आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

खून में जीवाणु का पता लगाना

जब बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में बुखार या संक्रमण के कुछ अन्य लक्षण विकसित होते हैं, तो यह जानलेवा बीमारी का संकेत हो सकता है। स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को लक्षणों के कारण के बारे में जानकारी की आवश्यकता होती है, ताकि जितनी जल्दी हो सके रोगी का इलाज किया जा सके।

संक्रमण के स्रोत को खोजने में मदद करने के लिए खून में जीवाणु का पता लगाने की प्रक्रिया की जा सकती है।

शरीर में बुखार हो जाता है क्योंकि इसका तापमान बढ़ जाता है, क्योंकि शरीर कीटाणु/जीवाणु, फफूंदी या विषाणु जैसे सूक्ष्मजीवों के आक्रमण से अपना बचाव करने की कोशिश करता है। रोगी को अन्य लक्षण जैसे ठंड लगना, थकान और शरीर में दर्द हो सकता है।

शरीर में बुखार हो जाता है क्योंकि इसका तापमान बढ़ जाता है, क्योंकि शरीर कीटाणु/जीवाणु, फफूंदी या विषाणु के आक्रमण से अपना बचाव करने की कोशिश करता है।

शरीर में बुखार हो जाता है क्योंकि इसका तापमान बढ़ जाता है, क्योंकि शरीर कीटाणु/जीवाणु, फफूंदी या विषाणु के आक्रमण से अपना बचाव करने की कोशिश करता है।

बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में रक्त संक्रमण गंभीर होता है

बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों की प्रतिरक्षा प्रणाली अक्सर संक्रमण के खिलाफ अपने शरीर की अच्छी तरह से रक्षा नहीं कर सकती है। उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं कर सकती क्योंकि संक्रमण से लड़ने वाली सफेद रक्त कोशिकाएं कीमोथेरेपी और रेडिएशन से नष्ट हो गई होती हैं। खून और बोन मैरो (हड्डी के अंदर जहां खून बनता है) (खून का कैंसर और लिंफोमा) के कैंसर वाले रोगी इन कोशिकाओं को पर्याप्त रूप से नहीं बना सकते हैं, या ये कोशिकाएं अच्छी तरह से काम नहीं कर सकती हैं।

रक्त संक्रमण गंभीर होते हैं और इनके लिए तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है, आमतौर पर एक अस्पताल में। खून का संक्रमण एक ऐसी जटिलता है जो जीवन के लिए खतरा हो सकती है, खासकर कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में।

खून में जीवाणु का पता लगाने से मिली जानकारी से चिकित्सक को यह तय करने में मदद मिल सकती है कि रोगी के संक्रमण में कौन सी जीवाणु नाशक दवाइयां जारी रखना है और कौन सी जीवाणु नाशक दवाई सबसे अधिक प्रभावी रहेगी।

खून में जीवाणु का पता लगाने की प्रक्रिया आमतौर पर किसी भी समय की जा सकती है, जब भी बचपन में होने वाले कैंसर के रोगी को बुखार आता है।

खून में जीवाणु का पता कैसे लगाया जाता है

खून में जीवाणु का पता लगाने के लिए खून के नमूनों की आवश्यकता होती है।

  • खून का हर नमूना 1 या अधिक बोतलों में डाला जाता है। हर एक में अलग-अलग पदार्थ होते हैं (जिन्हें कल्चर माध्यम कहा जाता है) जो विभिन्न प्रकार के कीटाणु/जीवाणु और फफूंदी को विकसित होने देते हैं।
  • स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आमतौर पर खून के कम से कम 2 नमूने चाहते हैं क्योंकि वे संक्रमण के स्रोत को निर्धारित करने की कोशिश कर रहे हैं।
  • रोगी का शिरापरक प्रवेश उपकरण एक ऐसा स्रोत है जिसका बार-बार उपयोग किया जा सकता है जैसे कि एक केंद्रीय नली, पोर्ट, या सतही रूप से लगा केंद्रीय नली (पिक)।
  • जब बुखार वाले रोगियों के पास ऐसा उपकरण होता है, तो देखभाल करने वाली टीम आमतौर पर उपकरण से खून का कम से कम 1 नमूना (या उपकरण की बनावट के आधार पर संभवतः 1 से अधिक) लेती है और फिर शरीर के दूसरे भाग आमतौर पर हाथ से खून का कम से कम 1 नमूना लिया जाता है। खून के इस नमूने के लिए अंतःशिरा (आईवी) स्टिक की आवश्यकता होगी।
  • खून की आवश्यक मात्रा रोगी की आयु और वजन पर निर्भर करती है।
  • बुखार का पता लगने के बाद और जीवाणु नाशक दवाई लेने से पहले कल्चर को जल्द से जल्द प्राप्त किया जाना चाहिए।
  • खून का नमूना लेने से पहले, सभी क्षेत्रों को एक एंटीसेप्टिक घोल से अच्छी तरह से साफ़ किया जाता है, ताकि कीटाणु/जीवाणु/फफूंदी के अन्य स्रोत, खून के नमूने को दूषित न करें।
  • परीक्षण करने वाला व्यक्ति (आमतौर पर नर्स) नमूने को दूषित होने से रोकने के लिए सावधानी बरतेगा।

खून में जीवाणु का पता लगाने के लिए रोगियों को तैयार करना

खून में जीवाणु का पता लगाने के लिए किसी विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं होती है। बस एक सुई की आवश्यकता होगी। कुछ बच्चे सुइयों से डरते हैं, इसलिए प्रक्रिया के दौरान माता-पिता को अपने बच्चों को सहज करना और/या उनका ध्यान भटकाना पड़ सकता है। शिशु जीवन विशेषज्ञ भी बच्चों की सहायता कर सकते हैं।

परिणाम

खून का नमूना एक पैथोलॉजी लैब में भेजा जाता है, जहाँ यह खून में मौजूद हो सकने वाले किसी भी सूक्ष्मजीव का पता लगाने के लिए विभिन्न तकनीकों से गुज़रेगा। 24-48 घंटे (या कुछ स्थितियों में लंबे समय तक) के बाद, प्रयोगशाला के टेक्नोलॉजिस्ट किसी भी कीटाणु/जीवाणु और/या फफूंदी का पता लगाने और पहचानने के लिए माइक्रोस्कोप में सामग्री की जाँच कर सकते हैं। सभी सकारात्मक आने वाली खून में जीवाणु का पता लगाने की प्रक्रिया का मतलब रक्त संक्रमण नहीं होता है। इसे रोकने के प्रयासों के बावजूद, कीटाणु/जीवाणु या फफूंदी अभी भी कभी-कभी रोगी की त्वचा या शिरापरक प्रवेश उपकरण से बोतल में मिल सकता है। इसे खून में जीवाणु का संदूषण कहा जाता है और यह भ्रमित कर सकता है। चिकित्सक रोगी की नैदानिक स्थिति और लैब टेस्ट के परिणामों के बारे में जानकारी का उपयोग करके अंतर बताने की कोशिश कर सकते हैं।

प्रयोगशाला कर्मचारी सबसे प्रभावी रोगाणुरोधी इलाज निर्धारित करने के लिए परीक्षण भी कर सकते हैं। इन परीक्षणों के परिणामों को वापस आने में कुछ दिन या उससे भी अधिक समय लग सकता है।

रोगी के चिकित्सक, परिवार के साथ परीक्षण के परिणाम साझा करेंगे और संक्रमण होने पर इलाज की योजना बनाने के लिए उनके साथ बात करेंगे।


समीक्षा की गई: जून 2018