आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बचपन में होने वाले कैंसर के महिला मरीजों में प्रजनन क्षमता की रक्षा करना

बचपन में होने वाले कैंसर के कुछ इलाज एक महिला मरीज की भविष्य में बच्चे पैदा करने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

कैंसर रोग की पहचान करने के बाद, मरीजों या माता-पिता के दिमाग में बच्चे पैदा होने की चिंता शायद ही सबसे ऊपर हो। लेकिन थेरेपी शुरू होने से पहले, परिवारों को कैंसर विशेषज्ञ के साथ मरीज की प्रजनन क्षमता पर इलाज के प्रभाव के बारे में चर्चा करनी चाहिए। बचपन में होने वाले कैंसर केंद्र में प्रजनन विशेषज्ञ भी होते हैं, जिनसे परिवार सलाह ले सकते हैं।

प्रजनन क्षमता किसी व्यक्ति की प्रजनन की क्षमता को दर्शाती है: पुरुष की पिता बनने की क्षमता और महिला के गर्भवती होने की क्षमता को बताती है।

महिला प्रजनन प्रणाली

महिलाओं में दो अंडाशय होते हैं। ये महिला के श्रोणि के क्षेत्र में स्थित होते हैं। यौवन के दौरान, मस्तिष्क में पीयूष ग्रंथि अंडाशय को अधिक एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन बनाने के लिए संकेत देती है। प्रजनन प्रणाली के कार्य करने के लिए ये हार्मोन ज़रूरी होते हैं।

एक लड़की उन सभी अंडों के साथ पैदा होती है जो उसके पास कभी भी होंगे। महीने में एक बार, अंडाशय आमतौर पर एक अंडा छोड़ते हैं। यदि पुरुष के शुक्राणु अंडे का गर्भाधान करते हैं, तो महिला गर्भवती हो जाती है।

इस चित्रण में एक किशोरावस्था वाली लड़की को उसके गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब, अंडाशय, सर्विक्स (गर्भाशय ग्रीवा) और योनि को दर्शाया गया है। मुख्य चित्र के दाईं ओर, एक युवती के शरीर के छायाचित्र पर एंडोक्राइन तंत्र के अंगों को भी दर्शाया गया है: पीनियल ग्रंथि, हाइपोथेलेमस, पीयूष ग्रंथि, थायराइड और पैराथायराइड, बाल्यग्रन्थि, अधिवृक्क ग्रंथि (एड्रेनल ग्लैंड) और पाचक-ग्रंथि।

महिला की प्रजनन प्रणाली के अंग मिलकर काम करते हैं, ताकि महिला गर्भवती हो सके, डिलिवरी का समय आने तक विकसित हो रहे मानव को रख सके और उसे जन्म दे सके।

कैंसर का इलाज महिलाओं में प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है

जो इलाज मरीज के श्रोणि के क्षेत्र, प्रजनन अंगों और पीयूष ग्रंथि के काम को प्रभावित करता है, वह मरीज की प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है। इलाज से अंडों की संख्या कम हो सकती है या अंडों की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है।

इलाज शुरू होने से पहले ये काम करें

इलाज शुरू होने से पहले, माता-पिता और मरीज यदि पर्याप्त बुजुर्ग हैं, तो मरीज की बच्चे पैदा करने की क्षमता पर कैंसर के इलाज के प्रभाव के बारे में चिकित्सीय टीम से बात करनी चाहिए।

  • यदि इलाज प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है, तो चिकित्सीय टीम से पूछें कि प्रजनन क्षमता की रक्षा के लिए क्या किया जा सकता है।
  • इलाज के शुल्क का और यह बीमा में कवर है या नहीं, इस बारे में पता लगाएं।

प्रक्रियाएं, जिनसे प्रजनन क्षमता को संरक्षित किया जा सकता है

इलाज शुरू होने से पहले पूछे जाने वाले प्रश्न

जब आपकी बेटी बहुत छोटी होती है, तो प्रजनन विकल्पों के बारे में चर्चा करना थोड़ा अजीब लग सकता है। लेकिन कई स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं का मानना है कि इलाज शुरू होने से पहले चर्चा करना सबसे अच्छा समय होता है।

इस तरह के सवाल पूछने पर विचार करें:

  • क्या इलाज से बांझपन का खतरा बढ़ सकता है या इससे बांझपन हो सकता है?
  • क्या अन्य सुझावित कैंसर के इलाज हैं, जिनसे प्रजनन की समस्याएं पैदा न हों?
  • आप मेरे लिए कौन से प्रजनन के संरक्षण का विकल्प देने की सलाह देंगे?
  • इस अस्पताल में प्रजनन के संरक्षण के लिए कौन से विकल्प उपलब्ध हैं? प्रजनन क्लिनिक में?
  • क्या आप प्रजनन विशेषज्ञ (जैसे कि प्रजनन संबंधी एंडोक्राइन विशेषज्ञ) की सलाह देंगे, जिससे मैं ज़्यादा सीखने के लिए बात कर सकूं?
  • क्या गर्भनिरोधक की भी सलाह दी जाती है?
  • इस बात की कितनी संभावनाएं हैं कि इलाज के बाद मेरी प्रजनन क्षमता वापस आ जाएगी?


टूगेदर
इस आलेख में उल्लेखित किसी भी ब्रांडेड उत्पाद का समर्थन नहीं करता है।


समीक्षा की गई: जून 2018