आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

पिक लाइन

पिक लाइन क्या है?

पिक का मतलब है, सतही रूप से लगी केंद्रीय नली। पिक लाइन एक नली है जिसे ऊपरी बांह के अंदर की नस में डाला जाता है और यह दिल की ओर जाने वाली एक बड़ी नस में फैलती है।

एक पिक लाइन दवाओं, पोषण, रक्त उत्पादों और तरल पदार्थों को एक बड़ी नस में डालने की अनुमति देती है। खून के नमूने भी लिए जा सकते हैं।

नली का एक सिरा त्वचा के बाहर रहता है और इसमें एक या दो ट्यूब होते हैं जिन्हें लुमेन कहते हैं। प्रत्येक लुमेन में एक ढ़क्कन होता है जिसे सुई रहित कनेक्टर कहा जाता है, यह अंतिम सिरे में लगा होता है। कनेक्टर्स लुमेन को रिसने से बचाते हैं और हवा और कीटाणु/जीवाणु को बाहर रखते हैं। कनेक्टर्स दवाओं और तरल पदार्थ को सुई की छड़ के बिना देने की अनुमति देते हैं।

संक्रमण से बचाने और नली को जगह पर बनाए रखने के लिए उस जगह के ऊपर एक पट्टी लगा दी जाती है। नली को हटाने से पहले और ज़रूरत पड़ने पर बदलने से पहले महीनों तक उसी जगह रखा जा सकता है।

पिक लाइन की अच्छी देखभाल करना और संक्रमण को रोकने के लिए और नली को ठीक से काम करते रहने के लिए, सभी निर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है।

पिक लाइन को ऊपरी बांह के अंदर की नस में डाला जाता है और यह दिल की ओर जाने वाली एक बड़ी नस में फैलती है। नली का एक सिरा त्वचा के बाहर रहता है और इसमें एक या दो ट्यूब होते हैं जिन्हें लुमेन कहते हैं।

पिक लाइन को ऊपरी बांह के अंदर की नस में डाला जाता है और यह दिल की ओर जाने वाली एक बड़ी नस में फैलती है। नली का एक सिरा त्वचा के बाहर रहता है और इसमें एक या दो ट्यूब होते हैं जिन्हें लुमेन कहते हैं।

पिक लाइन के लाभ

  • एक पिक लाइन दवाई, तरल पदार्थ, पोषण, रक्त उत्पादों और रक्त के नमूनों के लिए, सुई की आवश्यकता को कम करती है।
  • पिक लाइन को उस रोगी को भी लगाया जा सकता है जिसे हल्का बेहोश या बिलकुल भी बेहोश नहीं किया गया है।
  • उपकरण को डालना आसान है।
  • पिक लाइन लंबे समय तक जगह में लगी रह सकती है।
  • कुछ दवाओं से रक्त वाहिकाओं को नुकसान हो सकता है। पिक लाइन को बड़ी नस में रखा जाता है जहाँ उच्च रक्त प्रवाह होता है ताकि कम जलन हो।
  • पिक लाइन के कुछ प्रकारों से, एक ही समय पर एक से अधिक प्रकार की दवाई या सॉल्यूशन दिए जा सकते हैं।
  • पिक लाइन का उपयोग अक्सर घर पर दवाई देने के लिए किया जा सकता है, जिससे रोगियों और परिवारों के लिए थेरेपी जारी रखना आसान हो जाता है।
  • क्लिनिक में एक पिक लाइन को हटाया जा सकता है।

कैंसर के इलाज के दौरान पिक लाइन को लगाना एक आम प्रक्रिया है और इससे रोगी और उसके परिवार को महत्वपूर्ण लाभ मिलता है। हालांकि, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) और सर्जरी में हमेशा जोखिम बना रहता है। सुई डालने के दौरान होने वाले मुख्य जोखिमों में रक्त वाहिकाओं में छेद होना, रक्त का थक्का जमना, दिल की धड़कन का अनियमित होना, नसों को चोट पहुंचना और संक्रमण शामिल हैं। नली लगाने के बाद, रक्त का थक्का जमना, नली का अपने जगह से हिलना, नस में सूजन होना और संक्रमण सबसे आम जटिलताएं हैं। गंभीर समस्याएं बहुत कम ही होती हैं, लेकिन होती हैं। देखभाल टीम से सवाल ज़रूर पूछें और उनके द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन करें।

एक पिक लाइन दवाओं, पोषण, रक्त उत्पादों और तरल पदार्थों को एक बड़ी नस में डालने की अनुमति देती है। खून के नमूने भी लिए जा सकते हैं।

एक पिक लाइन दवाओं, पोषण, रक्त उत्पादों और तरल पदार्थों को एक बड़ी नस में डालने की अनुमति देती है। खून के नमूने भी लिए जा सकते हैं।

पिक लाइन को लगाने की प्रक्रिया

कई रोगी पिक लाइन लगाने की प्रक्रिया के दौरान जागते रहते हैं। छोटे बच्चों को प्रक्रिया के दौरान सोने या आराम करने में मदद करने के लिए दवा दी जा सकती है।  एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) प्राप्त करने वाले रोगियों को प्रक्रिया से पहले भोजन और पेय को सीमित करने के लिए एनपीओ (बिना खाए-पिए) निर्देश दिए जाएंगे। इन दिशानिर्देशों का पालन करना बहुत ज़रूरी है। पिक लाइन को लगाने में आमतौर पर लगभग 15-30 मिनट लगते हैं। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) और रिकवरी के समय को मिलाकर प्रक्रिया में कुल 1-2 घंटे लगते हैं।

  • पिक लाइन लगाने से पहले, रोगियों के खून की जाँच और शारीरिक जांच होगी। देखभाल टीम के सदस्य कागज़ी कार्रवाई पूरी करने और सवालों के जवाब देने के लिए परिवार से मिलेंगे।
  • प्रक्रिया इलाज कक्ष या बच्चे के अस्पताल के कमरे में की जा सकती है। माता-पिता में से कोई एक चिकित्सा केंद्र की नीतियों के आधार पर, कमरे में रह सकता है।
  • कुछ बच्चों को एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दिया जाता है, ताकि वे प्रक्रिया के दौरान सोते रहें (बेहोश रहें)। जिन बच्चों को बेहोश नहीं किया जाता है, उन्हें प्रक्रिया के दौरान संगीत सुनने या वीडियो देखने की अनुमति दी जा सकती है।
  • रोगी इलाज की मेज पर लेट जाएगा। नस का पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड इमेजिंग का उपयोग किया जाएगा। अल्ट्रासाउंड के दौरान, एक रबर बैंड को हाथ के चारों ओर बांधा जाता है, ताकि नस देखने में आसानी हो। यह तंग महसूस होगा लेकिन चोट नहीं लगनी चाहिए, और इसे इमेजिंग के बाद हटा दिया जाएगा। ठंड़ी जेल का उपयोग किया जाता है, ताकि मशीन को एक स्पष्ट तस्वीर मिल सके।
  • देखभाल टीम गाउन, मास्क और दस्ताने पहनेगी। आमतौर पर, रोगी को एक गाउन पहनना होता है। हाथ क्षेत्र को छोड़कर रोगी के शरीर को ढंकने के लिए एक नीले रंग की कागज़ की जाली का उपयोग किया जाता है। यह जगह को साफ़ रखने और संक्रमण को रोकने में मदद करता है।
  • जगह की त्वचा को साफ़ किया जाएगा। फिर, दर्द को कम करने के लिए उस भाग को सुन्न करने वाली दवाई (स्थानीय एनेस्थिसिया) का उपयोग करके जगह को सुन्न किया जाता है। आमतौर पर यह एक इंजेक्शन होता है। दवा कुछ सेकंड के लिए चुभ सकती है।
  • एक बार जब क्षेत्र सुन्न हो जाता है, तो सुई को हाथ की नस में डाला जाएगा। अल्ट्रासाउंड या फ़्लोरोस्कोपी मार्गदर्शन का उपयोग करते हुए, एक गाइड वायर को नस के माध्यम से सावधानीपूर्वक, दिल की ओर ले जाया जाएगा। पिक की आवश्यक लंबाई को मापने के लिए गाइड वायर का उपयोग किया जाता है। पिक लाइन को तब उचित लंबाई में काटा जाता है और गाइड वायर पर डाला जाता है जब तक कि नली का सिरा दिल के पास ऊर्ध्व महाशिरा तक न पहुंच जाए।
  • नली सही स्थिति में होती है, तो गाइड तार निकाल दिया जाएगा। नली नस के अंदर अपनी जगह में रहेगी। नली का एक छोर दिल के पास होगा; दूसरा छोर त्वचा के बाहर होगा।
  • पिक लाइन लगने के बाद, इसे सुरक्षित और साफ़ रखने के लिए ढंक दिया जाएगा। त्वचा को साफ़ किया जाएगा और उस जगह पर एक डिस्क लगाई जाएगी जहां से नली त्वचा से बाहर निकलती है। नली ट्यूबिंग के अंत में एक ढ़क्कन लगाया जाएगा जहां से दवाई दी जाती है। एक साफ़ प्लास्टिक पट्टी, हाथ वाली जगह पर नली को स्थिर रखेगी।
  • नली की स्थिति की जाँच के लिए फ़्लोरोस्कोपी या एक्स-रे का उपयोग किया जाएगा।
  • एक नर्स थोड़ा सा खून निकालेगी, यह सुनिश्चित करने के लिए कि नली ठीक से काम कर रही है। 
  • सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) लेने वाले रोगियों को रिकवर होने में कम समय लगता है, आमतौर पर लगभग एक घंटा। अगर रोगी घर जा रहा है, तो एक नर्स देखभाल के निर्देशों को बताएगी।
पिक लाइन को एक गाइड वायर के ऊपर डाला जाएगा जब तक कि नली की नोक दिल के पास ऊर्ध्व महाशिरा में न रुक जाए।

पिक लाइन को एक गाइड वायर के ऊपर डाला जाएगा जब तक कि नली की नोक दिल के पास ऊर्ध्व महाशिरा में न रुक जाए।

पिक लाइन संबंधी देखभाल

एक नर्स परिवार के लोगों को पिक लाइन के लिए की जाने वाली देखभाल के बारे में जानकारी देगी। पिक लाइन को दैनिक रूप से हेपरिन से साफ़ किया जाना चाहिए। Heparin (हेपरिन) एक ऐसी दवा होती है जो रक्त का थक्का जमने से रोकती है, ताकि नली अवरोधित न हो। संक्रमण की रोकथाम करने और नली को जगह पर बनाए रखने के लिए उस जगह के ऊपर एक पट्टी लगा दी जाती है। नर्स हफ्ते में एक बार पट्टी बदलेगी। गीली, गंदी या निकल जाने पर, पट्टी को बदल दिया जाना चाहिए। नहाने के दौरान पट्टी को गीला होने से बचाना महत्वपूर्ण है।

पिक लाइन के बाद मुझे क्या अपेक्षा करनी चाहिए?

पहले दिन:

पिक लाइन के लिए सहज होने में कुछ दिन लग सकते हैं। आपकी बांह में दर्द या अकड़न महसूस हो सकती है। कुछ उभार आ सकता है।

ऐसा लग सकता है कि नली त्वचा के बाहर की तरफ खिंच रही है।

दवाई लेना:

सिरिंज या किसी आईवी बैग के ज़रिए दवाई दी जा सकती है। अपनी दवाईयां लेते समय अगर आपको कोई दर्द या परेशानी होती है तो नर्स को बताएं।

सामान्य देखभाल:

लाइन सही तरीके से काम करें और संक्रमण होने न पाए इसके लिए देखभाल संबंधी सभी निर्देशों का पालन करें। नली को छूने से पहले हमेशा अपने हाथ धोएं। सुई रहित कनेक्टर को नली में हर बार लगाने से पहले साफ़ किया जाना चाहिए।

ऐसी गतिविधियों से बचें, जो नली को नुकसान पहुंचा सकती हैं जैसे कि खेल या लापरवाही से हिलने-डुलने से बचना। आपको पिक लाइन के साथ तैरना नहीं चाहिए क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

सुनिश्चित करें कि नली सुरक्षित है, और हर समय उस जगह पर एक साफ़, सूखी पट्टी रखें। नली में दरार या नुकसान पहुँचाने वाले अन्य संकेतों पर ध्यान दें।

सेंट्रल लाइन असोसिएटे़ड ब्लड स्ट्रीम इन्फेक्शन (क्लाब्सी) जानलेवा हो सकता है। दर्द होना, लालिमा आना, सूजन आना या बुखार आने जैसे किसी भी संक्रमण के लक्षण होने पर अपने चिकित्सक को कॉल करें।


समीक्षा की गई: जून 2018