आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

नींद संबंधी अश्वसन

नींद संबंधी अश्वसन क्या है?

नींद संबंधी अश्वसन एक साँस लेने की बीमारी है, जिसके कारण नींद में व्यक्ति का साँस लेते लेते कुछ समय के लिए रुक जाती है। साँस बार-बार रुकने और शुरू होने के साथ अनियमित होती है। नींद संबंधी अश्वसन के अवरोधक नींद संबंधी अश्वसन और केंद्रीय नींद संबंधी अश्वसन मुख्य प्रकार हैं।

  • अवरोधक नींद संबंधी अश्वसन (ओएसए) तब होता है, जब गले या ऊपरी वायुमार्ग नींद के दौरान संकीर्ण या बंद हो जाता है। यह नींद संबंधी अश्वसन का सबसे आम प्रकार है।
  • केंद्रीय नींद अश्वसन तब होता है, जब वे मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करती हैं, जिन्हें मस्तिष्क श्वसन को नियंत्रित करने का संकेत देता है।

बचपन में होने वाले कैंसर के रोगियों में, ब्रेन ट्यूमर वाले बच्चों में नींद संबंधी अश्वसन का सबसे अधिक खतरा होता है। नींद संबंधी अश्वसन के कारण पर्याप्त नींद लेना या अच्छी नींद लेना मुश्किल हो सकता है।

अच्छी नींद न मिलने से सोच, भावनाओं और व्यवहार में समस्याएं पैदा हो सकती हैं। बच्चों को सोचने, ध्यान देने या याददाश्त में परेशानी हो सकती है और स्कूल में उनका प्रदर्शन खराब हो सकता है। इसके अलावा, नींद संबंधी अश्वसन के कारण शारीरिक समस्याएं जैसे हृदय की समस्याएं, उच्च रक्तचाप और विकास ठीक से न होने की समस्याएं हो सकती हैं।

नींद संबंधी अश्वसन के लक्षण

नींद संबंधी अश्वसन के रात के लक्षणों में शामिल हैं:

  • खर्राटे लेना, विशेषकर अगर यह जोर से हो
  • श्वसन क्रिया थोड़े समय के लिए रुकती है और फिर शुरू हो जाती है
  • हवा के लिए हांफना, दम घुटना या खांसना
  • साँस लेने में मेहनत करना
  • मुँह से साँस लेना
  • नींद के दौरान बेचैनी
  • असामान्य अवस्था में सोना
  • पसीना आना
  • बिस्तर पर पेशाब करना
  • रात में चलना या बुरे सपने देखना

नींद संबंधी अश्वसन के दिन के समय के लक्षण:

  • सुबह सिरदर्द होना
  • मुँह से साँस लेना
  • थकान या दिन की उनींदापन (हो सकता है, छोटे बच्चों में उनींदापन के लक्षण प्रदर्शित न हों।)
  • मनोदशा में बदलाव, चिड़चिड़ापन
  • सोचने, ध्यान देने या याददाश्त की समस्याएं
  • स्कूल या काम करने में समस्या
  • अति सक्रियता

नींद संबंधी अश्वसन के कारण

नींद संबंधी अश्वसन, नींद के दौरान ऊपरी-वायुमार्ग या गले के सिकुड़ने होने के कारण होता है। नींद के दौरान वायुमार्ग का बंद होना अधिक आम बात है क्योंकि गले और जीभ की मांसपेशियों को आराम मिलता है। बच्चों में बढ़े हुए टॉन्सिल या कंठशूल होना, नींद संबंधी अश्वसन का एक मुख्य कारण है। वजन बढ़ने और मोटापे के कारण भी नींद संबंधी अश्वसन हो सकता है।

अन्य प्रकार के कैंसर वाले बच्चों की तुलना में मस्तिष्क के कैंसर वाले बच्चों में नींद संबंधी अश्वसन का खतरा अधिक होता है।

नींद संबंधी अश्वसन का उच्च जोखिम डाउन सिंड्रोम, सिकल सेल रोग, सेरेब्रल पाल्सी और न्यूरोमस्कुलर रोगों सहित कुछ चिकित्सा स्थितियों से जुड़ा हुआ है।

नींद संबंधी अश्वसन रोग की पहचान

नींद संबंधी अश्वसन के आकलन में शामिल हो सकते हैं:

  • चिकित्सकीय इतिहास और शारीरिक जांच
  • लक्षणों को जानने के लिए मरीज और परिवार से बातचीत या उनसे सवाल पूछना
  • नींद के दौरान साँस, हृदय गति और गतिविधि को मापने के लिए नींद अध्ययन या पॉलीसोम्नोग्राफी

पॉलीसोम्नोग्राफी, नींद के दौरान नींद के व्यवहार और शरीर के कार्यों को मापने के लिए रात भर की नींद का अध्ययन है। नींद के दौरान विशेष उपकरण मस्तिष्क, मांसपेशियों, हृदय गति, ऑक्सीजन के स्तर और श्वसन को मॉनिटर करते हैं। पॉलीसोमनोग्राफ़ी अक्सर नींद चिकित्सा केंद्र या अस्पताल में की जाती है। कभी-कभी घर पर पोर्टेबल स्लीप मॉनिटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। नींद के अध्ययन की जानकारी का उपयोग नींद की गुणवत्ता का आकलन करने और नींद की समस्याओं का पता लगाने के लिए किया जाता है।

नींद संबंधी अश्वसन का इलाज

नींद संबंधी अश्वसन का इलाज, कारण, स्थिति की गंभीरता और बच्चे की उम्र पर निर्भर करता है। कुछ बच्चों में बढ़े हुए टॉन्सिल या कंठशूल को निकालने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है। यह गले को अधिक खुला रखने में मदद करता है, ताकि हवा अधिक आसानी से गुज़र सके।

नींद संबंधी अश्वसन के लिए सतत सकारात्मक वायुमार्ग दबाव

सतत सकारात्मक वायुमार्ग दबाव या सीपीएपी, अवरोधक नींद संबंधी अश्वसन के लिए एक सामान्य इलाज है। मशीन से जुड़े मास्क या नोज़पीस के माध्यम से, सीपीएपी सतत वायु प्रवाह (ऑक्सीजन नहीं) वितरित करती है। नींद के दौरान, हवा का दबाव वायुमार्ग को खुला रखने में मदद करता है।

नींद के दौरान आवश्यकतानुसार वायु दबाव को स्वचालित रूप से समायोजित करने के लिए डिवाइसेस उपलब्ध हैं। इन्हें सेल्फ-एडजस्टिंग सीपीएपी, ऑटो सीपीएपी या एपीएपी कहा जाता है।

नींद संबंधी अश्वसन की समस्या से निपटने के अतिरिक्त तरीकों में शामिल हैं:

  • नींद की स्थिति को समायोजित करना
  • बेहोशी की दवाओं या शराब से परहेज करें
  • वजन घटना
  • जीभ या जबड़े की स्थिति के लिए दंत उपकरण या मूंह से जुड़े उपकरण का इस्तेमाल करना
  • नींद के दौरान पूरक ऑक्सीजन (केंद्रीय नींद अश्वसन के लिए अक्सर इस्तेमाल किया जाता है)
  • साँस लेने (केंद्रीय नींद अश्वसन) को संतुलित रखने या नासिका मार्ग की सूजन (अवरोधक नींद अश्वसन) को कम करने के लिए दवाइयां
  • सर्जिकल रूप से प्रत्यारोपित डिवाइस के माध्यम से तंत्रिका उत्तेजना (वर्तमान में बच्चों में उपयोग नहीं किया जाता है)

नींद संबंधी अश्वसन की समस्या से निपटना: मरीजों और परिवारों के लिए सुझाव

जीवनशैली में बदलाव से नींद संबंधी अश्वसन को कम करने और बेहतर नींद लेने में मदद मिल सकती है:

  • नियमित व्यायाम करें।
  • एलर्जी और अस्थमा की समस्या से निपटें।
  • धूम्रपान न करें.
  • विशेष रूप से बिस्तर पर जाने से पहले शराब न पिएं।
  • वजन पर ध्यान दें।
  • सीधे सोने की बजाय एक तरफ करवट लेकर सोएं, या सिर और ऊपरी शरीर को ऊंचा करने के लिए तकिए का इस्तेमाल करें।

नींद संबंधी अश्वसन के बारे में अधिक जानकारी के लिए संसाधन


समीक्षा की गई: जून 2019