आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा)

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) ऐसी दवाओं के उपयोग की प्रक्रिया है जो रोगियों को सुरक्षित रूप से और आराम से नैदानिक जाँच, चिकित्सा प्रक्रियाओं, सर्जरी और अन्य इलाजों से गुज़रने में मदद करने के लिए चेतना में बदलाव करने, दर्द की संवेदनाओं को अवरोधित करने और घबराहट से राहत देने के लिए मस्तिष्क को दिए जाने वाले संकेतों में बदलाव लाती हैं। बच्चों को चिकित्सा परीक्षणों और प्रक्रियाओं के दौरान आराम करने या सोने में मदद करने के लिए भी दवाई दी जा सकती है।

बचपन में होने वाले कैंसर में, इन स्थितियों के दौरान एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का उपयोग किया जा सकता है:

प्रक्रिया के प्रकार और रोगी की ज़रूरतों के आधार पर, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का उपयोग किया जा सकता है:

  • तनाव और घबराहट को कम करने के लिए
  • दर्द रोकने के लिए
  • बेहोश करने या चेतना में कमी लाने के लिए
  • मांसपेशियों को ढ़ीला करने के लिए
  • रोगियों को हिलने-डुलने से रोकने में मदद करने के लिए
  • प्रक्रिया की याद में बदलाव लाने या उसे अवरोधित करने के लिए

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का लक्ष्य परीक्षणों और चिकित्सा प्रक्रियाओं से पहले, दौरान और बाद में रोगियों को सुरक्षित और सहज रखना है।

एनेस्थीसियोलॉजी

एनेस्थिसियोलॉजी, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) की चिकित्सा पद्धति है। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने और रोगियों की निगरानी करने वाले प्रशिक्षित चिकित्सक को एनेस्थिसियोलॉजिस्ट (बेहोश करने वाला डॉक्टर) कहा जाता है। अन्य प्रमुख एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) विशेषज्ञों में प्रमाणित पंजीकृत नर्स एनेस्थिटिस्ट (सीआरएनए) शामिल हैं।

रोगी को प्रक्रिया के लिए सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने से पहले, एक बेहोश करने वाला डॉक्टर, उसके परिवार से मिलता है।

रोगी को प्रक्रिया के लिए सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने से पहले, एक बेहोश करने वाला डॉक्टर, उसके परिवार से मिलता है।

सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दवाएं अक्सर एक नस के माध्यम से दी जाती हैं। आईवी की प्रक्रिया शुरू करने के लिए नर्स एक जगह की तलाश करती है।

सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दवाएं अक्सर एक नस के माध्यम से दी जाती हैं। आईवी की प्रक्रिया शुरू करने के लिए नर्स एक जगह की तलाश करती है।

प्रक्रिया के बाद, देखभाल टीम रोगी को एक रिकवरी क्षेत्र में ले जाती है जहां वे उसे मॉनिटर करेंगे जब तक कि एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दवा का प्रभाव खत्म नहीं हो जाता।

प्रक्रिया के बाद, देखभाल टीम रोगी को एक रिकवरी क्षेत्र में ले जाती है जहां वे उसे मॉनिटर करेंगे जब तक कि एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दवा का प्रभाव खत्म नहीं हो जाता।

प्रक्रियाओं से पहले रोगियों को कुछ समय के लिए खाने या पीने से रोक दिया जाएगा, इसलिए रोगी के जागने पर परिजन उसके लिए नाश्ता तैयार रखना चाह सकते हैं।

प्रक्रियाओं से पहले रोगियों को कुछ समय के लिए खाने या पीने से रोक दिया जाएगा, इसलिए रोगी के जागने पर परिजन उसके लिए नाश्ता तैयार रखना चाह सकते हैं।

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के प्रकार

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के तीन मुख्य प्रकार हैं: सामान्य, क्षेत्रीय और स्थानीय।

  •  सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने से चेतना पूरी तरह खत्म हो जाती है। इसे अक्सर “गहरी नींद” कहते हैं। लेकिन, यह सामान्य नींद से अलग होती है, इसमें दर्द जैसी उत्तेजनाओं की प्रतिक्रिया नहीं होती। सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) दवाएं अक्सर एक नस (नस या आईवी) के माध्यम से दी जाती हैं। कुछ दवाओं को एक मास्क या श्वसन ट्यूब के माध्यम से साँस से लिया जा सकता है।
  • क्षेत्रीय एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने से दर्द का एहसास नहीं होता है या यह नसों के एक समूह को प्रभावित करके शरीर के एक बड़े क्षेत्र में महसूस करने की क्षमता को खत्म कर देता है। क्षेत्रीय एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के उदाहरण हैं, हाथ या पैर या एपीड्यूरल या स्पाइनल एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) में दर्द का एहसास न होना जिससे शरीर के एक क्षेत्र जैसे कि पैर या पेट में दर्द का एहसास नहीं होता है।
  • स्थानीय एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने से शरीर के एक छोटे, विशिष्ट क्षेत्र में सुन्नता आती है या दर्द का एहसास नहीं होता है। दवा को टीके के रूप में या त्वचा पर लगाए जाने वाले मरहम या स्प्रे के रूप में दिया जा सकता है। स्थानीय एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का एक उदाहरण कट का इलाज करने से पहले त्वचा को सुन्न करना है।

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के दौरान उपयोग की जाने वाली दवाइयां कई कारकों पर निर्भर करती हैं: 

  • प्रक्रिया का प्रकार
  • प्रक्रिया की अवधि
  • बच्चे की आयु और आकार
  • स्वास्थ्य की स्थिति और अन्य चिकित्सा आवश्यकताएं
  • पहले एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने का इतिहास
  • कुछ दवाओं से एलर्जी या प्रतिक्रिया

एनपीओ (बिना खाए-पिए) निर्देश क्या हैं?

एनपीओ (बिना खाए-पिए) निर्देश एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) से पहले भोजन या पेय कब रोकना है, इस पर दिशानिर्देश प्रदान करता है। एनपीओ (बिना खाए-पिए) एक लैटिन वाक्यांश का संक्षिप्त रूप है जिसका अर्थ है “मुंह से कुछ भी नहीं”। प्रक्रियाओं से पहले रोगी को कुछ समय के लिए खाने या पीने की अनुमति नहीं होगी। रोगियों को सुरक्षित रखने के लिए यह महत्वपूर्ण है। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के दौरान पेट में कुछ भी होने से फेफड़े में भोजन या तरल चले जाने का खतरा रहता है। यहां तक कि च्यूइंग गम खाने या हार्ड कैंडी को चूसने से प्रक्रियाओं में देरी हो सकती है। परिवार को बच्चे की दवाइयों के बारे में भी देखभाल टीम से बात करनी चाहिए। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) से पहले या बाद में देखभाल करने वाली टीम दवाइयों में बदलाव की सिफारिश कर सकती है। निर्देश के अनुसार दवाएं लेना महत्वपूर्ण है।

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का जोखिम

रोगियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देखभाल टीम महत्वपूर्ण कदम उठाती है। हालांकि, एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के साथ जोखिम भी हैं। आमतौर पर, दुष्प्रभाव मामूली होते हैं और अपने आप खत्म हो जाते हैं। बेहोश करने की क्रिया के बाद, रोगी सुस्त हो सकता है, सिरदर्द या मतली महसूस कर सकता है। सर्वांगीण एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) ठीक होने के दौरान, जी मिचलाना और उल्टी, ठंड लगना, उनींदापन, सोचने में परेशानी और समन्वय या संतुलन में दिक्कत जैसे दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है।

अन्य जटिलताएं अधिक गंभीर हो सकती हैं। कुछ रोगियों में कुछ दवाओं से हृदय, रक्त चाप और सांस लेने में समस्या हो सकती है। जिन रोगियों में गंभीर चिकित्सीय समस्याएं हैं, उन्हें एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) से ज़्यादा खतरा है। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) विशेषज्ञ जोखिम का अनुमान लगाते हैं और उन्हें कम करने के लिए कदम उठाते हैं। एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) टीम एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) और ठीक होने के दौरान रोगियों पर कड़ी नजर रखेगी।

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के जोखिम को कम करने के लिए एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) टीम महत्वपूर्ण कदम उठाती है। इनमें शामिल है:

  • प्रक्रियाओं से पहले रोगियों और परिवारों के साथ मीटिंग (ऑपरेशन से पहले मुलाकात)
  • एक पूर्ण चिकित्सकीय इतिहास और शारीरिक जांच करना
  • यह सुनिश्चित करना कि बच्चों के लिए और की जाने वाली प्रक्रिया के प्रकार के लिए उपयुक्त उपकरण हैं
  • एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) से पहले, दौरान और बाद में सक्रिय रूप से रोगियों की निगरानी और प्रबंधन करना
 

एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) योजना के बारे में परिवारों को अपने एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) चिकित्सकों से बात करनी चाहिए और पूछना चाहिए कि क्या अपेक्षित है। बच्चों को एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) देने में मदद के लिए एक शिशु जीवन विशेषज्ञ भी चिकित्सीय टीम के साथ काम कर सकता है। जोखिम कम करने और चीजों को सुचारू रूप से चलाने में मदद करने के लिए परिवारों द्वारा देखभाल टीम के निर्देशों का पालन करना भी महत्वपूर्ण है।

बेहोशी या एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) के बाद यात्रा


समीक्षा की गई: जून 2018