आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

आत्मग्लानि से निपटना

आत्मग्लानि, कैंसर वाले बच्चों के माता-पिता में एक आम भावना होती है। माता-पिता का अपने बच्चों को सुरक्षित रखना स्वाभाविक है। जब बच्चे कष्ट झेलते हैं, तो शायद माता-पिता स्वयं को दोष देते हैं और जब वे उनके कष्ट को दूर नहीं कर पाते हैं, तो वे अक्षम महसूस करते हैं।

आत्मग्लानि का स्रोत

कैंसर की बीमारी के दौरान आत्मग्लानि विभिन्न प्रकार के स्रोतों से आ सकती है। कुछ माता-पिता ज़्यादा समय तक आत्मग्लानि की भावनाओं से जूझते रहते हैं। कुछ माता-पिता को तनाव के समय या जब समय या निर्णय की मांग सबसे ज़्यादा होती है, तब आत्मग्लानि हो सकती है। कैंसर के दौरान माता-पिता को आत्मग्लानि के लिए कुछ सामान्य कारण शामिल हैं:

  • कैंसर को दूर करने के लिए अक्षम होना
  • यह महसूस करना कि लक्षणों पर ध्यान देने से चूक गए थे या वे नहीं जानते थे कि बच्चा जल्दी बीमार हो जाएगा।
  • देखभाल और इलाज के लिए "सही" विकल्प चुनना
  • इलाज के तत्काल या लंबे समय तक चलने वाले दुष्प्रभावों को रोकने में अक्षम होना
  • इस बात की चिंता होना कि कैंसर आनुवंशिक है और वंशाणु के कारण कैंसर होता है
  • डर है कि कुछ रोके जाने के कारण बच्चा बीमार हो गया या बच्चे की हालत खराब हो जाएगी
  • पालन-पोषण की गलतियां करने की चिंता करना
  • भाईयों-बहनों के साथ कम समय बिताना और इस बात की चिंता करना कि भाईयों-बहनों की उपेक्षा हो रही है
  • बीमार बच्चे से दूर रहकर काम, घर और परिवार की ज़िम्मेदारियों का ध्यान रखने में समय बिताए या स्वयं के लिए समय निकालें

आत्मग्लानि अक्सर तर्कसंगत या तार्किक नहीं होती है। कई नेक लोग कहेंगे, "आपको आत्मग्लानि महसूस नहीं करनी चाहिए।" हालांकि, भावनाएं वास्तविक हैं और आत्मग्लानि से निपटना विशेष रूप से कैंसर वाले बच्चों के माता-पिता के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

आत्मग्लानि का सामना करना

आत्मग्लानि की भावनाओं को अनदेखा करने की बजाय उन्हें सुलझाना महत्वपूर्ण है। माता-पिता के लिए सामयिक आत्मग्लानि होना सामान्य है। हालांकि, आत्मग्लानि की भावनाओं के कई नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं। आत्मग्लानि की भावनाएं माता-पिता की चिंता और अवसाद में योगदान कर सकती हैं और तनाव के दौरान सामना करना मुश्किल हो जाता है। विशेष रूप से इलाज और देखभाल की ज़रूरतों से संबंधित फैसला लेने में आत्मग्लानि हस्तक्षेप कर सकती है। माता-पिता ज़्यादा ही सुरक्षित बन सकते हैं, जो कि बच्चे के शारीरिक, सामाजिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। आत्मग्लानि और दोष की भावनाएं भी विवाह और पारिवारिक संबंधों में एक रोड़ा बन सकती हैं। हालांकि, आत्मग्लानि की भावनाओं को ज़्यादा प्रभावी ढंग से निपटने के तरीके होते हैं।

आत्मग्लानि से निपटने के लिए उठाए गए कदम

  • आत्मग्लानि को पहचानें
  • सुनने के लिए किसी विश्वसनीय व्यक्ति की तलाश करें
  • पहचानें कि आप क्या नियंत्रित कर सकते हैं और अज्ञात को स्वीकार करें।
  • स्वयं से कम उम्मीद रखें
  • मुक्त करना सीखें
  • सकारात्मक चीजों पर ध्यान दें
 

आत्मग्लानि को पहचानें।

आत्मग्लानि से निपटने में पहला कदम आत्मग्लानि और स्वयं को दोष देने के आसपास की विशिष्ट भावनाओं को स्वीकार करना होता है। इसमें आत्मग्लानि महसूस करने के लिए अपने विशेष कारणों और जब अपराध बोध बदतर हो जाता है, तब उसकी पहचान करना। सामना करने हेतु योजना विकसित करने के लिए भावना और कारण दोनों को समझना महत्वपूर्ण होता है।

सुनने के लिए किसी विश्वसनीय व्यक्ति की तलाश करें।

बहुत से माता-पिता को सिर्फ़ किसी ऐसे व्यक्ति की ज़रूरत होती है, जो उन्हें सुनें। भावनाओं को ज़ोर से स्वीकार करने से राहत मिल सकती है, विशेषकर अगर आप नकारात्मक विचारों और भावनाओं को स्वयं के पास तक ही सीमित रखते हैं। एक करीबी दोस्त, परिवार का सदस्य, थेरपिस्ट, धार्मिक नेता या उसी स्थिति में अन्य माता-पिता आत्मग्लानि, स्वयं का दोष या सही काम करने के बारे में चिंता करने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान करने के लिए व्यक्त कर सकते हैं।

पहचानें कि आप क्या नियंत्रित कर सकते हैं और अज्ञात को स्वीकार करें।

आत्मग्लानि अक्सर चिकित्सा देखभाल और स्वास्थ्य जरूरतों के बारे में असहाय या अनिश्चितता महसूस करने से जुड़ी होती है। उन भावनाओं को पूरी तरह से दूर कर पाना संभव नहीं हो सकता है। हालांकि, देखभाल टीम एक महत्वपूर्ण स्रोत हो सकती है। इलाज, दुष्प्रभाव, आनुवंशिक विज्ञान / आनुवंशिकी या अन्य चिकित्सा मुद्दों से संबंधित प्रश्नों और चिंताओं के बारे में देखभाल टीम के साथ बात करें। सवालों और जवाबों को लिखें। योजना और अगले चरणों की एक नोटबुक रखें। यह आश्वस्त कर सकता है कि आप और देखभाल टीम एक कठिन परिस्थिति में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं।

अपने आपसे उम्मीदें कम करें।

कई माता-पिता के लिए, आत्मग्लानि बहुत अधिक मांगों और सब कुछ पूरा करने में अक्षमता से संबंधित होता है। जीवन सामान्य होने पर माता-पिता सभी ओर से अपने आप को खींचा हुआ महसूस करते हैं। कैंसर के दौरान यह असहनीय हो सकता है। हर समय सब कुछ संतुलित करना संभव नहीं होता है। अल्पावधि के लिए अपनी सर्वोच्च प्राथमिकताओं पर ध्यान दें और पहचानें कि आपको निकट भविष्य में (आज, इस सप्ताह) देखभाल करने की क्या आवश्यकता है। फिर, छोटे, अधिक प्रबंधनीय लक्ष्य निर्धारित करें जो आपकी वर्तमान स्थिति के लिए वास्तविक हों। उम्मीदों को कम करना विफलता नहीं है; यह एक कठिन स्थिति से निपटने के लिए एक सकारात्मक प्रतिक्रिया है।

मुक्त करना सीखें.

आत्मग्लानि से जूझ रहे किसी व्यक्ति के लिए खुद को मुक्त करना आसान नहीं होता है। अतीत को छोड़ना आसान नहीं होता है। फैसलों पर नियंत्रण रखना आसान नहीं होता है। बच्चों को मुक्त करना आसान नहीं होता है क्योंकि वे बड़े हो जाते हैं और अपनी पसंद खुद करते हैं। लेकिन मुक्त कर देना – कम से कम कुछ हद तक – पिछली आत्मग्लानि को हटाने के लिए महत्वपूर्ण होता है। मुक्त कर देना का मतलब अलग-अलग होता है। इसका मतलब अपने आप को आत्मग्लानि के बारे में सोचने का समय देना हो सकता है, लेकिन उस दिन के लिए विचारों की सीमा निर्धारित करें। इसका अर्थ निर्णय लेने में सक्रिय होना होता है, लेकिन आपके चिकित्सक की सिफारिशों पर भरोसा करना होता है। इसका मतलब यह हो सकता है कि पति या पत्नी को पालन-पोषण या इलाज के विकल्पों में भाग लेने की अनुमति दें। इसका मतलब गलतियों के लिए स्वयं को या दूसरों को क्षमा करना हो सकता है। मुक्त कर देना सीखना आपको ज़िम्मेदारियों को साझा करने की अनुमति देता है और जो सबसे महत्वपूर्ण है उसमें अधिक व्यस्त होना चाहिए।

सकारात्मक बातों पर ध्यान दें। 

जब आप आत्मग्लानि महसूस करते हैं, तो ऐसे में सकारात्मक होना कठिन हो सकता है। आत्म-दोष ऐसा प्रतीत कराता है कि आप सब कुछ गलत कर रहे हैं। हालांकि, जानबूझकर सकारात्मकता पर ध्यान केंद्रित करने के कई फायदे होते हैं। यह मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करता है, उम्मीद का वातावरण बनाता है, आत्मविश्वास बढ़ाता है और मरीज और परिवार की जीवनशैली को बेहतर बनाता है। यह स्वीकार करते हुए कि आप जो कर रहे हैं वह सही है, आपको आत्मग्लानि से बचाने में मदद कर सकता है। सकारात्मक बातों पर ध्यान केंद्रित करने के कुछ तरीकों में ये शामिल हैं:

  • हर दिन के अंत में उन तरीकों को लिखें, जिनके माध्यम से आप अपने बच्चे और परिवार की मदद करने में सक्षम थे। 
  • दिन भर की अच्छी बातों का आभार पत्रिका रखें।
  • अपने जीवनसाथी या बच्चों की प्रशंसा और सराहना करने के छोटे-छोटे तरीके खोजें। 
  • सुबह में आज किए जाने वाले कामों की सूची (टू-डू लिस्ट) लिखें, इसमें ऐसी चीज़ें शामिल हैं जिसे आप नियमित रूप से करते हैं, लेकिन ऐसी चीज़ें भी जैसे कि अपने बच्चे को हँसाने, अपने बच्चे को आलिंगन करने का समय देना, एक साथ शो को देखना, भाई या बहनों पर विशेष ध्यान दें, "आपके बारे में सोच रहा हूं" का टेक्स्ट दोस्त या प्यार करने वाले के पास भेजें।
  • सकारात्मक होने के लिए प्रेरक उद्धरण, चित्र और गीतों का उपयोग अनुस्मारक के रूप में करें।

आत्मग्लानि से निपटने के लिए ये कदम हमेशा आसान नहीं होते हैं। शुरुआत में आप एक या दो पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। कई माता-पिता के लिए आत्मग्लानि का एक स्रोत स्वयं के लिए समय निकालना होता है। हालाँकि, प्रार्थना करने, ध्यान करने, व्यायाम करने, अकेले रहने या दोस्तों के साथ समय बिताने के लिए समय निकालना ऊर्जा का स्रोत होता है। कुछ माता-पिता यह भी पाते हैं कि विचारों और भावनाओं को लिखना और व्यक्तिगत रूप से भावनाओं को ज़ाहिर और अभिव्यक्त करने में मदद कर सकता है। सहायता समूह आत्मग्लानि से निपटने वाले माता-पिता के लिए एक और महत्वपूर्ण स्रोत हो सकते हैं। हालांकि, यदि आत्मग्लानि का संघर्ष जारी रहता है, तो मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर की मदद लेने से माता-पिता को मुश्किल भावनाओं और आत्मग्लानि की भावनाओं को समझने में मदद मिल सकती है।


समीक्षा की गई: जून 2018