आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

डायपर डर्मेटाइटिस (डायपर रैश)

डायपर डर्मेटाइटिस या डायपर रैश, एक तरह की त्वचा की जलन है जो डायपर द्वारा कवर किए गए भाग में होती है, जिसमें नितंब, जांघें, पेट या जननांग क्षेत्र शामिल हैं। इसे पेशाब या शौच पर स्वैच्छिक नियंत्रण की कमी से संबंधित डर्मेटाइटिस या मूत्र अथवा मल के कारण त्वचा में होने वाली जलन के रूप में भी जाना जाता है।

डायपर डर्मेटाइटिस आमतौर पर छोटे या नन्हे बच्चों में पाया जाता है, विशेषकर 9 से 12 महीने के शिशुओं में। हालांकि, एक्जिमा (त्वचा की खुजली) या डायपर डर्मेटाइटिस किसी भी आयु में हो सकता है। डायपर रैश से दर्द और असुविधा हो सकती है। यदि इसका इलाज न किया जाए, तो संक्रमण हो सकता है।

डायपर डर्मेटाइटिस के संकेतों में छोटे गुलाबी या लाल दाने होना, लालिमा आना, त्वचा का सूजना या फफोले होना शामिल है। इसमें त्वचा में खुजली या दर्द हो सकता है।

डायपर रैश रोकथाम और इलाज के एबीसी चरण

  • - त्वचा पर हवा लगने दें
  • बी – अवरोधक (मरहम, पेस्ट) से त्वचा की रक्षा करें
  • सी – त्वचा को साफ़ करें

डायपर डर्मेटाइटिस के कारण

डायपर रैश तब होता है जब त्वचा नमी, घर्षण, मूत्र और मल, तथा त्वचा संबंधी अन्य उत्तेजक पदार्थों के प्रभाव में आती है। डायपर डर्मेटाइटिस में योगदान करने वाले कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • नमी
  • मूत्र या मल
  • दस्त होना
  • नए खाद्य पदार्थ जो पाचन प्रणाली में परिवर्तन का कारण होते हैं
  • घर्षण, त्वचा उतरना या रगड़ लगना
  • त्वचा संबंधी उत्तेजक पदार्थों या एलर्जिक प्रतिक्रियाएं (अक्सर साबुन, कपड़े धोने के डिटर्जेंट, वाइप्स या लोशन से)
  • जीवाणु
  • एंटीबायोटिक या जीवाणु नाशक दवाइयां जिनके कारण खमीर के संक्रमण (एक तरह की फफूंद जो गर्म और नमी वाले भागों में होती है) या दस्त होते हैं
  • कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी सहित कैंसर के इलाज
  • दवाइयां जो मूत्र और मल में उत्सर्जित होती हैं

कैंसर के दौरान, बच्चों में डायपर डर्मेटाइटिस होने के अतिरिक्त जोखिम कारक होते हैं। कैंसर के इलाज जैसे कीमोथेरेपी, मूत्र या मल में उत्सर्जन के कारण डायपर डर्मेटाइटिस होने में योगदान कर सकते हैं। रेडिएशन थेरेपी से भी त्वचा अधिक संवेदनशील बन सकती है और आसानी से जलन से प्रभावित हो सकती है। स्टेरॉयड दवाइयों के उपयोग से या प्रतिरक्षा प्रणाली कमज़ोर होने से भी जोखिम बढ़ सकता है।

बड़े बच्चों में रोग, दवाइयों या बीमारी के कारण मूत्राशय या मलाशय पर नियंत्रण खोने (असंयमता) की समस्या हो सकती है। इन रोगियों को डायपर या "पुल-अप्स" पहनने की ज़रूरत पड़ सकती है, जिनसे पेशाब या शौच पर स्वैच्छिक नियंत्रण की कमी से संबंधित डर्मेटाइटिस होने का जोखिम बढ़ जाता है।

डायपर डर्मेटाइटिस का इलाज करना

डायपर डर्मेटाइटिस का इलाज लक्षणों, बच्चे की आयु, स्वास्थ्य और रैश की गंभीरता पर निर्भर करता है। देखभाल टीम को त्वचा की जलन के सभी संकेतों के बारे में बताना सुनिश्चित करें। त्वचा पर किसी भी उत्पाद का उपयोग करने से पहले देखभाल टीम के सदस्य से पूछें।

चिकित्सक डायपर रैश के इलाजों का सुझाव दे सकते हैं जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • कुछ समय तक डायपर न पहनना
  • हर थोड़ी देर में डायपर बदलना
  • त्वचा को सुरक्षित रखने वाले मरहम या पेस्ट
  • खमीर के संक्रमण के इलाज के लिए फफूंदी को रोकने वाली दवा या एंटीफंगल क्रीम

डायपर डर्मेटाइटिस को होने से रोकना

कैंसर के दौरान, यह आवश्यक है कि डायपर डर्मेटाइटिस को होने से रोकने के उपाय किए जाएं।

  • नियमित रूप से डायपर की जाँच करें और गंदे होने पर उन्हें बदलें। डायपर रैश होने के अधिक जोखिम वाले बच्चों के डायपर की हर 2 घंटे में और दस्त लगने या आई तरल पदार्थों के मामले में अधिक बार जाँच की जानी चाहिए।
  • त्वचा को धीरे से साफ़ करें। त्वचा को सौम्य साबुन और पानी या एक सौम्य पूर्व-आर्द्रित वाइप से तुरंत साफ़ करें। अल्कोहल या सुगंध युक्त उत्पादों का उपयोग न करें। त्वचा को स्क्रब न करें। हमेशा धीरे से नीचे की ओर वाइप करें। त्वचा को धीरे से पोंछकर सुखाएं।
  • देखभाल टीम द्वारा अनुशंसित मरहम या पेस्ट का उपयोग करें। त्वचा पर नमीयुक्त अवरोधक लगाएं। हमेशा अपने चिकित्सक से पूछें, लेकिन आमतौर पर जिंक ऑक्साइड और/या पेट्रोलेटम युक्त टॉपिकल अवरोधकों का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। इसकी कई पतली परतें लगाएं। मरहम प्रभावित क्षेत्र पर पूरी तरह से लगा होना चाहिए। इसे रगड़ें नहीं।
  • बेबी पाउडर का उपयोग न करें। पाउडर श्वास द्वारा अंदर जा सकता है, जिससे श्वास और फेफड़े से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।
  • डायपर को ढ़ीला रखें। हवा लगने, नमी को कम करने और खाल निकलने के प्रभाव को कम करने के लिए डायपर-मुक्त समय दें।
  • त्वचा की नियमित रूप से जाँच करें। दैनिक रूप से डायपर क्षेत्र सहित, बच्चे की त्वचा की जाँच करें। त्वचा की जलन होने के अधिक जोखिम वाले रोगियों की अधिक बार जाँच की जानी चाहिए। हो सकता है कि बड़े बच्चे जाँच करवाने से बचें। हालांकि, जलन के प्रारंभिक संकेतों का पता लगाने के लिए नियमित निगरानी करना आवश्यक होता है।
  • जलन या सूजन का कोई भी संकेत दिखने पर देखभाल टीम के सदस्य को सूचित करें
  • सुनिश्चित करें कि सभी देखभालकर्ताओं को पता हो कि त्वचा की देखभाल कैसे करनी है

डायपर क्षेत्र में लाल दाने या रैशेज़ होने से विभिन्न समस्याएं हो सकती हैं। एक से दूसरे प्रकार के रैश की पहचान करना कठिन हो सकता है, लेकिन उनके लिए अलग-अलग इलाज की आवश्यकता पड़ सकती है।

  • संस्पर्श या क्षोभक डायपर डर्मेटाइटिस एक सबसे आम प्रकार का डायपर रैश है। यह किसी भी तरह की जलन, आमतौर पर मूत्र और मल के कारण होता है। संकेत हल्की लालिमा से लेकर लाल, चमकदार और/या उतरने वाली त्वचा तक अलग-अलग हो सकते हैं। प्रभावित क्षेत्रों में अक्सर नितंब, जांघें, पेट और कमर शामिल होते हैं।
  • कैंडिडा (खमीर) डायपर डर्मेटाइटिस खमीर के संक्रमण के कारण हो सकता है जो डायपर रैश का इलाज न होने पर विकसित हो सकता है। त्वचा में सूजन के गहरे लाल धब्बे दिखाई दे सकते हैं। इसमें तरल से भरी उभारदार फुंसियां या दाने हो सकते हैं। प्रभावित त्वचा में अक्सर जांघों और जननांगों के आसपास की त्वचा की तहें शामिल होती हैं। कभी-कभी बच्चे के मुंह में भी खमीर का संक्रमण (थ्रश या मुखव्रण) हो सकता है।

अन्य प्रकार के रैश में एलर्जिक प्रतिक्रियाएं, सेबोरिया और जीवाणु संक्रमण शामिल हो सकते हैं।

चिकित्सक से संपर्क करें यदि:

  • बच्चे में बड़े घाव, फफोले, फुंसी, फोड़े या पपड़ियां बनती हैं
  • बच्चे में 24 घंटे के अंदर कोई सुधार नहीं होता
  • बच्चे में एक ऐसा रैश है जिसमें से खून निकलता है, जो लाल या ठोस हो जाता है या यदि रैश डायपर क्षेत्र के बाहर तक फैल गया है
  • बच्चे को रैश के कारण सोने में समस्या हो रही है
  • बच्चे को बुखार होता है
  • बच्चा बीमार लगता है


समीक्षा की गई: जून 2018