आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

नर्सिंग और मरीज की देखभाल

नर्सें मरीज की देखभाल टीम की महत्वपूर्ण सदस्य होती हैं। जिन बच्चों का कैंसर का इलाज किया जा रहा है, उनकी सेवा में नर्स कई महत्वपूर्ण काम करती हैं। अक्सर नर्स अस्पताल के भीतर और बाहर मरीज और परिवार के संपर्क की पहली लाइन के रूप में काम करती हैं। मरीज के अस्पताल में रहने के दौरान प्राथमिक देखभाल प्रदाता के रूप में नर्स काम करती है। आउट पेशेंट नर्स फिज़िशियन को जानकारी इकट्ठा करने और मरीज को देखभाल उपलब्ध कराने में सहायता करती हैं। 

नर्स मुस्कुराती हुई रुककर एक छोटे-से कैंसर मरीज के साथ बातचीत कर रही है।

नर्सें देखभाल की प्रक्रिया का नेतृत्व करती हैं और बचपन में होने वाले कैंसर के मरीजों की रोज़मर्रा की जरूरतों को पूरा करती हैं।

ज़िम्मेदारियां

नर्सें देखभाल की प्रक्रिया का नेतृत्व करती हैं और मरीजों की रोजाना की जरूरतों को पूरा करती हैं। यह भी शामिल है:

  • महत्वपूर्ण संकेतों की जाँच करना
  • मरीजों को खिलाना
  • मरीजों को इलाज या सर्जरी के लिए तैयार करना
  • कीमोथेरेपी और अन्य दवाई देना
  • आकलन और शारीरिक जांच करना
  • प्रयोगशाला परीक्षणों के लिए खून या अन्य तरल पदार्थ निकालना
  • ट्रांसफ्यूज़न के भाग के रूप में या नुकसान हुए खून को बदलने के लिए रक्त उत्पादों का प्रबंध करना।
  • स्वच्छता देखभाल प्रदान करना

परिवारों को शिक्षित करने के सहित इन जानकारी के बारे में बताने में नर्स महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं:

  • कैंसर रोग की पहचान – क्या बीमारी है, बीमारी का पूर्वानुमान और इलाज के लिए अनुशंसित कोर्स
  • दवा और इलाज – उन्हें कितनी बार दिया जाएगा और उसका कोई दुष्प्रभाव
  • घर पर देखभाल - परिवारों को कैसे घाव के निशान की देखभाल करनी चाहिए, घावों को कैसे साफ करके पट्टी बदलनी चाहिए, संक्रमण के संकेतों की पहचान करनी चाहिए और पोषण देना चाहिए।

रोग की पहचान करना, इलाज और इलाज की सुविधा के आधार पर कुछ नर्सें अस्पताल में डॉक्टरों की सहायता भी कर सकती हैं:

  • देखभाल नियमों की योजना बनाना
  • पर्चे लिखना
  • इलाज निर्धारित करना

नर्सें विभिन्न स्तर के प्रशिक्षण को पूरा करती हैं। पद के लिए जितनी अधिक जिम्मेदारी और विशेषज्ञता की ज़रूरत होती है, नर्स को उतना अधिक प्रशिक्षण मिलेगा।

नर्सिंग टीम

आमतौर पर एक बच्चे की देखभाल टीम में कई नर्स होती हैं, जो अलग-अलग लेकिन अक्सर पारस्परिक रूप से काम करती हैं। इससे टीमों को जटिल और कई सेवाएं प्रदान करने की अनुमति मिलती है।

मरीज की नर्सिंग देखभाल टीम का आकार संभवतः इलाज के दौरान अलग-अलग होगा और इस बात पर निर्भर करता है कि देखभाल की कितनी ज़रूरत है। इसमें निम्न कारक शामिल हैं:

  • क्या बच्चे की हाल ही में सर्जरी हुई है 
  • कितनी दवाएं दी जा रही हैं
  • हाल ही में रोग की पहचान कैसे हुई है
  • बीमारी कितनी बढ़ी हुई है

परिवार अपने बच्चे की नर्सों की सूची लिखना चाह सकते हैं, इसमें शामिल हैं:

  • नाम 
  • उपस्थिति 
  • ज़िम्मेदारियां 
  • वे आमतौर पर कितनी बार और किस समय मरीज की जांच करती हैं 

आमतौर पर नर्स शिफ्टों में काम करती हैं - आम तौर पर एक बार में 8 से 12 घंटे के बीच - और एक दूसरे के साथ बातचीत करेंगी और मरीज की देखभाल जितना संभव हो उतनी सहजता से सुनिश्चित करने के लिए जानकारी साझा करेगी क्योंकि उनकी शिफ्ट एक शिफ्ट से दूसरी शिफ्ट में बदलती रहती है। नर्स पर अक्सर एक शिफ्ट के दौरान कई मरीजों की देखभाल की ज़िम्मेदारी होती है; जैसे कि, कैंसरविज्ञान (ऑन्कोलॉजी) नर्सों को आमतौर पर एक समय में तीन मरीजों की देखभाल की जिम्मेदारी सौंपी जाती है।

जिन मरीजों को विशेष रूप से जटिल प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ रहा हैं, उनकी देखभाल और स्वास्थ्य लाभ पाने की देखरेख करने वाली नर्स केवल उनकी ही ज़रूरतों का ध्यान रखती है और उस पर किसी अन्य मरीजों की ज़िम्मेदारी नहीं होती है। इन्टेन्सिव केअर यूनिट (आईसीयू) में रहने वाले मरीजों के लिए यह भी ज़्यादातर समय सही होता है, क्योंकि वे बहुत बीमार होते हैं, विशेष मशीनों पर हो सकते हैं जैसे वेंटिलेटर या ऐसी दवाएं प्राप्त कर रहे होते हैं जिन्हें बहुत लगातार निगरानी और आकलन की ज़रूरत होती है।

सोफे पर बैठे कैंसर के छोटे मरीज को एक नर्स से पोर्ट के माध्यम से दवा दे रही है।

आमतौर पर एक बच्चे की देखभाल टीम में कई नर्स होती हैं, जो अलग-अलग लेकिन अक्सर पारस्परिक रूप से काम करती हैं।

नर्सिंग केयर टीम: नर्सों के प्रकार

नर्सें दवाएं देने से लेकर जटिल मेडिकल सवालों के जवाब देने तक के कई महत्वपूर्ण, परस्पर संबंधित काम करती हैं। सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं की तरह, नर्स देखभाल टीम के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर काम करती हैं। विभिन्न प्रकार की नर्सों की भूमिकाओं को समझने से परिवारों को अपने बच्चे की बेहतर देखभाल और हिमायत करने में मदद मिल सकती है।

पंजीकृत नर्स (आरएन) — मरीजों की निगरानी, आकलन करना, दवाइयां देना, रोजाना की ज़रूरतों का ध्यान रखना और मरीज और परिवार की शिक्षा प्रदान करने सहित विभिन्न प्रकार की नर्सिंग देखभाल प्रदान करती है।

शिशु चिकित्सा हेमाटोलॉजी / ऑन्कोलॉजी नर्स — कैंसर या रक्त विकारों वाले बच्चों और किशोरावस्था वाले बच्चों को विशेष नर्सिंग देखभाल प्रदान करती हैं, आकलन करती हैं, कीमोथेरेपी और अन्य दवाओं का प्रबंधन करती हैं, दुष्प्रभाव की निगरानी करती हैं और रोग की पहचान और इलाज के बारे में मरीजों और परिवारों को शिक्षित करती हैं।

नर्स एनेस्थेटिस्ट (सीआरएनए) — मरीजों को एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के लिए तैयार करती है, सर्जरी या अन्य प्रक्रियाओं के दौरान उन्हें दर्द-मुक्त रखने के लिए एनेस्थेसिया दवाएं दी जाती हैं और प्रक्रियाओं के दौरान सक्रिय रूप से मरीजों को संभालती है।

ऑपरेशन से पहले (प्री-ऑप) नर्स — देखभाल प्रदान करती है और मरीजों को सर्जरी और अन्य प्रक्रियाओं के लिए तैयार करती है।

ऑपरेशन करने का कमरा (ऑपरेटिंग रूम) (ओआर) नर्स — अन्य सर्जिकल टीम के सदस्यों के साथ सर्जरी के दौरान मरीजों की देखभाल करती है।

पोस्ट-एनेस्थीसिया केयर यूनिट (पीएसीयू) नर्स — जैसे ही मरीज पर एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का असर खत्म होता है, ये नर्स सर्जरी के बाद मरीजों के साथ काम करती हैं; इन्हें रिकवरी रूम नर्स कहा जाता है।

आपातकालीन कक्ष (ईआर) नर्स — अस्पताल ईआर में मरीजों का इलाज करती है और बीमारी, आघात या घाव के कारण पैदा होने वाली विभिन्न स्थितियों में देखभाल करती हैं।

इन्टेन्सिव केअर यूनिट (आईसीयू) नर्स — इन्टेन्सिव केअर यूनिट (आईसीयू) में काम करती हैं और बहुत गंभीर चिकित्सा स्थितियों वाले रोगियों को जटिल देखभाल प्रदान करती हैं। कई आईसीयू नर्स निश्चित आयु वर्ग के मरीजों के साथ काम करती हैं, जैसे कि बाल चिकित्सा आईसीयू (पीआईसीयू) या न्यूनेटल इन्टेन्सिव केअर यूनिट (एनआईसीयू) में बच्चे।

होम केयर नर्स — मरीजों को घर पर जाकर देखभाल करने की सेवा देती है और देखभाल के विभिन्न पहलुओं में विशेषज्ञ हो सकती हैं जैसे कि विकास की अवस्था या गतिशीलता की समस्याओं वाले बच्चे।

नर्स प्रैक्टिशनर (एनपी) — चिकित्सक के साथ मिलकर काम करते हुए देखभाल की योजना बनाना, शारीरिक जांच करना, टेस्ट करना और इलाज निर्धारित करती हैं।

लाइसेंस प्राप्त प्रैक्टिकल नर्स (एलपीएन) — बेडसाइड पर या क्लीनिकों में मरीजों के लिए रोजाना देखभाल गतिविधियों और कुशल नर्सिंग की सेवा देती है, जहां पर इलाज किया जाता है; इन्हें लाइसेंसी वोकेशनल नर्स (एलवीएन) के रूप में भी जाना जाता है।

नर्सिंग सहायक — पंजीकृत नर्स या लाइसेंस प्राप्त प्रैक्टिकल नर्स की देख-रेख में काम करती हैं, जो रोजाना की बुनियादी देखभाल सेवा उपलब्ध कराती है।

नर्स केस मैनेजर — जटिल चिकित्सा जरूरतों को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए मरीजों के लिए दीर्घकालिक देखभाल का निर्देश देती हैं।

नर्स सुपरवाइजर/नर्स मैनेजर — नर्सिंग टीम को देखती हैं, प्रशिक्षण आयोजित करती हैं, प्रशासनिक कामों का प्रबंधन करती हैं और मरीजों की देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करती हैं।

ऑन्कोलॉजी क्लिनिकल नर्स स्पेशलिस्ट (ओसीएनएस) — जटिल मरीज की समस्याओं पर नर्सिंग स्टाफ के लिए एक चिकित्सकीय विशेषज्ञ और सलाहकार के रूप में काम करते हैं और दक्षता और देखभाल में सुधार पर ध्यान केंद्रित करते हैं; एडवांस प्रैक्टिस नर्सें (उन्नत अभ्यास नर्सें) (एपीएन) ऑन्कोलॉजी में प्रमाणित होती हैं।

नर्सिंग टीम के साथ बातचीत करना

नर्स मरीजों और परिवारों के साथ खुलकर बातचीत करने को महत्व देती हैं, ताकि वे जितना संभव हो सके देखभाल करें। बचपन में होने वाले कैंसर का सामना कर रहे परिवारों के लिए, सवालों और सूचनाओं पर नज़र रखना मुश्किल हो सकता है।

  • सवाल पूछें। जब चिकित्सा देखभाल की बात आती है, तो कोई सवाल महत्वहीन या मूर्खतापूर्ण नहीं होता। नर्सों को मरीजों और परिवारों को जानकारी और चिंताओं को समझने में मदद करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। नर्स अपने अस्पतालों या क्लीनिक के भीतर प्रक्रियाओं, लोगों और स्थानों में विशेषज्ञ होती हैं।
  • सवालों की एक वर्तमान सूची बनाए रखें। जब सवाल मन में आए, तो उसे तुरंत लिखें। इससे चिंता और तनाव को कम किया जा सकता है और यह भी सुनिश्चित किया जा सकता है कि दिन के दौरान महत्वपूर्ण सवाल न भूलें। एक सूची बनाने से परिवारों को एक ही बार में बातचीत करने से कई उत्तर मिल जाते हैं।
  • जानकारी को सक्रिय होकर सुनें और संसाधित करें। कैंसर की देखभाल में कई विवरण शामिल होते हैं, जिसे समझना या याद रखना कठिन हो सकता है। नर्स या चिकित्सक को वापस जानकारी दोहराने में मदद मिल सकती है, ताकि यह सुनिश्चित किया जाए कि बातचीत स्पष्ट है।


समीक्षा की गई: जून 2018