आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

खिलाने वाली नली (फीडिंग ट्यूब) वाले स्थानों के लिए त्वचा की देखभाल

खिलाने वाली नली वाले स्थानों के लिए त्वचा की देखभाल क्या है?

बच्चे को कैंसर के इलाज के दौरान प्रशामक देखभाल के भाग के रूप में एंटरल पोषण (ट्यूब फीडिंग) की आवश्यकता पड़ सकती है। खिलाने वाली नलियों को नाक (एनजी ट्यूब, एनजे ट्यूब) या पेट की भित्ति (जी ट्यूब, जीजे ट्यूब, जे ट्यूब) के माध्यम से लगाया जा सकता है। ट्यूब और त्वचा की उचित देखभाल से असुविधा कम होगी और संक्रमण व अन्य समस्याएं होने का जोखिम कम होगा।

खिलाने वाली नली वाले स्थानों के लिए सामान्य देखभाल

  • ट्यूब के आसपास की त्वचा को साफ़ और सूखी रखें।
  • ट्यूब की जाँच करने और पोषक आहार या दवाइयां देने से पहले हमेशा अपने हाथों को साबुन और पानी से धोएं।
  • दिन में कम से कम एक बार, ट्यूब और आसपास की त्वचा की दिखावट में होने वाले परिवर्तनों को देखें। लालिमा, जलन, दर्द, रक्तस्राव या रिसाव के लिए जाँच करें।
  • त्वचा पर लगी ट्यूब के दबाव और हिलने की गति को सीमित करें।

एनजी और एनजे ट्यूब वाले स्थानों की देखभाल

नाक से डाली गई ट्यूबों से नाक के अंदर और जिस स्थान पर ट्यूब पर टेप लगी होती है वहां की त्वचा पर जलन हो सकती है। उचित देखभाल से असुविधा और त्वचा संबंधी समस्याओं को रोकने में मदद मिल सकती है।

  • ट्यूब की हिलने की गति को कम करने के लिए ट्यूब को बांधकर रखें।
  • केवल देखभाल टीम द्वारा अनुमोदित टेप और पट्टियों का उपयोग करें।
  • देखभाल टीम द्वारा अनुशंसित त्वचा संरक्षक का उपयोग करें।
  • टेप और पट्टियों को सावधानी से हटाएं ताकि त्वचा को नुकसान न पहुंचे। यदि आवश्यकता हो तो ऐडहेसिव रिमूवर का उपयोग करें।
  • ट्यूब के आसपास की त्वचा को हल्के गरम पानी और वॉश क्लॉथ से आराम से साफ़ करें। यदि आवश्यकता पड़े तो एक सौम्य साबुन का उपयोग करें।
  • नाक की ट्यूबों से दबाव से होने वाली चोटें हो सकती हैं। ट्यूब से त्वचा पर जिस जगह दबाव पड़ता है या त्वचा रगड़ खाती है, उस स्थान पर लालिमा या जलन होने की जाँच करें।
  • समय के साथ, त्वचा को खराब होने से रोकने के लिए ट्यूब को वैकल्पिक रूप से दूसरे नथुनों में लगाया जाएगा।
  • यदि चिपकाने वाली टेप से त्वचा में जलन होती है, तो टेप लगाने के स्थान को बदलें और उस जगह की त्वचा को ठीक होने दें।
  • ट्यूब का जब उपयोग न किया जा रहा हो तो उसके ढ़ीले सिरे को टेप से बांध कर रखें। यहां महत्वपूर्ण बात यह है कि ट्यूब को बीच रास्ते से हटाकर रखा जाए और उसे खिंचने के कारण बाहर निकलने से रोका जाए।

जी ट्यूब, जीजे ट्यूब और जे ट्यूब वाले स्थानों की देखभाल

गैस्ट्रोस्टोमी (जी) ट्यूबें, गैस्ट्रो-जेजुनोस्टोमी (जीजे) ट्यूबें और जेजुनोस्टोमी (जे) ट्यूबें वे खिलाने वाली नलियां हैं जिन्हें पेट की भित्ति में किए गए एक छोटे से छेद (स्टोमा) के माध्यम से लगाया जाता है। वे लंबी या लो-प्रोफ़ाइल ट्यूबें हो सकती हैं। ट्यूब के गुज़रने के मार्ग का घाव भर जाने पर, आमतौर पर 6 सप्ताह बाद, लंबी ट्यूब की जगह एक लो-प्रोफ़ाइल या बटन ट्यूब का उपयोग किया जा सकता है।

घाव भर जाने के बाद, ट्यूब के आसपास की त्वचा दर्दरहित होनी चाहिए। छेद का आकार और आकृति बिल्कुल खिलाने वाली नली के आकार की होनी चाहिए।

जी ट्यूब स्टोमा वाले स्थान की देखभाल

स्वस्थ जी ट्यूब स्थानों के लिए बहुत अधिक देखभाल की आवश्यकता नहीं होती। उस भाग को साफ़ रखने के लिए आमतौर पर हर रोज साबुन और पानी से स्नान करना ही काफी है। खिलाने वाली नली वाले स्थानों के लिए सामान्य देखभाल के सुझावों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • ट्यूब वाले स्थान को साफ़ रखें। स्थान के आसपास की त्वचा को दिन में कम से कम एक बार और जब भी रिसाव हो तब साफ़ किया जाना चाहिए। उस भाग को साबुन और पानी से साफ़ करें। ट्यूब के आसपास के स्थान को साफ़ करने के लिए रूई के फाहे का उपयोग करें।
  • स्थान के आसपास की त्वचा को सूखा रखें। जब तक निर्देश न दिया जाए, लोशन, क्रीम या मरहम का उपयोग न करें।
  • अनुशंसित अनुसार ट्यूबों को घुमाएं। जी ट्यूबों और बटन ट्यूबों को प्रति दिन एक-चौथाई घुमाव पर मोड़ा जाना चाहिए। हालांकि, जीजे ट्यूबों को कभी भी घुमाया नहीं जाना चाहिए क्योंकि इससे ट्यूब अपने स्थान से हिल सकती है और सही तरीके से काम करना बंद कर सकती है। पूछें कि ट्यूब को घुमाया जाना चाहिए या नहीं और उसे कैसे घुमाया जाना चाहिए।
  • नए स्टोमा: ट्यूब लगान के बाद पहले कुछ दिनों तक उस स्थान को गॉज की पट्टी से कवर किया जा सकता है। उस भाग को साफ़ और सूखा रखें। यदि पट्टी गीली या गंदी हो जाती है तो उसे बदलें। प्रभावित स्थान से कुछ मात्रा में तरल का रिसाव हो सकता है। यह तरल अक्सर सूखने पर पपड़ी बन जाता है। इस पपड़ी को निकालने के लिए उस भाग को धीरे से साफ़ करें। आमतौर पर 2-3 दिन बाद कोई पट्टी लगाने की आवश्यकता नहीं होती।
एक जी ट्यूब लगाने के बाद पहले कुछ दिनों तक उस स्थान को गॉज की पट्टी से कवर किया जा सकता है।

एक जी ट्यूब लगाने के बाद पहले कुछ दिनों तक उस स्थान को गॉज की पट्टी से कवर किया जा सकता है।

त्वचा संबंधी समस्याओं का समाधान करना

यह जानना आवश्यक है कि कौन सी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं और उनके उत्पन्न होने पर उनका समाधान कैसे किया जा सकता है।

ट्यूब के आसपास रिसाव होना

ट्यूब के आसपास रिसाव हो सकता है। यदि रिसाव ट्यूब से होता है, तो यह समस्या बैलून भर जाने के कारण हो सकती है। रिसावों की समस्या सफ़ेद कोशिकाओं की कमी से भी संबंधित हो सकती है।

नमी और पेट के अम्लीय तरल से त्वचा लाल हो सकती है और उसमें जलन हो सकती है। यदि ऐसा होता है, तो त्वचा को प्रति दिन कई बार पानी से साफ़ करें। प्रभावित भाग को रिसाव अधिक होने की स्थिति में बार-बार साफ़ करना होगा। साफ़ करने के बाद त्वचा को सावधानी से सुखाएं। बैरिअर पाउडर या मरहम की आवश्यकता पड़ सकती है। यदि त्वचा में सुधार नहीं आता या रिसाव होना जारी रहता है या रिसाव अधिक मात्रा में होता है, तो अपनी देखभाल टीम को बताएं।

रिसाव के संभावित कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • बहुत अधिक या बहुत तेजी से खिलाना। ट्यूब में कभी-कभी बोलस फीडिंग (ग्रास के रूप में आहार-संभरण) के दौरान रिसाव सकती है। आहार-संभरण की दर को धीमा करना या एक भिन्न आहार-संभरण योजना का उपयोग करना मदद कर सकता है। पोषण में परिवर्तन करने से पहले एक आहार विशेषज्ञ या अन्य देखभाल टीम के किसी सदस्य से बात करना सुनिश्चित करें।
  • आंतरिक बैलून के साथ समस्याएं। बैलून में भरे पानी की मात्रा की जाँच करें। यदि इसमें ज़रूरत से कम पानी है, तो इसे सही मात्रा में दुबारा भरें। बैलून की अगले दिन फिर जाँच करें। यदि बैलून पिचकना जारी रहता है, तो उसमें रिसाव हो सकता है। ट्यूब को बदलने के निर्देशों के लिए देखभाल टीम से संपर्क करें।
  • ट्यूब का गलत फिट होना। यह कभी-कभी तब हो सकता है जब बच्चे का वजन बढ़ जाता है या कम हो जाता है। वजन बढ़ने से, बैठते समय ट्यूब पेट की आसपास की त्वचा पर पड़ने वाली सिलवट में दब सकती है। यदि ट्यूब की नलिका को बटन के नीचे देखा जा सकता है, तो ट्यूब लंबी हो सकती है। यदि ट्यूब अब सही आकार की नहीं रह गई है तो उसे बदलने की आवश्यकता हो सकती है।
  • पेट या ट्यूब पर दबाव। पेट के बल सोने से ट्यूब पर दबाव पड़ सकता है और पेट को क्षति पहुंच सकती है। करवट या पीठ के बल सोने से दबाव कम हो सकता है।
  • गैस और कब्ज। गैस और कब्ज से भी पाचन नाल में भारीपन और दबाव महसूस हो सकता है। शारीरिक रूप से सक्रिय होने और पर्याप्त रूप से तरल पदार्थों का सेवन करने से मदद मिल सकती है। देखभाल टीम कब्ज का उपाय करने के लिए दवाइयों या पोषण संबंधी समायोजन करने की सलाह भी दे सकती है।

पेट के अम्ल को नियंत्रित करने वाली या पेट को खाली करने की क्रिया को बढ़ाने वाली दवाइयां रिसावों से पहुंचने वाली क्षति को कम करने में मदद कर सकती हैं। बच्चे की देखभाल टीम से इन विकल्पों की चर्चा करें।

ग्रेन्युलेशन टिशू या ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक

ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक एक अतिरिक्त त्वचा ऊतक होता है जो स्टोमा के स्थान पर विकसित हो सकता है। ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक होना आम बात है। यह आमतौर पर मुंह के अंदर की त्वचा के समान, लाल और नम दिखाई देता है। यह ऊतक नाजुक होता है और इसमें थोड़ा रक्तस्राव या रिसाव भी हो सकता है। ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक त्वचा पर ट्यूब के रगड़ खाने से होने वाले घर्षण या त्वचा के छिलने के कारण हो सकता है। ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक बनने से रोकने में मदद करने वाले तरीकों में प्रभावित स्थान को सूखा रखना, ट्यूब की हिलने की गति को सीमित करना और ट्यूब बिल्कुल फिट बैठती है यह सुनिश्चित करना शामिल है। ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक का इलाज फ़ोम की पट्टी या सिल्वर नाइट्रेट लगाकर किया जा सकता है। कुछ मामलों में, इसे सर्जरी से निकाला जा सकता है।

संक्रमण

एक स्वस्थ बच्चे में स्टोमा या इसके चारों ओर की त्वचा पर संक्रमण दुर्लभ ही होता है। हालांकि, कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले बच्चों में ट्यूब के स्थान पर संक्रमण होने का अधिक जोखिम होता है। संभावित संक्रमण के संकेतों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • स्टोमा के आसपास की त्वचा का लाल होना जो रिसाव होने के संकेतों के बिना बढ़ जाती है
  • बुखार
  • दर्द, खराश या सूजन
  • मवाद या दुर्गंध

यद्यपि लाली और स्राव संक्रमण के संकेत हो सकते हैं, लेकिन उनके होने के अन्य कारण भी हो सकते हैं। कभी-कभी पेट की सामग्री त्वचा पर मौजूद जीवाणु के साथ मिश्रित हो सकती है और उससे दुर्गंधयुक्त स्राव हो सकता है। स्रावों के कारण होने वाली लालिमा का आमतौर पर त्वचा को बार-बार साफ़ करके इलाज किया जा सकता है। यदि लक्षणों में सुधार नहीं आता या संक्रमण के संकेत दिखाई देते हैं तो अपनी देखभाल टीम से संपर्क करें।

रक्तस्राव होना

स्टोमा के आसपास रक्तस्राव होने के कई कारण हो सकते हैं। ट्यूब बदलने के बाद प्रभावित स्थान में रक्तस्राव हो सकता है। रक्तस्राव ग्रेन्युलेशन टिशू या कणांकुर ऊतक के कारण भी हो सकता है जहां पर त्वचा बहुत भंगुर होती है। थोड़ा बहुत रक्तस्राव होना कोई गंभीर बात नहीं है। यदि कुछ मिनट बाद तक रक्तस्राव नहीं रुकता या और बढ़ जाता है, तो उस भाग पर दबाव डालें और तुरंत देखभाल टीम को कॉल करें।

सफ़ेद कोशिकाओं की कमी के कारण ट्यूब के स्थान पर त्वचा परिवर्तन

सफ़ेद कोशिकाओं की कमी तब होती है जब सारी न्युट्रोफिल की संख्या (एएनसी) 500 से कम हो जाती है। सफ़ेद कोशिकाओं की कमी से अक्सर स्टोमा का आकार बढ़ जाता है। क्योंकि प्रतिरक्षा प्रणाली कमज़ोर होती है, इसलिए शरीर उस छेद को भरने और संक्रमण से लड़ने का प्रयास करना बंद कर देता है। इसके कारण प्रभावित स्थान गीला रहता है, उसमें रिसाव और दर्द होता है। इससे जीवाणु पैदा हो सकते हैं और संक्रमण हो सकता है। प्रभावित स्थान में तब तक सुधार नहीं आएगा जब तक कि सफ़ेद कोशिकाओं की संख्या फिर से नहीं बढ़ जाती है। कभी-कभी प्रभावित स्थान बेहतर दिखना शुरू होने से पहले और खराब दिखाई देने लगेगा। ट्यूब के स्थान का इलाज देखभाल टीम द्वारा दी गई सलाह अनुसार ही किया जाना चाहिए।

खिलाने वाली नली के साथ मंकी बार्स से लटका हुआ एक युवा मरीज।

त्वचा की देखभाल और खिलाने वाली नली: सुझाव और समस्या निवारण

  • ट्यूब के स्थान को साफ़ और सूखा रखें।
  • जब भी त्वचा में रिसाव हो रहा हो उसे साफ़ करें, भले ही ऐसा दिन में कई बार करना पड़े।
  • जी ट्यूब बटन को प्रति दिन एक-चौथाई घुमाव पर मोड़ा जाना चाहिए।
  • जीजे ट्यूबों और जीजे बटनों को कभी भी घुमाया नहीं जाना चाहिए। जी ट्यूबों या बटनों को घुमाने या मोड़ने से ट्यूब अपने स्थान से हिल सकती है और सही तरीके से काम करना बंद कर सकती है।
  • उपयोग में न होने पर बटन एडेप्टर को निकाल दें। जब आहार-संभरण या दवाई न दे रहे हों, तब बटन को खिंचने या अपने स्थान से निकलने से रोकने के लिए कनेक्शन एडेप्टर को बाहर निकाल दें।
  • उपयोग करते समय बटन एडेप्टर को जगह पर व्यवस्थित करके रखें। आहार-संभरण करते समय, ट्यूब के खिंचने के जोखिम को कम करने के लिए पेट पर ट्यूब की अतिरिक्त नली पर टेप लगाएं।
  • ट्यूब, स्टोमा या प्रभावित स्थान के आसपास की त्वचा में कोई भी परिवर्तन होने पर देखभाल टीम को सूचित करें।


समीक्षा की गई: फरवरी, 2019