आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा

ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा के अन्य नामों में शामिल हैं: एनाप्लास्टी ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा, आईडीएच-उत्परिवर्ती ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा, ओलिगोस्ट्रोसाइटोमा

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा क्या है?

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा एक प्रकार का ग्लिओमा है, एक ऐसा ट्यूमर जो ग्लायल सेल से विकसित होता है और जो मस्तिष्क के सहायक ऊतक का निर्माण करता है। ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा, ओलिगोडेन्ड्रोसाइट्स से विकसित होते हैं, जो वे ग्लायल सेल हैं जो मस्तिष्क में नसों (तंत्रिकाओं) के लिए एक सुरक्षात्मक आवरण का निर्माण करते हैं। ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा अक्सर सेरब्रम (मस्तिष्क) में विकसित होते हैं और उनमें से लगभग आधे ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा फ़्रन्टल लोब (ललाट खंड) में उत्पन्न होते हैं।

अधिकांश ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा वयस्कों में उत्पन्न होते हैं और आमतौर पर ये पुरुषों में अधिक पाए जाते हैं। ये बच्चों और किशोरों में बहुत ही कम पाए जाते हैं, जिसका अनुपात 14 वर्ष से कम आयु के मस्तिष्क के कैंसर वाले बच्चों में 1% से भी कम है।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमास अक्सर सेरब्रम (मस्तिष्क) के सफेद पदार्थ में विकसित होता है। लगभग आधा फ़्रन्टल लोब (ललाट खंड) में होता है।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमास अक्सर सेरब्रम (मस्तिष्क) के सफेद पदार्थ में विकसित होता है। लगभग आधा फ़्रन्टल लोब (ललाट खंड) में होता है।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा अच्छी तरह से अलग की हुई (श्रेणी II) या एनाप्लास्टिक (श्रेणी III) हो सकते हैं। इसके इलाज में ट्यूमर को जितना संभव हो उतना निकालने के लिए आमतौर पर सर्जरी शामिल होती है। शेष बची कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए अक्सर कीमोथेरेपी के साथ या उसके बिना रेडिएशन थेरेपी का उपयोग किया जाता है। ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा से पीड़ित बच्चों में जीवित रहने की दर ट्यूमर की श्रेणी पर निर्भर करती है। कम श्रेणी के ट्यूमर वाले रोगी जिनके ट्यूमर सर्जरी द्वारा पूरी तरह से निकाल दिए जाते हैं, उनमें जीवित रहने की दर 90% से अधिक होती है।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा के लक्षण

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के संकेत और लक्षण

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा अक्सर धीमी गति से बढ़ने वाले होते हैं। समस्याएं उत्पन्न करने से पहले यह ट्यूमर कई वर्षों तक शरीर में मौजूद रह सकता है। ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के लक्षण निम्नलिखित सहित बहुत से कारकों पर निर्भर करते हैं:

  • Child’s age and stage of development
  • Size of the tumor
  • Location of the tumor in the brain
  • How fast the tumor grows

Oligodendroglioma symptoms may include:

  • Seizures (most common)
  • Changes in personality or behavior
  • Headaches
  • Problems in vision
  • Weakness or numbness on one side of the body

About half of patients experience seizures prior to diagnosis. Most patients (about 80%) will have seizures associated with the tumor at some point during the course of their illness.

रोग की पहचान होने से पूर्व लगभग आधे रोगियों को दौरे पड़ने का अनुभव होता है। अधिकांश रोगियों को (लगभग 80%) को अपनी बीमारी के दौरान ट्यूमर से जुड़े दौरे पड़ते हैं।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के रोग की पहचान करना

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के रोग की पहचान करना

चिकित्सक विभिन्न तरीकों से ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा की जाँच करते हैं। 

  • A health history and physical exam helps doctors learn about symptoms, general health, past illness, and risk factors. 
    • The cause of oligodendroglioma is unknown, but certain genetic changes in cells are associated with these tumors.
  • A neurological exam measures different aspects of brain function including memory, vision, hearing, muscle strength, balance, coordination, and reflexes.
  • An electroencephalogram (EEG), measures electrical activity of the brain. This test monitors and records seizure activity through scalp electrodes.
  • Imaging tests are used to help identify the tumor, see how big the tumor is, and find out what brain areas may be affected. Oligodendrogliomas often contain areas of calcium deposits (calcification) within the tumor. These calcium deposits can be seen on certain imaging tests and can help make the diagnosis.
    • Magnetic resonance imaging (MRI) is the main imaging technique that is usually used to evaluate oligodendroglioma. MRI uses radio waves and magnets to make detailed pictures of the body. The images made by MRI can give more information about the type of tumor and the potential spread of disease. An MRI is also done after surgery to see if any tumor remains.
    • Computed tomography (CT Scan) uses X-rays to create cross-sectional images of the organs and tissues inside the body. The machine takes many pictures to make a very detailed image. The images are taken as a series of “slices” of the body and are saved to a computer. These slices or sections can allow very small tumors to be seen.
  • A biopsy is usually used to diagnose oligodendroglioma. In a biopsy, a small sample of the tumor is removed during surgery. A pathologist looks at the tissue sample under a microscope to identify the specific grade of tumor. The tissue is also examined for molecular features and genetic markers that give more information about the tumor.
ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा, ओलिगोडेन्ड्रोसाइट्स से विकसित होते हैं, जो वे कोशिकाएं हैं जो मस्तिष्क में नसों (तंत्रिकाओं) के लिए एक सुरक्षात्मक आवरण का निर्माण करती हैं।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा, ओलिगोडेन्ड्रोसाइट्स से विकसित होते हैं, जो वे कोशिकाएं हैं जो मस्तिष्क में नसों (तंत्रिकाओं) के लिए एक सुरक्षात्मक आवरण का निर्माण करती हैं।

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के स्तर का पता लगाना और उसका श्रेणीकरण

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के स्तर का पता लगाना और उसका श्रेणीकरण

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा ट्यूमर को माइक्रोस्कोप में उनके दिखने के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। कोशिकाएं जितनी अधिक असामान्य दिखती हैं, ट्यूमर उतनी ही उच्च श्रेणी का होता है। ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा आमतौर पर श्रेणी II या III के होते हैं।

  • Grade II oligodendroglioma is considered low grade. The cells look more like normal cells and grow more slowly. They are less likely to spread to other parts of the brain.
  • Grade III oligodendroglioma is considered high grade. These tumors are called anaplastic oligodendrogliomas. They are more aggressive and can spread more easily.

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के लिए पूर्वानुमान

निरोगी होने के अवसर को प्रभावित करने वाले कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • ट्यूमर की श्रेणी
  • Whether the cancer is localized or has spread to other areas of the brain
  • If surgery can completely remove the tumor
  • If there are certain genetic changes in the tumor cells
  • If the cancer is new or if it has come back (recurrent)

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा का इलाज

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा का इलाज

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा का इलाज ट्यूमर के प्रकार और उसके स्थान पर निर्भर करता है। डॉक्टर रोगी की आयु को भी ध्यान में रखते हैं। संभावित दुष्प्रभावों के कारण बहुत छोटे बच्चों में रेडिएशन थेरेपी का उपयोग नहीं किया जाता।

फॉलो-अप देखभाल

ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा के इलाज के बाद, रोगियों में रोग के दुबारा होने को मॉनिटर करने के लिए उनके नियमित रूप से एमआरआई स्कैन किए जाएंगे। फॉलो-अप में उपयुक्त पुनर्सुधार और स्नायु संबंधी डॉक्टरी सलाह लेना शामिल होना चाहिए। कुछ अवधि तक स्टेरॉयड और दौरा-रोधी की दवाइयां देने की आवश्यकता पड़ सकती है।

बाल ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा के बाद जीवन

ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा से पीड़ित बच्चों और किशोरों में स्वास्थ्य लाभ और उसके दीर्घकालिक प्रभाव ट्यूमर की विशेषता और प्राप्त इलाजों पर निर्भर करते हैं। रोगी में रोग की पुनरावृत्ति या प्रगति पर नज़र रखने के लिए जारी फॉलो-अप देखभाल, लेबोरेट्री जांचें और नियमित एमआरआई स्कैन की आवश्यकता होती है। देखभाल टीम, रोगी की व्यक्तिगत आवश्यकताओं के आधार पर एक कार्य-योजना निर्धारित करेगी।

एक दीर्घकालिक रोग के रूप में बाल-रोग कम-श्रेणी का ग्लियोमा

कम-श्रेणी का ग्लियोमा साथ ही कुछ ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा, अक्सर एक क्रॉनिक या दीर्घकालिक रोग होता है। हालांकि, कम-श्रेणी ग्लियोमा से जीवित रहने की संपूर्ण दर उच्च होती है, ट्यूमर अक्सर वापस आ जाता है या समय के साथ बढ़ता जाता है। रोगी को कई वर्षों तक चलने वाली अनुवर्ती कार्रवाई में अतिरिक्त इलाजों की आवश्यकता पड़ सकती है। जिसका अर्थ यह है कि रोगी को अधिक इलाज- या ट्यूमर- संबंधित जटिलताओं का खतरा रहता है। कई बार ऐसा भी हो सकता है जब स्कैन पर ट्यूमर बढ़ा हुआ दिखाई दे, लेकिन देखभाल टीम इलाज की बजाय निगरानी (सतर्क प्रतीक्षा) की सलाह दे। रोगी, परिवार और देखभाल टीम के बीच अच्छा संवाद और विश्वास, निर्णय लेने और रोग प्रबंधन में सहायता करने के लिए महत्वपूर्ण होता है।

 

दीर्घकालिक स्वास्थ्य और जीवन शैली को बढ़ावा देने के लिए एक बहुविषयक टीम व्यक्तिगत देखभाल योजना बनाने मदद कर सकती है। थेरेपी के बाद के वर्षों में हो सकने वाली स्वास्थ्य समस्याओं और इलाज के देरी से होने वाले प्रभाव पर नज़र रखने के लिए, उत्तरजीविता के दौरान नियमित जांच और स्क्रीनिंग आवश्यक होती हैं।

और अधिक जानकारी: मस्तिष्क के कैंसर के बाद जीवन


समीक्षा की गई: जनवरी 2020