आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

अनींद

अनींद क्या है?

अनींद एक नींद की बीमारी है, जिसमें व्यक्ति को सोने में या गहरी नींद लेने में परेशानी होती है। बचपन में होने वाले कैंसर के मरीजों और इससे बचे हुए लोगों में गंभीर अनींद एक आम समस्या है। यदि कम से कम 3 महीनों तक प्रति सप्ताह 3 या इससे अधिक रात को नींद नहीं आती है, तो अनींद को गंभीर माना जाता है।

अनींद के लक्षण

अनींद के लक्षणों में शामिल हैं:

  • नींद आने में समस्या
  • बिस्तर पर जाने में आनाकानी करना
  • रात में उठ जाना
  • रात में चहलकदमी करने के बाद भी वापस सोने में समस्या
  • सुबह जल्दी उठ जाना
  • ठीक से नींद न लेना
  • थकान या बैचेनी महसूस होना
  • मनोदशा में बदलाव, चिड़चिड़ापन
  • सोचने, ध्यान देने या याददाश्त की समस्याएं
  • स्कूल या काम करने में समस्या

अनींद के कारण क्या है?

कैंसर से पीड़ित बच्चों में अनींद विभिन्न कारणों से हो सकती है। अक्सर, नींद की आदतों (स्वभावजन्य अनींद) में बदलाव के माध्यम से अनींद की पहचान होती है।

कैंसर के दौरान नींद की आदतों और दिनचर्या में बदलाव के कारण अनींद हो सकती है। जब किसी बच्चे को कैंसर होता है, तो परिवार के सदस्यों की सोने के समय और नींद की सामान्य आदतें और “नियम” अक्सर बदल जाते हैं। रात में बुखार जांचना या चिकित्सा संबंधी अन्य देखभाल के कारण रात में देखभाल करने का काम बढ़ सकता है। देखभाल के काम को आसान बनाने के लिए अभिभावकों को बच्चे के कमरे में उनके साथ सोना पड़ता है।

समय के साथ, बच्चे नई आदतें बना लेते हैं। वे बिस्तर पर जाने में आनाकानी करते हैं। उन्हें सोने के समय पर माता-पिता साथ चाहिए होते हैं और अकेले सोना नहीं चाहते हैं। तनाव, असहजता और शोर जैसे अन्य कारकों के कारण भी नींद आने या गहरी नींद आने में मुश्किल हो सकती है। नींद की समस्याओं के कारण, फिर नींद को लेकर घबराहट हो सकती है जिससे नींद ठीक से नहीं आती है।

स्वभावजन्य अनींद के लक्षणों में बिस्तर पर जाने में आनाकानी करना, नींद आने में समस्याएं होना, रात में उठ जाना और रात में उठने के बाद भी वापस नींद न आना शामिल हैं।

अनींद रोग की पहचान करना

कैंसर के मरीजों और इससे बचने वाले लोगों में, यह जानना ज़रूरी है कि क्या उन्हें कैंसर के परिणामस्वरूप, दवाइयों के दुष्प्रभाव या अन्य शारीरिक कारण से अनींद की समस्या हुई है।

अनींद के आंकलन में शामिल हैं:

  • लक्षणों को जानने के लिए मरीज और परिवार से बातचीत या उनसे सवाल पूछना
  • चिकित्सकीय इतिहास और शारीरिक जांच
  • मरीज जिन दवाइयों को ले रहा है, क्या उनके दुष्प्रभाव के कारण अनींद की समस्या हुई है, यह जानने के लिए दवाइयों की जांच करना
  • नींद और गतिविधि की डायरी में नींद के पैटर्न, शारीरिक गतिविधि, रोशनी में जाने और नींद को प्रभावित करने वाले अन्य कारकों का ट्रैक रखें।

अनींद का इलाज

बच्चों में अनींद की समस्या से निपटने में व्यवहारात्मक और वातावरण संबंधी बदलाव पहला कदम होता है। परिवार स्वस्थ्य नींद की आदतों को प्रोत्साहित करने और नींद के व्यवहार को बेहतर बनाने के लिए कदम उठा सकते हैं:

  • सोने के लिए एक शांत और आरामदायक वातावरण बनाएं।
  • सोने और बिस्तर पर जाने के लिए उचित समय सीमाएं तय करें और नींद की सकारात्मक आदतों को अपनाएं।
  • खुद को सुकून देने वाले, आराम प्रशिक्षण और नकारात्मक विचारों को दूर करने जैसे कौशल सीखने के लिए संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी का इस्तेमाल करें।
  • घबराहट या उदासी की बीमारी / निराशा की बीमारी का इलाज करें, जिनके कारण अनींद हो सकती है।
  • खासतौर पर सुबह के समय, धूप में ज़्यादा देर रहें। रात में हल्की रोशनी रखें और सोने से 1-2 घंटे पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को बंद कर दें। इलाज में हल्का प्रकाश उपचार या मेलाटोनिन सप्लिमेंट का उपयोग भी शामिल हो सकता है।

प्रकाश उपचार में शरीर की आंतरिक घड़ी को निर्धारित करने में मदद के लिए कृत्रिम रोशनी का इस्तेमाल किया जाता है। तेज प्रकाश, खासतौर पर सुबह के समय के प्रकाश से सोने-जागने के चक्र को स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है। खासतौर पर सुबह के समय धूप में जाने से रात के समय नींद बेहतर हो सकती है। हालांकि, अस्पताल में ज़्यादा दिनों तक रहने या साल में कुछ समय तक रहने के दौरान, मरीजों को प्राकृतिक रोशनी मिलना मुश्किल हो सकता है। प्रकाश उपचार में, मरीजों को एक निश्चित समय के लिए नियंत्रित प्रकाश स्रोत में रखा जाता है। इसके कुछ प्रमाण हैं कि कैंसर से पीड़ित किशोरों में प्रकाश उपचार से थकान की समस्या भी ठीक हो सकती है।

मेलाटोनिन एक हार्मोन है, जो नींद को नियमित करने में मदद करता है। मस्तिष्क की पीनियल ग्रंथि इसे छोड़ती है। सामान्यतः सोने के समय मेलाटोनिन का उत्पादन बढ़ता है और रात भर जारी रहता है, जो शरीर को संकेत देता है कि यह सोने का समय है। अनींद या सर्केडिअन रिदम नींद के विकार से जूझ रहे कुछ लोगों को मेलाटोनिन सप्लिमेंट लेने से लाभ मिल सकता है। नींद के लिए मेलाटोनिन या किसी अन्य सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से बात करना ज़रूरी है। हालांकि कुछ समय के लिए बच्चों और किशोरों में मेलाटोनिन का इस्तेमाल करना आमतौर पर सुरक्षित है, लेकिन इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं और अन्य दवाइयों के साथ संभावित प्रतिक्रिया कर सकती है। इस्तेमाल करने के लिए खुराक, समय और अन्य निर्देश अवश्य पूछें। यदि मेलाटोनिन ठीक से नहीं ली जाती है, तो इससे नींद संबंधी समस्याएं बद्तर हो सकती हैं।

मेलाटोनिन के बारे में और पढ़ें

कभी-कभी चिकित्सक नींद आने में मदद के लिए दवाई भी दे सकते हैं। हालांकि, फिलहाल 16 से कम उम्र के बच्चों में अनींद के लिए कोई भी दवाई विशेष रूप से स्वीकृत नहीं है। कोई भी दवाई या सप्लिमेंट लेने से पहले, वे दवाई भी जो प्रिस्क्रिप्शन के बिना उपलब्ध हों, परिवार को अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए।

स्वस्थ्य नींद के लिए सुझाव

  • जानें कि आपको कितना नींद की ज़रूरत है। वयस्कों की तुलना में बच्चों और किशोरों को अधिक नींद की आवश्यकता होती है, और कैंसर पीड़ितों को और भी अधिक नींद की आवश्यकता हो सकती है। अपने चिकित्सक से प्रतिदिन के लिए अनुशंसित नींद के घंटों के बारे में बात करें, जिसमें झपकी और रात की नींद शामिल है।
  • आरामदायक नींद का वातावरण बनाएं। सिर्फ सोने के लिए शांत, सहज और आरामदायक जगह तैयार करें। रात के दौरान प्रकाश और शोर को कम करने के लिए कुछ करें।
  • विशेषकर रात में, कैफीन और निकोटीन के सेवन से बचें। शाम 4 बजे के बाद या सोने से 6 घंटे पहले के समय के बीच कैफीन लेने से बचें।
  • व्यायाम। दिन के दौरान शारीरिक गतिविधि रात की नींद में सुधार कर सकती है। सोने के समय से पहले भारी व्यायाम करने से बचें।
  • बाहर समय बिताएं। दिन में धूप या हल्की रोशनी में बाहर निकलने से शरीर के सोने-जागने के चक्र को नियमित रखने में मदद मिलती है।
  • आराम से सोने की दिनचर्या बनाएं। टीवी और सभी इलेक्ट्रानिक उपकरणों को बंद करना न भूलें। खुद को सुकून देने वाली कार्यनीतियों पर बच्चों के साथ काम करें।

स्वस्थ्य नींद की आदतों के बारे में पढ़ें

 

अनींद के बारे में अधिक जानकारी के लिए संसाधन

अनींद के कारण क्या है? - नेशनल स्लीप फाउंडेशन

अनींद का अवलोकन और तथ्य - अमेरिकन एकेडमी ऑफ स्लीप मेडिसिन


समीक्षा की गई: जून 2019