौरान असुविधा होती है. यह असुविधा आमतौर पर 12 घंटे से कम समय में ठीक हो जाती है.

परिवार को परिणाम, कैसे पता चलेगा?

रेडियोलॉजिस्ट परीक्षण के परिणामों की व्याख्या करेगा और उन्हें डॉक्टर को भेजेगा, जिन्होंने VCUG करवाया था. मेडिकल टीम का एक सदस्य अगली मुलाकात पर रोगी और परिवार के साथ परिणामों की समीक्षा करेगा.


समीक्षा की गई: जून 2018