आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

दबाव से होने वाली चोटें

दबाव से होने वाली चोटें, जिन्हें बेडसोर या प्रेशर अल्सर या छाले के रूप में भी जाना जाता है, किसी सख्त सतह की वजह से त्वचा पर दबाव पड़ने या उससे रगड़ खाने के कारण उत्पन्न होती हैं, जैसे कि बिस्तर, कुर्सी या चिकित्सकीय उपकरण। यह तब हो सकती है जब बच्चे लंबे समय तक एक ही शारीरिक मुद्रा में पड़े रहते हैं या जब चिकित्सा उपकरण से त्वचा पर दबाव पड़ता है। जब किसी सख्त सतह से त्वचा पर दबाव पड़ता है, तब उस भाग में दबाव के कारण खून का प्रवाह कम हो जाता है। इससे त्वचा कमज़ोर और क्षतिग्रस्त हो जाती है।

प्रारंभिक अवस्थाओं में, दबाव से त्वचा पर होने वाली चोटें लाल, फीके या गहरे रंग के धब्बों के रूप में दिखाई दे सकती हैं। बाद की अवस्थाओं में, त्वचा फट सकती है जिसके कारण फफोले या खुले घाव हो सकते हैं।

दबाव से होने वाली चोटों के कारण

दबाव से होने वाली चोटें अक्सर शारीरिक मुद्रा बदले बिना लगातार बिस्तर पर लेटे रहने या कुर्सी अथवा व्हीलचेयर पर बैठे रहने के कारण होती हैं। बच्चों में, दबाव से होने वाली चोटों का सबसे आम कारण चिकित्सीय उपकरण है, जिससे त्वचा पर दबाव पड़ता है जैसे:

  • मास्क
  • नलियां या कैथेटर्स
  • रक्त चाप संबंधी कलाई बंध
  • सर्जिकल पट्टियां 
  • आईवी नलियां
  • ऑर्थोटिक डिवाइसेस

बच्चों को बेडसोर होने का तब अधिक जोखिम होता है जब वे:

  • बिना किसी मदद के अपनी शारीरिक मुद्रा नहीं बदल पाते
  • उन्हें बीमारी, कमज़ोरी या छोटी आयु (शिशु) होने के कारण खुद को नियंत्रित रखने में कठिनाई होती है
  • उनकी त्वचा कमज़ोर और रूखी होती है
  • उनकी त्वचा में कम संवेदना या अनुभूति होती है
  • मूत्र, पसीना या अन्य तरल पदार्थों के कारण उनकी त्वचा नम रहती है
  • बिस्तर पर करवटें बदलते रहते हैं
  • सामान्य से कम खाते हैं या उनका खराब पोषण होता है
  • उनके शरीर का वजन बहुत कम होता है
  • निम्न रक्त चाप, निम्न रक्त कोशिकाओं की संख्या या ब्लड काउंट या उनके खून में ऑक्सीजन कम होती है
  • स्टेरॉयड जैसी कुछ दवाइयों का सेवन करते हैं जिनके कारण त्वचा पतली और कमज़ोर हो सकती है

दबाव से होने वाली चोटों को रोकना

दबाव से होने वाली चोटों की रोकथाम और देखभाल करना बहुत आवश्यक है। दबाव से होने वाली चोट का प्रथम संकेत दिखने पर, त्वचा को अतिरिक्त क्षति से बचाने के लिए उस भाग से दबाव को हटाएं। घावों में संक्रमण हो सकता है, खासतौर पर उन बच्चों में जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कैंसर इलाजों के कारण कमज़ोर हो गई है। इलाज न किए जाने पर, वे त्वचा में गहराई तक मांसपेशी या हड्डी तक फैल सकते हैं।

दबाव से होने वाली चोटों के जोखिम को कम करने के कुछ आसान तरीके हैं।

त्वचा की जाँच करें।

चिकित्सीय टीम और परिवार के देखभालकर्ताओं द्वारा बच्चों की त्वचा की नियमित रूप से जाँच की जानी चाहिए। चिकित्सीय टीम देखभालकर्ताओं को यह सिखा सकती है कि त्वचा की अच्छी तरह से जाँच कैसे करनी है और त्वचा में होने वाले कौन से परिवर्तन देखने हैं।

माता-पिता को अपने बच्चे की त्वचा की संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए। प्रति दिन त्वचा की जाँच करें। निचले भाग की त्वचा की जाँच करने के लिए मोजे, पजामा, अंडरवियर, डायपर और सभी अन्य आवरणों सहित कपड़े उतारें। अधिकतर बच्चे और किशोर घावों के बारे में तब तक नहीं बताते जब तक कि उन्हें अत्यधिक असुविधा महसूस न हो। बच्चों को शर्मिंदगी भी महसूस हो सकती है और वे कुछ भागों की जाँच करवाने से बचने का प्रयास भी कर सकते हैं।

संपूर्ण शरीर की जाँच करें, खासतौर पर हड्डी वाले भागों की जैसे:

  • सिर के पीछे का भाग – यह बच्चों में दबाव से होने वाली चोट लगने का सबसे आम स्थान होता है। 
  • कंधे
  • कोहनियां
  • कूल्हा
  • नितंब
  • पुच्छास्थि
  • एड़ी, टखनों और पैरों के तलवों सहित पैर

उन स्थानों पर विशेष ध्यान दें जहां चिकित्सा उपकरण त्वचा पर दबाव डाल सकते हैं। इन भागों की दिन में दो बार जाँच की जानी चाहिए।

लालिमा या गहरे रंग के क्षेत्रों, फफोलों और घावों पर नज़र रखें। दबाव वाली चोटों के प्रारंभिक संकेतों को विशेष रूप से गहरे रंग की त्वचा पर देखने में कठिनाई हो सकती है। उन स्थानों पर अधिक ध्यान दें जहां बच्चे को थोड़ी खराश या दर्द महसूस होता है। दबाव से होने वाली चोटें खुले या बंद घाव हो सकते हैं। त्वचा की दिखावट में होने वाले किसी भी प्रकार के परिवर्तन के बारे में देखभाल टीम को बताएं।

त्वचा पर लाल या फीके रंग का धब्बा होना जो सामान्य रंग में वापस नहीं आता है, एक चिंता का कारण है। जब त्वचा को दबाया जाता है, तो उसका रंग हल्का या सफेद हो जाना चाहिए और फिर वापस सामान्य रंग का हो जाना चाहिए। गहरे रंग की त्वचा वाले बच्चों में, प्रभावित भाग का रंग थोड़ा अधिक गहरा दिख सकता है या उस स्थान को छूने पर बच्चे को दर्द महसूस हो सकता है। छूने पर त्वचा थोड़ी गर्म या कड़ी महसूस हो सकती है या उसमें सूजन दिखाई दे सकती है।

शारीरिक मुद्रा बदलें।

दबाव वाली चोटों से बचने का सबसे अच्छा तरीका थोड़ी-थोड़ी देर में अपनी शारीरिक मुद्रा को बदलते रहना है। बच्चों को जितना संभव हो बिठाएं, खड़ा रखें या चलाएं। यदि बच्चे को बिस्तर पर रहने की आवश्यकता है, तो एक देखभालकर्ता या देखभाल टीम के किसी सदस्य को हर 2 घंटे में बच्चे को शारीरिक मुद्रा बदलने में मदद करनी चाहिए। व्हीलचेयर में बैठे बच्चों को हर एक घंटे में अपनी शारीरिक मुद्रा में अनुकूल बदलाव करते रहना चाहिए।

शरीर के हड्डी वाले भागों पर से दबाव को हटाने के लिए गद्दियों का उपयोग किया जा सकता है। उपयोग करने के लिए सबसे अच्छी चीज़ क्या है, इस बारे में अपनी देखभाल टीम से बात करना सुनिश्चित करें। कुछ प्रकारकी गद्दियों से दबाव बढ सकता है। 

बच्चे को बिस्तर में अलग-अलग स्थिति वाली शारीरिक मुद्रा में रखने के लिए:

  • वैकल्पिक स्थितियां। जब बच्चा लेटा हुआ हो, तब उसकी करवट बदल कर (दाएं, बाएं, पीठ के बल) शरीर की शारीरिक मुद्रा बदलें और अगली बार कौन सी तरफ करवट दिलानी है इसका ध्यान रखें।
  • किसी से मदद लें। बच्चे की शारीरिक मुद्रा बदलने में मदद के लिए हमेशा दो लोग होने चाहिए।
  • बच्चे को कभी बिस्तर पर खिसकाएं या खींचें नहीं। नई स्थिति में रखने से पहले बच्चे को बिस्तर से पूरी तरह से उठाने के लिए चादर का उपयोग करें। 
  • बच्चे को पकड़कर उठाते समय पूरे हाथ का उपयोग करें। यदि बच्चे को पकड़ने की ज़रूरत है, तो हथेली का उपयोग करें। केवल अंगुलियों का उपयोग करने से दबाव से होने वाली चोटें होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • उचित बिस्तर और तकियों का उपयोग करें। देखभाल टीम के सदस्य से पूछें कि किस प्रकार के गद्दे, तकिए और चादरों का उपयोग करना है और उन्हें बच्चे के शरीर के नीचे कैसे रखना है। 
  • सरकने का निरीक्षण करें। बिस्तर का सिर वाला हिस्सा बहुत अधिक ऊपर उठाने से बच्चा नीचे की ओर सरक सकता है जिससे उसकी त्वचा पर दबाव पड़ सकता है।

त्वचा की रक्षा करें।

त्वचा की अच्छी देखभाल से दबाव से होने वाली चोटें लगने की संभावना कम हो सकती है और यदि कोई घाव हो जाता है तो उसमें संक्रमण होने का जोखिम कम हो सकता है।

  • त्वचा को साफ़ रखें। सौम्य साबुनों का उपयोग करें। त्वचा को मलें या रगड़ें नहीं। त्वचा को नैपकिन से हल्के से थपथपाकर या दबाकर सुखाएं।
  • त्वचा को सूखा रखें। यदि बच्चा मूत्र या मल त्याग करता है तो तुरंत उसकी त्वचा को साफ़ करें और उसके डायपर या अंतर्वस्त्रों को बदलें। डायपर या अवशोषक पैड मूत्र, पसीने और अन्य तरल पदार्थ को त्वचा से दूर रखने में मदद कर सकते हैं।
  • चकत्ते होने या दस्त लगने की स्थिति में रिपोर्ट करें। यदि बच्चे को त्वचा में जलन हो या दस्त होने लगे तो देखभाल टीम के सदस्य को सूचित करें।
  • रूखी त्वचा को मॉइस्चराइज़ करें। स्नान और सफ़ाई के बाद, देखभाल टीम द्वारा अनुशंसित सुगंध-रहित मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।
  • त्वचा को रगड़ें या खुजाएं नहीं। त्वचा को कटने या फटने से बचाने के लिए उसे कोमलता से स्पर्श करें।
  • पौष्टिक भोजन खाएं। इलाज के लिए अच्छा पौष्टिक आहार ज़रूरी है।
  • त्वचा को चोट पहुंचाने वाली चीज़ों के प्रति सतर्क रहें। तंग कपड़ों या ऐसे कपड़ों से बचें जिनमें बटन या जिपर हैं जो त्वचा को दबाते हैं। कपड़ों और चादरों को एकसार और सिलवट-रहित रखें। सुनिश्चित करें कि व्हीलचेयर और ऑर्थोटिक डिवाइसेस बिल्कुल फिट बैठते हों और उनसे त्वचा पर रगड़ न लगती हो।

कुछ मामलों में, देखभाल टीम शरीर के हड्डी वाले भागों पर से दबाव को हटाने के लिए सुरक्षात्मक ड्रेसिंग करने या पट्टियां लगाने का सुझाव दे सकती है।

यदि आपको दबाव वाली चोट का कोई भी संकेत दिखाई देता है तो देखभाल टीम को बताएं। दबाव वाली चोटों का समय से पूर्व पता लग जाने पर उनका इलाज करना आसान होता है।


समीक्षा की गई: जून 2018