आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

एनजी ट्यूब और एनजे ट्यूब लगाना

कैंसर वाले बच्चों में नाक से खिलाने वाली नली लगाना, एक सामान्य तरीका है। एक पतली, लचीली, खोखली ट्यूब को नाक से, भोजन-नली के माध्यम से, और पेट (एनजी ट्यूब) या आंत (एनजे या एनडी ट्यूब) में डाला जाता है। इस खिलाने वाली नली से पोषण सहायता और दवाएं दी जा सकती हैं। नासोगैस्ट्रिक ट्यूब का उपयोग पेट से हवा या अन्य सामग्री को हटाने के लिए भी किया जा सकता है।

अगर खिलाने वाली नली को एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का उपयोग करके लगाया जाता है, तो रोगियों को प्रक्रिया से पहले एक निर्दिष्ट समय के लिए मुंह से कुछ भी खाने-पीने से मना किया जाना चाहिए। इन एनपीओ (बिना खाए-पिए) निर्देशों का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है। प्रक्रिया के बाद रोगियों के पास एनपीओ (बिना खाए-पिए) निर्देश भी हो सकते हैं।

नाक से डाली जाने वाली खिलाने वाली नली की जटिलताएं

कई बच्चों के लिए, एनजी और अन्य नाक की नलियां कैंसर की देखभाल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। लगाने के दौरान जोखिम में, दर्द या असुविधा, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) से संबंधित समस्याएं और पाचन तंत्र की संरचनाओं में चोट शामिल हैं। अगर इसे जारी रखना सुरक्षित नहीं है, तो यह भी संभव है कि प्रक्रिया को रोकना पड़े। कभी-कभी, देखभाल टीम यह तय करेगी कि बच्चे को सर्जिकल रूप से एक खिलाने वाली नली की आवश्यकता होगी या नहीं।

प्रक्रिया के बाद, एनजी ट्यूब की सबसे आम जटिलताएं हैं ट्यूब के टेप या दबाव के कारण त्वचा या नाक में दर्द और जलन होना। अन्य समस्याओं में ट्यूब का अपनी जगह से हिलना, ट्यूब में रुकावट आना, पाचन संबंधी समस्याएं होना और संक्रमण शामिल हैं।

गंभीर समस्याएं बहुत कम ही होती हैं, लेकिन होती हैं। सवाल पूछना सुनिश्चित करें और देखभाल टीम द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन करें।


समीक्षा की गई: दिसंबर 2018