आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

दवाई के बिना दर्द का प्रबंधन करना

दर्द प्रबंधन की तकनीकें

बचपन में होने वाले कैंसर का उपचार करने वाले केंद्र दर्द के लिए ऐसे कई उपचार प्रदान करते हैं जिनमें दवाई का उपयोग नहीं होता है। ये रणनीतियां बच्चों और किशोरों को दर्द के प्रति उनके शरीर और मन को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।  

दर्द का प्रबंधन करना उलझन भरा हो सकता है और कई तरीकों या संम्रिश्रित तरीकों से एक प्रभावी तरीका ढूँढा जा सकता है। जैसे सही लगेगा, रोगियों को दर्द प्रबंधन तकनीक सीखने के लिए उन्हें शिशु जीवन, शारीरिक चिकित्सा, व्यावसायिक चिकित्सा, मनोविज्ञान या नर्सिंग के विशेषज्ञों के पास भेजा जा सकता है। आध्यात्मिक या पारिवारिक सहायता की ज़रूरतों के लिए आध्यात्मिक गुरु या सामाजिक कार्यकर्ताओं से परामर्श लिया जा सकता है।

कुछ दर्द प्रबंधन तकनीकें बचपन में होने वाले कैंसर के केंद्र के अलावा अन्य स्थानों पर भी उपलब्ध हो सकती है। किन्तु रोगी के परिवारों को अन्य चिकित्सकों का उपयोग करने या अपने मन से तरीकों को लागू करने का प्रयास करने से पहले अपनी चिकित्सीय टीम से परामर्श करना चाहिए।

आमतौर पर उपयोग की जाने वाली तकनीकों में ये शामिल हैं:  

  • कहीं और मन लगाना: यह रणनीति रोगियों को अपनी बेचैनी को दूर करने के लिए किसी और चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। 
    • कभी-कभी एक छोटी सी प्रक्रिया जैसे कि सुई लगाने के दौरान गिनती करना, गाना या खिलौने के साथ खेलना ध्यान को कहीं और ले जाता है। 
    • या जब रोगी को लंबे समय तक दर्द हो रहा है तो हो सकता है कि किसी पसंदीदा गतिविधि में भाग लेना जैसे कि फ़िल्म देखना, परिवार और दोस्तों के साथ बात करना या वीडियो या बोर्ड गेम खेलना ध्यान को कहीं और ले जाए।
  • आराम: इस तरीके में गहरी सांस लेना, ध्यान करना या बढ़िया संगीत या आवाज़ सुनना शामिल हो सकता है। यह घबराहट या चिंता को दूर कर सकता है और मांसपेशियों की जकड़न को कम कर सकता है।
  • मॉडलिंग: कोई दर्द से बचाव के तरीके प्रदर्शित करके बताता या दिखाता है। इस तरीके में रोगी को दूसरे रोगी या देखभालकर्ता को शामिल करना हो सकता है। जब “मॉडलर” एक प्रक्रिया के बारे में कुछ परेशानी दिखाता है और फिर बताता है कि कैसे वे इससे बचाव करते हैं, तो यह तरीका सबसे अच्छा काम करता है। विचार यह है कि रोगी प्रतिक्रिया को देखेगा और फिर उस रणनीति का उपयोग कर सकेगा।
  • ठंडा / गर्म:
    • एक निश्चित प्रक्रिया से सूजन, चोट या दर्द में ठंड राहत दे सकता है। तौलिये में आइस पैक या पिसी हुई बर्फ को दर्द वाली जगह पर रखना कुछ सामान्य तरीके हैं।
    • गर्मी दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है क्योंकि यह रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है। गर्म स्नान करना या गर्म तौलिया रखना प्रभावी हो सकता है। हीटिंग पैड का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से बात करें।
  • व्यायाम: चलना, साइकिल चलाना या योग करने जैसे व्यायाम मांसपेशियों को मजबूत करने, जोड़ों को ढीला करने और रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।
    • गतिविधि अंतराल: आराम और गतिविधि के बीच एक अच्छा संतुलन होना महत्वपूर्ण है। गतिविधि अंतराल योजना लोगों को पूर्व-निर्धारित लक्ष्यों के आधार पर गतिविधि के स्तर को निर्धारित करने में मदद करती है और इसमें धीरे-धीरे और सुरक्षित रूप से उनकी गतिविधि के स्तर को बढ़ाते हैं।
  • विज़ुअलाइज़ेशन / निर्देशित कल्पना: यह दृष्टिकोण रोगियों को सुखद स्थलों, ध्वनियों, स्वादों, गंधों या अन्य संवेदनाओं पर ध्यान केंद्रित करना या कल्पना करना सिखाता है। यह सबसे प्रभावी है अगर रोगी सभी पांचो इंद्रियों का उपयोग करते हैं।
  • मालिश: शरीर के तरल पदार्थों के प्रवाह को बढ़ाने, ऊतकों को बढ़ाने और शरीर को आराम देने के लिए कोमल दबाव वाली मालिश का उपयोग करते है।
  • बायोफ़ीडबैक: यह शरीर को दर्द जैसे तनाव को नियंत्रित करने के लिए दिमाग को प्रशस्त करने की तकनीक है।
    • बायोफ़ीडबैक में हृदय गति जैसे संकेतकों को ट्रैक करके रोगी की प्रतिक्रिया को मापने के लिए त्वचा में सेंसर जोड़े जाते हैं। जब रोगी गहरी सांस लेने या विज़ुअलाइज़ेशन जैसी रणनीतियों का उपयोग करते हैं तब रणनीति के कारण हृदय गति कम हो जाती है या नहीं देखने के लिए कंप्यूटर स्क्रीन देख सकते हैं। रोगी देख सकते हैं कि कौन से तरीके सबसे प्रभावी हैं और दर्द में शरीर की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने के लिए उनका उपयोग करना सीख सकते हैं। 
  • चिकित्सा सम्मोहन: सम्मोहन, तकनीक का एक ऐसा जोड़ा है जो एकाग्रता को बढ़ाने, मन के भटकने को कम करने और दर्द के बारे में विचारों, भावनाओं और व्यवहार को प्रभावित करने के लिए जागरूकता बढ़ाने के लिए बनाया गया है।
  • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी): इसमें कई तकनीकों को शामिल किया जा सकता है जैसे कि विचारों को फिर से व्यवस्थित करना या उनका पुनर्गठन। ये रणनीतियां रोगी को नकारात्मक या तर्कहीन विचारों और मनोभावों का निरीक्षण और मूल्यांकन करना और उन्हें सकारात्मक सोच में बदलना सिखाती हैं।

दर्द प्रबंधन टीम दर्द का प्रबंधन करने के सर्वोत्तम तरीकों को निर्धारित करने में मदद करने के लिए दर्द का लेखा-जोखा रखने का भी सुझाव दे सकती है।


समीक्षा की गई: जून 2018