आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

बच्चों के इलाज के दौरान वयस्कों से दोस्ती को कायम रखना

माता-पिता के लिए यह महत्वपूर्ण है कि जब उनके बच्चे कैंसर का सामना कर रहे हों, वे वयस्कों से दोस्ती बनाकर रखें। दोस्तों के करीब रहना बहुत कारणों से महत्वपूर्ण है। दोस्त मदद, भावनात्मक सहयोग या तनाव से बचने का साधन हो सकते हैं।

गंभीर बीमारी के दौरान, सभी रिश्ते बदलाव और चुनौतियों से गुज़रते हैं। दोस्ती कोई अपवाद नहीं है। दूरी, समय की कमी और दोस्त नहीं समझते जैसी भावनाएं माता-पिता के लिए दोस्तों से जुड़े रहना मुश्किल बना सकती हैं। लेकिन, जब बच्चे कैंसर से लड़ रहे होते हैं, माता-पिता को वयस्क दोस्ती की ज़रूरत होती है।

दोस्तों को बताएं कि वे महत्वपूर्ण हैं।

दोस्तों को लग सकता है कि बीमार बच्चों के माता-पिता के लिए आंगतुक और फ़ोन आना सबसे आखिरी बात होगी। लेकिन वह वो चीज़ है जिनकी माता-पिता को ज़रूरत हो सकती है। बचपन में होने वाला कैंसर अपरिहार्य होता है और दोस्तों को शायद समझ नहीं आए कि क्या करना या कहना चाहिए। यहां तक कि करीबी दोस्त भी दूर जा सकते हैं। दोस्तों को यह बताने में कि वे महत्वपूर्ण हैं ज़्यादा समय और प्रयास की ज़रूरत नहीं होती है। यह देखने में आसान लग सकता है, लेकिन खुद आगे आकर दोस्तों को यह बताना कि वे उनके लिए महत्वपूर्ण है बातचीत शुरू कर सकता है।  

सीमित समय और ऊर्जा के साथ दोस्तों के पास रहना

बहुत सारे माता-पिता को लग सकता है कि उनके पास जब तक उनका बच्चा कैंसर से ठीक नहीं हो जाता है, उसके पहले दोस्तों के लिए पर्याप्त समय नहीं है। कैंसर का होना अधिक समय की मांग करता है: मिलने का समय निश्चित करना, चिकित्सा देखभाल, घर और काम की ज़िम्मेदारी, जानकारियों पर नज़र बनाए रखना और परिवार के लिए समय निकालना। तनाव और चिंता से बात करने के लिए ज़रूरी ऊर्जा मुश्किल खड़ी कर सकती है।

लेकिन बहुत सारे माता-पिता का कहना है कि दोस्ती बचपन में होने वाला कैंसर से पार पाने में एक महत्वपूर्ण किरदार निभाती है। हर व्यक्ति दोस्तों के साथ अलग-अलग तरीकों से जुड़ता है, लेकिन यहां माता-पिता ने कुछ चीज़ों को उपयोगी पाया है।

  • दोस्तों को फ़ोन करें। फ़ोन पर बातचीत करना ईमेल और मैसेज भेजने से कहीं ज़्यादा व्यक्तिगत होती है। अपने दोस्त की आवाज सुनना एक भावनात्मक अहसास देता है, खासकर जब घर से दूर हों।
  • मदद लें. दोस्त मदद करना चाहते हैं, लेकिन अक्सर वह समझ नहीं पाते हैं कि कैसे करें। उन्हें विशेष तरीके बताने चाहिए, जिससे वे मदद कर सकें। यह उन्हें ज़रूरतमंद और सहभागिता होने का एहसास कराएगा।
  • वेबसाइट और सोशल मीडिया के इस्तेमाल से दोस्तों के समूह को अपडेट दें। CaringBridge जैसी साइट्स और अन्य सोशल मीडिया के मंच, माता-पिता को कई दोस्तों और परिवार के सदस्यों को एक ही बार में जानकारी देते हैं। माता-पिता अपने किसी एक दोस्त या रिश्तेदार को पोस्ट्स के बारे में नियुक्त कर सकते हैं।
  • करीबी दोस्तों के साथ समय को प्राथमिकता दें। सीमित समय होना एक या दो भरोसेमंद लोगों से अर्थपूर्ण संवाद पर ध्यान केंद्रित करने में उपयोगी हो सकता है जो उतार-चढाव के दौरान वहां होंगे।
  • दोस्तों के छोटे समूहों से मिलें। एक साथ दो या उससे अधिक दोस्तों से मिलने पर—कदाचित कॉफ़ी या साधारण दोपहर के खाने पर—जब एक-दूसरे के लिए व्यक्तिगत समय न हो, तब संबंध मजबूत रख सकता है। जब थका हुआ महसूस कर रहे हों या चिंतित हों, उस वक्त बात करने के दबाव को कम करने में यह मदद कर सकता है।
  • दोस्तों को रोज के काम के लिए आमंत्रित करें। बहुत सारे माता-पिता जब अपने बच्चों से दूर दोस्तों के साथ समय बिताते हैं, तो वे खुद को दोषी मानने लगते हैं। या, वहां बहुत कुछ है करने को। दोस्त, विशेषकर करीबी दोस्त, साथ समय बिताने के लिए खुश होते हैं।

बातचीत की शुरुआत – बात करने के लिए शब्दों को खोजना

अजीबपन को स्वीकार करें।

“मेरे लिए यह कभी-कभी लोगों को क्या कहना है, यह जानना कठिन होता है। मुझे यकीन है कि मेरे दोस्तों के लिए मुझसे बात करना कठिन होगा।

बातचीत की कोशिश करें।

“हाय, मैं तुम्हें कॉल करना चाहता था – आपकी आवाज सुनकर अच्छा लगा।”

विशेष मदद मांगें।

“मेरे परिवार के लिए यह कठिन समय है। अगर आप हफ़्ते में कुछ समय के लिए बच्चों को स्कूल से घर छोड़ दें तो, यह हमारे लिए बहुत बड़ी बात होगी।”

प्रशंसा करें।

“मुझे पता है कि मैं ज़्यादा समय साथ नहीं था, लेकिन यह जान लें कि आपकी दोस्ती मेरे लिए पूरी दुनिया है।”

शुक्रिया अदा करें।

“बीती रात खाने पर आने के लिए शुक्रिया।” वह मेरे परिवार के लिए बहुत बड़ी मदद थी।”

जब दोस्त नहीं जानते हों कि कैसे मदद करनी है

अधिकतर लोगों को नहीं पता होता है कि एक कैंसर से पीड़ित बच्चे का होना कैसा होता है। जब एक बच्चे में कैंसर रोग की पहचान होती है, हर दोस्त अलग-अलग प्रतिक्रिया देता है। कुछ दोस्त काफी हद तक सहायता करते हैं। कुछ मदद से पीछे हट जाते हैं। कुछ दोस्त इस तरह से बर्ताव कर सकते हैं कि जैसे कुछ हुआ ही नहीं है। दूसरे बहुत सारे मदद का वादा कर सकते हैं, लेकिन आते नहीं हैं। माता-पिता तब मायूस हो सकते हैं, जब दोस्त मदद और सहयोग की पेशकश नहीं करते हैं जिसकी उम्मीद होती है।

माता-पिता की उम्मीदों पर दोस्त क्यों खरे नहीं उतरते हैं, उनमें सामान्य कारणों में शामिल ये है:

  • क्या कहें या करें, इस बारे में अनिश्चितता होना
  • यह मानना कि परिवार अकेलापन चाहते हैं या हस्तेक्षप नहीं चाहते हैं
  • यह सोचना कि माता-पिता अगर मदद की ज़रूरत होगी, तो बताएंगे
  • अपनी ज़िम्मेदारियों में फंसे होने की वजह से दोस्तों से संपर्क नहीं रह पाता

निराशा से निपटने के लिए सकारात्मक रणनीतियां

स्वाभाविक है कि माता-पिता के लिए यह निराशाजनक होता है, खासकर अगर एक करीबी दोस्त वह सहयोग नहीं देता है जिसकी ज़रूरत होती है। निराशा अक्सर गुस्सा और नाराज़गी की ओर ले जा सकती है, विशेषरूप से जब माता-पिता पहले से ही कमजोर महसूस कर रहे हों। लेकिन, कुछ उपाय हैं जिसके ज़रिये माता-पिता सकारात्मक तरीकों से निपट सकते हैं।

  • परिस्थिति को दूसरे नज़रिये से समझें।
    • एक कदम पीछे हो जाएं। बहुत कम उम्मीद होती है कि एक दोस्त जानबूझकर चोट पहुंचाए। मित्र के व्यवहार के बारे में निराशा कम हो सकती है। ऐसा हो सकता है कि कैंसर से पीड़ित बच्चे के माता-पिता के तौर पर, भावनाएं अधूरी होती हैं, जिसे उद्देश्यपूर्ण बनाना कठिन है।
  • विशेष मदद मांगें।
    • अक्सर लोग समझ नहीं पाते हैं कि क्या करना है या कैसे मदद करनी है। दोस्त शायद इंतजार कर रहे हों पूछने का, जबकि माता-पिता दोस्तों के मदद के प्रस्ताव का इंतजार कर रहे हों। दोस्तों को स्पष्ट रूप से यह बताएं कि क्या चाहिए।
  • दोस्तों को अलग-अलग तरीकों से मदद का मौका दें।
    • लोगों में ताकत और कमजोरियां अलग-अलग होती हैं। अगर दोस्त सामने नहीं आएं, तो ऐसा हो सकता है कि वे कुछ और करने में ज़्यादा सहज महसूस कर रहे हों।
  • एक दोस्त होना याद रखें।
    • माता-पिता अपने दोस्तों पर भरोसा कर सकते हैं, जब उनके बच्चे कैंसर का सामना कर रहे होते हैं। लेकिन इस बात में रुचि लेना महत्वपूर्ण है कि दोस्तों के जीवन में क्या गुज़र रहा है। यद्यपि अन्य चिंताएं कैंसर की तुलना में कम लग सकती हैं, आपसी ध्यान और सहयोग दोस्ती को निरंतर समय के साथ टिकाए रहता है।
  • दुआएं दें।
    • दोस्त निराश करने वाले हैं। वे गलत चीज़ें कहने वाले हैं और करने वाले हैं। दोस्त एक दूसरे को गलतियां करने का और उनसे सीखने का मौका देते हैं।

बातचीत की शुरुआत करने वाले कथन

  • “काफी समय से आपके बारे में कुछ पता नहीं चला। यह इसलिए क्योंकि आपको लग सकता है कि बहुत कठिन है यह जानना कि क्या कहें? संभवत: मैं आपकी स्थिति में कैसा महसूस करता। ”
  • “आप हाल-फिलहाल में नहीं मिले हैं। क्या यह इसलिए क्योंकि आप काम में बहुत व्यस्त थे? मुझे पता है कि आपके पास भी बहुत सारा काम है।”
  • मुझे लगा कि उस दिन जब हमने बात की तब चीज़ें कुछ तनावपूर्ण थीं। मुझे पता है आप मेरी भावनाओं को ठेस नहीं पहुँचाना चाहते थे और मैं तनाव में था। क्या हम सारी चीजों को दोबारा ठीक कर सकते हैं?
  • “मुझे पता है कि आप अस्पताल नहीं आ सकोगे। मैं समझता हूं। लेकिन क्या आपको लगता है कि आप हमारी चिट्ठियां ले पाएंगे और घर पर अगले कुछ दिनों तक हमारे लिए निगरानी रख पाएंगे?

दिल दुखाने वाली टिप्पणियों को संभालना

मदद करने के इच्छुक होने के बावजूद, दोस्त अक्सर इस बात से अनिश्चित होते हैं कि क्या कहना है या क्या करना है। कभी-कभी, दोस्त भी बातचीत करने से बच सकते हैं क्योंकि कैंसर उन्हें असहज बना देता है। अन्य समय में, मित्र ऐसी टिप्पणी करते हैं जो माता-पिता को चोट जैसी या असंगत लगती है।

खुला, ईमानदार संवाद सभी तरह के रिश्तों के लिए महत्वपूर्ण है। दोस्ती कोई अपवाद नहीं है। कुछ तरीके हैं जिसके ज़रिए माता-पिता अपने दोस्तों द्वारा कही गई तकलीफ पहुंचाने वाली बातों से उबर सकते हैं:

  • जवाब देने से पहले कुछ समय लें। जब एक दोस्त दिल दुखाने वाली बात कहता है, तो मुद्दे को सीधे तौर पर सुलझाना मददगार हो सकता है। लेकिन बाकी समय पर, इसे छोड़ देना बेहतर होता है। तुरंत जवाब देने से पहले इंतजार करना एक बेहतर दृष्टिकोण प्रदान करता है और वह कहने से बचाता है, जो दोस्ती पर अधिक दबाव डाल सकता है।
  • समझें कि कहने का वास्तव में क्या मतलब था। दोस्तों की बातों का मतलब अक्सर अच्छा ही होता है। अधिकतर लोग ऐसे किसी के करीब नहीं रहते हैं, जिनके बच्चों को कैंसर हुआ हो। जिस तरह परिवारों को कैंसर की भाषा सीखनी पड़ती है, उसी तरह दोस्तों को सहयोग की नयी भाषा सीखनी पड़ती है। यह कभी-कभी दोस्तों को उन विशिष्ट चीजों को समझाने में मदद कर सकता है जो संवेदनशील विषय हैं।
  • अच्छे इरादों को समझें। यह ज़रूरी है कि आप अपने दोस्तों के साथ इस बारे में स्पष्ट रहें कि क्या उपयोगी है और क्या नहीं। लेकिन अपनी प्रतिक्रिया देने से पहले, दोस्तों को बताएं कि उनकी चिंताएं और मदद करने की इच्छा सराहनीय है।
  • समझाएं कि सिर्फ़ सुनना भी, मदद के सबसे अच्छे तरीकों में से एक है। लेकिन जब दोस्त चोट पहुंचा रहा हो, लोग चीज़ों को ठीक करना चाहते हैं। जब दोस्त नहीं जानते हों कि क्या करना है या क्या कहना है, तो वे अविवेकी टिप्पणियां कर सकते हैं। दोस्तों को यह बताने की ज़रूरत है कि माता-पिता को कोई ऐसा चाहिए, जो उनकी बात सुनें। दोस्तों को याद दिलाएं कि समस्या को हल करना उनकी ज़िम्मेदारी नहीं है; सिर्फ़ वहां टिके रहना महत्वपूर्ण है।

दोस्ती में सकारात्मकता देखना

जब माता-पिता किसी बीमार बच्चे का ध्यान रख रहे हों, तब छोटी-मोटी निराशाएँ भी तकलीफ पहुंचा सकती हैं। अलग-अलग दोस्ती अलग-अलग किरदार निभाती है, इस बात को स्वीकार करने से अवास्तविक उम्मीदों से बचने में मदद मिल सकती है। पुरानी दोस्ती अक्सर कैंसर से बाहर जीवन में आराम, सुपरिचय और संबंध प्रदान करती है। लेकिन कैंसर की अवधि के दौरान जो नयी दोस्ती बनती है, वे भी सहयोग देने में महत्वपूर्ण होती हैं जो सिर्फ़ व्यक्तिगत अनुभव से आती हैं। दोस्ती और रिश्तों पर ध्यान केंद्रित करना सबसे ज़रूरी होता है, जिसमें दोस्त और परिवार के सदस्य शामिल हैं। हालाँकि कुछ दोस्ती वैसी नहीं रह जाती जैसी वे पहले थीं, माता-पिता बचपन में होने वाला कैंसर की अवधि में नए दोस्त ढूंढ सकते हैं – इलाज के दौरान, सहायता समूह में और पूरी तरह से अनपेक्षित जगहों पर।


समीक्षा की गई: जून 2018