आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

हड्डी पर देरी से होने वाले प्रभाव

बचपन में होने वाले कैंसर में बचने वाले ज़्यादातर लोगों को अपने इलाज की वजह से हड्डी संबंधी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। लेकिन बचपन के कैंसर के कुछ इलाज हड्डियों को कमज़ोर बना सकते हैं।  

हड्डियों का कमज़ोर होना फ़िक्र की बात है क्योंकि आम तौर पर बचपन और किशोरावस्था के दौरान ही हड्डियां बढ़ती हैं और भारी होती हैं।

ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) एक ऐसा रोग है जिसमें हड्डियों का घनत्व कम हो जाता है और हड्डी कमज़ोर हो जाती है।

ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) एक ऐसा रोग है जिसमें हड्डियों का घनत्व कम हो जाता है और हड्डी कमज़ोर हो जाती है।

हड्डी के कमज़ोर होने से बड़ी उम्र में जो परेशानी उभरती है, उसे ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) कहा जाता है। ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) एक ऐसा रोग है जिसमें हड्डियों का घनत्व कम हो जाता है और हड्डी कमज़ोर हो जाती है। हड्डियां कमज़ोर हो जाती हैं और जल्दी टूट जाती हैं।

कैंसर के इलाज जो हड्डी संबंधी समस्याओं की वजह बन सकते हैं

  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड (जैसे कि प्रेडनिसोन और डेक्सामिथेसोन)
  • मेथोट्रिक्सेट
  • शरीर का वज़न उठाने वाली हड्डियों (पैरों, कूल्हों, रीढ़ की हड्डी) पर ज़्यादा रेडिएशन देना

दूसरे इलाज जो हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं

  • कुछ दौरा रोकने की दवा (एंटीकंवल्संट) दवाएं (फ़िनाइटोइन और बार्बिटुरेट)
  • एल्यूमीनियम वाला एंटासिड (जैसे Maalox® या Amphogel®)
  • जवानी की जल्दी शुरुआत होने और एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए दी जाने वाली दवाएं, जैसे Lupron Depot®
  • हेपरिन की ज़्यादा खुराक (इसे खून के थक्कों को रोकने के लिए इस्तेमाल किया जाता है), खास तौर पर जब दवा लंबे समय तक ली जाए।
  • कोलेस्टायरामाइन (ब्लड कोलेस्ट्रॉल के लिए इस्तेमाल किया जाता है)

जोखिम की दूसरी वजहें

जोखिम की ऐसी वजहें जिन पर काबू नहीं पाया जा सकता है

  • कोकेशियन और एशियाई जाति की महिलाएं
  • बढ़ती उम्र। उम्र के साथ जोखिम बढ़ता जाता है।
  • छोटे कद वाला और दुबला शरीर
  • परिवार में ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) का इतिहास। यह एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आता है।

जोखिम की ऐसी वजहें जिन पर काबू पाया जा सकता है

  • सेक्स हार्मोन का स्तर कम होना। महिलाओं और पुरुषों के वयस्क हो जाने के बाद भी महिलाओं में एस्ट्रोजेन और पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन, हड्डियों को मज़बूत रखने में अपनी भूमिका निभाते हैं।
  • धूम्रपान
  • ऐसी डाइट लेना जिसमें कैल्शियम कम हो
  • विटामिन-डी की कमी। यह ज़रूरी है कि हड्डी कैल्शियम और फ़ास्फोरस जैसे खनिजों को सोखें। 
  • वेट ट्रेनिंग (वज़न उठाने वाले व्यायाम) न करना
  • बहुत ज़्यादा कैफ़ीन, शराब या सोडा लेना
  • खाने के साथ ज़रूरत से ज्यादा नमक लेना

हड्डी से जुड़ी ऐसी समस्याएं जो उभर सकती हैं

हड्डियां कमजोर हो जाती हैं क्योंकि शरीर हड्डी के नए टिशू (ऊतक) बहुत कम मात्रा में बनाता है या हड्डियां बहुत ज़्यादा भुरभुरी हो जाती हैं और उन्हें नुकसान पहुंचता है। हड्डियां पतली हो सकती हैं और बड़ी आसानी से टूट सकती हैं। ऑस्टियोपोरोसिस किसी भी हड्डी में हो सकता है। आम तौर पर यह कलाई, कूल्हों, रीढ़ की हड्डी और पैरों की हड्डियों पर सबसे ज़्यादा असर डालता है।

उम्र के 20वें दशक में ज्यादातर लोगों में हड्डियों का घनत्व सबसे ज़्यादा होता है। उसके बाद, लोगों की हड्डियां कमज़ोर पड़ने लगती हैं। बचपन में होने वाले कैंसर के कुछ रोगियों में कुछ इलाजों की वजह से समय से पहले ही हड्डियां कमज़ोर होने लगती हैं।

संकेत और लक्षण

ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) को “मूक” रोग भी कहा जाता है। कई सालों तक इस रोग के कोई साफ़ संकेत या लक्षण नज़र नहीं आते हैं। हालांकि, ये संकेत और लक्षण शामिल हो सकते हैं:

  • समय बीतने के साथ लंबाई कम होना
  • शरीर आगे की ओर झुकना
  • हल्की चोट से भी हड्डी टूट जाना

कैंसर से बचने वाले लोग इससे बचने के लिए क्या कर सकते हैं

जांच

कैंसर के इलाज और पहले से मौजूद दूसरी बीमारियों की वजह से बाल्यावास्था में होने वाले कैंसर से बचने वाले लोगों की हड्डी कमज़ोर होने का ख़तरा होता है। इसीलिए उन्हें कम से कम एक बार बोन मिनरल डेंसिटी (हड्डी के तत्वों का घनत्व) जांच करवाने का सुझाव दिया जाता है। इस जांच को कैंसर से संबंधित लंबे-समय तक रहने वाली स्वास्थ्य समस्या और उसके इलाज के मूल्यांकन के तौर पर देखा जाता है। आम तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली बोन मिनरल डेंसिटी (हड्डी के तत्वों का घनत्व) जांच असल में एक दोहरी एक्स-रे अब्ज़ॉर्प्शियोमेट्री है, जिसे DXA (या DEXA) भी कहा जाता है। इस जांच में हड्डी की मोटाई और रोगी के हड्डी टूटने के जोखिम को मापने के लिए खास एक्स-रे तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है।  जांच के नतीजों को देखने के बाद, चिकित्सक हड्डियों की ताकत में सुधार लाने के तरीकों के बारे में सलाह दे सकते हैं। साथ ही, यह सुझाव दे सकते हैं कि अगली जांच कब करवानी है। 

रोकथाम

कुछ काम लोगों को ओस्टियोपोरोसिस (हड्डियाँ पतली होना) के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

  • नियमित रूप से वज़न उठाने वाले व्यायाम और प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने वाले व्यायाम करें। इस तरह की गतिविधियां हड्डियों पर दबाव डालती हैं जिससे हड्डियों का घनत्व बढ़ता है। उदाहरण में शामिल हैं:
    • हल्का-फुल्का वज़न उठाना
    • टहलना
    • हाइकिंग (लंबी दूर तक पैदल चलना)
    • जॉगिंग
    • सीढ़ियां चढ़ना
    • टेनिस खेलना
    • डांस करना
    • रस्सी कूदना
  • धूम्रपान न करें।
  • बहुत ज़्यादा शराब न पिएं।
  • कैल्शियम से भरपूर आहार लें।
  • पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी लें।


टूगेदर
इस आलेख में उल्लेखित किसी भी ब्रांडेड उत्पाद का समर्थन नहीं करता है।


समीक्षा की गई: जून 2018