आपका स्वागत है

Together, बच्चों को होने वाले कैंसर से पीड़ित किसी भी व्यक्ति - रोगियों और उनके माता-पिता, परिवार के सदस्यों और मित्रों के लिए एक नया सहारा है.

और अधिक जानें

कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग

सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब है कि बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए लोगों के बीच 6 फीट की जगह रखना। यह चित्र 6 फुट की दूरी को दर्शाने वाली बिंदीदार रेखा के साथ एक फुटपाथ पर दो लोगों को दर्शाता है।

6 फीट की शारीरिक दूरी रखने से कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने में मदद मिल सकती है।

सोशल डिस्टेंसिंग क्या है?

सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब है कि बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए लोगों के बीच दूरी या जगह रखना। प्रसार को धीमा करने और कोविड-19 के अपने जोखिम को कम करने में मदद करने के लिए, दूसरों से कम से कम 6 फीट दूर रहें। शारीरिक दूरी रखना महत्वपूर्ण है, भले ही आप बीमार न हों तब भी।

  • जितना हो सके घर पर रहें।
  • सार्वजनिक स्थानों जैसे स्टोर, जिम, मूवी थिएटर और रेस्तरां से जितना संभव हो सके बचें।
  • स्कूल, चर्च या कार्यालय में बड़े समूहों में न मिलें।
  • सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करना सीमित करें। अपने और साथी यात्रियों के बीच एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें।
  • किसी ऐसे व्यक्ति के साथ संपर्क सीमित करें जो आपके घर पर नहीं रहता है, जिसमें दोस्त और अन्य परिवार शामिल हैं।
  • विशेष रूप से सार्वजनिक स्थानों पर होने के बाद, अपने हाथ अक्सर धोएं। साबुन और पानी का उपयोग करें और कम से कम 20 सेकंड के लिए हाथ रगड़ें। यदि आपके पास साबुन और पानी नहीं है, तो किसी एल्कोहल-आधारित हैंड सेनिटाइज़र का उपयोग करें। अपने हाथों की सभी सतहों को कवर करें और उन्हें एक साथ तब तक रगड़ें जब तक कि वे सूख न जाएं।

सोशल डिस्टेंसिंग विशेष रूप से कैंसर रोगियों और कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले अन्य लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। कैंसर से पीड़ित बच्चों में कोविड-19 के बारे में और अधिक पढ़ें।

शारीरिक दूरी बनाए रखें लेकिन सामाजिक रूप से जुड़े रहें

आपने “शारीरिक दूरी” शब्द सुना होगा। यह शारीरिक दूरी बनाए रखने के महत्व पर बल देता है। तनावपूर्ण समय के दौरान, दोस्तों और परिवार के साथ सामाजिक और भावनात्मक रूप से जुड़े रहना और भी महत्वपूर्ण है। अभी के लिए, हमें एक दूसरे की सहायता करने की आवश्यकता है लेकिन यथासंभव शारीरीक दूरी बनाए रखते हुए।

 

सोशल डिस्टेंसिंग क्यों महत्वपूर्ण है?

कोरोनोवायरस खांसी और छींक से छोटी बूंदों के स्प्रे के माध्यम से आसानी से फैलता है। यह रोजमर्रा के संपर्क के माध्यम से भी फैल सकता है, जैसे कि हाथ मिलाना और वस्तुओं को साझा करना। कुछ लोगों में लक्षण नहीं हो सकते हैं लेकिन फिर भी वे यह वायरस दूसरों में फैला सकते हैं। यहां तक कि जब लोग बेहतर महसूस करते हैं, तब भी वे कुछ समय के लिए वायरस फैलाने में समर्थ हो सकते हैं।

मैं बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में कैसे समझाऊं?

बताएं कि बीमार होने या किसी और पर रोगाणु के प्रसार को रोकने का सबसे अच्छा तरीका, अन्य लोगों से सुरक्षित दूरी बनाए रखना है। रोगाणु बहुत छोटे होते हैं इसलिए हम उन्हें देख नहीं सकते हैं। एक खांसी या छींक हवा के माध्यम से 6 फीट तक रोगाणुओं को फैला सकती है। वे दरवाजे के हैंडल या फ़ोन जैसी सतहो पर भी हो सकते हैं। इसलिए हमें अतिरिक्त सुरक्षित होने की आवश्यकता है: घर पर रहें और दूसरों से दूर रहें, अक्सर हाथ धोएं और अपनी खांसी और छींक को कवर करें।

हालांकि सुरक्षित रहना हर समय एक अच्छा अभ्यास है, हम आशा करते हैं कि चीजें जल्द ही और सामान्य हो जाएंगी। चिकित्सक और वैज्ञानिक इस बारे में अधिक जानने के लिए काम कर रहे हैं कि यह नया वायरस कैसे फैलता है और इसका इलाज करने में मदद करने वाली दवाइयों को विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं।

अपने बच्चे से कोरोनावायरस और कोविड-19 के बारे में बात करने हेतु अधिक युक्तियां प्राप्त करें।

बच्चों के लिए विज्ञान: सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में बात करने के लिए विचार

स्प्रे का प्रतीक

सांस से निकलने वाली बूंदों और खांसी या छींक के माध्यम से रोगाणु किस प्रकार फैलते हैं, इसके बारे में बात करने के लिए एक महीन फुहार करने वाली स्प्रे बॉटल का उपयोग करें।

 
टेप माप प्रतीक

दूरी का अनुमान लगाएं। यह देखने के लिए एक प्रतियोगिता आयोजित करें कि कौन 6 फीट सबसे अच्छी तरह चिह्नित कर सकता है। रोजमर्रा की जिंदगी में इसका क्या मतलब है, इसके बारे में बात करें।

 
व्यक्ति का प्रतीक

व्यक्तिगत स्थान के महत्व पर चर्चा करें। आप इन संभावित “दूरी वाले आक्रमणकारियों” की पहचान कर सकते हैं और उस समय का पता लगा सकते हैं, जब अन्य लोगों से दूर रहना कठिन होगा। मदद करने के विचारों के साथ आगे आएं। इसके अलावा, चर्चा करें कि ऐसे दोस्तों को क्या कहें, जिनके पास प्लेडेट्स के लिए समान “नियम” नहीं हो सकते हैं।

 
  1. घर पर सोशल डिस्टेंसिंग

    • परिवार के सदस्यों के बीच भी “व्यक्तिगत स्थान” का सम्मान करें।
    • व्यक्तिगत चीज़ें साझा नहीं करें।
    • बार-बार छुई जाने वाली सतहों को साफ़ रखें। फ़ोन, रिमोट और दरवाजे के हैंडल जैसी चीज़ों पर ध्यान दें।
    • घर में अतिथियों की संख्या सीमित करें। इसमें परिवार के वे सदस्य भी शामिल हैं, जो आपके साथ नहीं रहते हैं।
    • अन्य लोगों के घर नहीं जाएं, खासतौर पर अगर उनकी आयु अधिक है।
    • बच्चों को प्लेडेट्स या स्लीपओवर की अनुमति नहीं दें।
    • घर या बाहर व्यायाम करें।
    • परिवार के किसी सदस्य को बीमारी के लक्षण होने की स्थिति में उपयोग करने के लिए एक “रोगी का कमरा” तैयार करें। 
    • घर में प्रवेश करते ही सभी को अपने हाथों को धोने की आदत डालें।

    अपने घर को तैयार करने के बारे में जानकारी के लिए बीमारी नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) पर और पढ़ें।

  2. कार्यालय में सोशल डिस्टेंसिंग

    • यदि संभव हो तो घर से कार्य करें।
    • वीडियो या फ़ोन कॉन्फ़्रेंसिंग का उपयोग करके दूरस्थ रूप से मिलें।
    • अत्यधिक-ट्रैफ़िक या कैफ़ेटेरिया अथवा ब्रेक रूम जैसे साझा स्थानों से बचें।
    • सुनिश्चित करें कि बार-बार छुए जाने वाले क्षेत्रों को साफ़ रखा जाता है। फ़ोन और कीबोर्ड जैसी अक्सर उपयोग की जाने वाली वस्तुओं का ध्यान रखें।
    • मीटिंग को 10 या कम लोगों तक सीमित करें।
    • लिफ्ट और साझा कार्यालयों में लोगों की संख्या सीमित करें।
    • कार्यस्थलों के लिए राज्य और राष्ट्रीय दिशानिर्देशों का पालन करें।

    व्यवसायों और नियोक्ताओं को किस प्रकार तैयार किया जाना चाहिए, इसके बारे में CDC पर अधिक पढ़ें।

  3. अपने समुदाय में सोशल डिस्टेंसिंग

    • आवश्यक खरीदारी या चिकित्सक से मिलने के समय को छोड़कर जब भी संभव हो घर पर रहें। यदि आपका जाना आवश्यक हो, तो उस समय जाने का प्रयास करें जब भीड़ कम हो।
    • यदि आपको चिकित्सक के पास जाने की आवश्यकता हो तो पहले कॉल करें।
    • किसी ड्राइव-थ्रू फॉर्मेसी का उपयोग करके या मेल द्वारा दवाइयां प्राप्त करें।
    • सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करना सीमित करें।
    • रेस्तरां और अन्य व्यवसायों की ड्राइव-थ्रू, पिक-अप या डिलीवरी सेवाओं का उपयोग करें।
    • पार्क और पैदल रास्तों एवं पगडंडियों पर अन्य लोगों से सुरक्षित दूरी बनाए रखें।
    • साझा खेल के मैदान या खेल उपकरण से बचें।
    • सार्वजनिक बाथरूम या पीने के फव्वारों का उपयोग न करें।

    समुदायों को किस प्रकार तैयार किया जाना चाहिए, इसके बारे में CDC पर अधिक पढ़ें।

जब कोरोनावायरस से ग्रसित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो सांस में पाई जाने वाली बूंदें पास में मौजूद व्यक्ति के मुंह या नाक में जा सकती हैं। एक छींक से सांस की बूंदें 6 फीट तक जा सकती हैं।

जब कोरोनावायरस से ग्रसित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो सांस में पाई जाने वाली बूंदें पास में मौजूद व्यक्ति के मुंह या नाक में जा सकती हैं। एक छींक से सांस की बूंदें 6 फीट तक जा सकती हैं।

कोरोनावायरस कैसे फैलता है?

कोविड-19 (कोरोनावायरस बीमारी 2019) एक बीमारी है जो एक नए प्रकार के कोरोनावायरस के कारण होती है जिसे SARS-CoV-2 कहा जाता है। वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलता है। वर्तमान में ज्ञात जानकारी के आधार पर, ऐसे कई तरीके हैं, जिनसे वायरस फैल सकता है:

  • जब वायरस से ग्रसित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो सांस में पाई जाने वाली बूंदें पास में मौजूद व्यक्ति के मुंह या नाक में जा सकती हैं।
  • हवा में मौजूद बूंदे, जिनमें वायरस होता है, फ़ेफड़ों में जा सकती हैं।
  • वायरस एक व्यक्ति के साथ सीधे संपर्क के माध्यम से फैल सकता है, जैसे हाथ मिलाना।
  • वायरस फैल सकता है जब कोई व्यक्ति वायरस वाली एक सतह को छूता है और फिर अपनी आंखों, नाक या मुंह को छूता है। वायरस कुछ सतहों पर कुछ दिनों तक रह सकता है। हालांकि, इसे वायरस के प्रसार का मुख्य तरीका नहीं माना जाता है।

“वक्र विश्लेषण रेखा को सीधा करना” से क्या तात्पर्य है?

“वक्र विश्लेषण रेखा” का उपयोग यह दिखाने के लिए किया जाता है कि कोविड-19 से एक समय में कितने लोग बीमार हो जाते हैं। कोरोनावायरस जो कोविड-19 का कारण बनता है, दूसरों के साथ निकट संपर्क के माध्यम से आसानी से फैलता है। जब एक ही समय में बहुत सारे लोग बीमार हो जाते हैं, तो चिकित्सकों और अस्पतालों के लिए सभी का इलाज करना मुश्किल हो जाता है।

सोशल डिस्टेंसिंग का लक्ष्य वायरस के प्रसार को धीमा करना या वक्र विश्लेषण रेखा को सीधा करना है। एक समय में कम लोग बीमार होंगे। लोग अभी भी बीमार होंगे, लेकिन इसकी दर धीमी होगी — वक्र विश्लेषण रेखा भी सीधी होगी। इससे चिकित्सकों और अस्पतालों को कोविड-19 से ग्रसित लोगों की देखभाल करने में मदद मिलेगी, खासकर जो बहुत बीमार हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग का लक्ष्य वायरस के प्रसार को धीमा करना या वक्र विश्लेषण रेखा को सीधा करना है। यदि लोग घर पर रहते हैं और एक-दूसरे से संपर्क करने से बचते हैं, तो वायरस इतनी तेजी से नहीं फैलेगा। एक समय में कम लोग बीमार होंगे। लोग अभी भी बीमार होंगे, लेकिन इसकी दर धीमी होगी — वक्र विश्लेषण रेखा भी सीधी होगी।

सोशल डिस्टेंसिंग का लक्ष्य वायरस के प्रसार को धीमा करना या वक्र विश्लेषण रेखा को सीधा करना है। यदि लोग घर पर रहते हैं और एक-दूसरे से संपर्क करने से बचते हैं, तो वायरस इतनी तेजी से नहीं फैलेगा। एक समय में कम लोग बीमार होंगे। लोग अभी भी बीमार होंगे, लेकिन इसकी दर धीमी होगी — वक्र विश्लेषण रेखा भी सीधी होगी।

सोशल डिस्टेंसिंग, क्वारंटाइन और आइसोलेशन – इसमें क्या अंतर है?

कोरोनावायरस के दैरान सोशल डिस्टेंसिंग

सोशल डिस्टेंसिंग से तात्पर्य है कि अपने समुदाय में अपने और अन्य लोगों के बीच निकट संपर्क को सीमित करें, भले ही आप बीमार न हों या आपको कोई जोखिम न हो। यह कोविड-19 के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए एक स्वैच्छिक अभ्यास है।

कोरोनावायरस के दौरान क्वारंटाइन

क्वारंटाइन या सेल्फ-क्वारंटाइन से तात्पर्य है कि घर पर रहें और अन्य लोगों के संपर्क में आने से बचें, क्योंकि संभाव्य संपर्क के कारण आपको कोविड-19 का खतरा है। यदि आप क्वारंटीन में हैं, तो आपको अपने घर में अन्य लोगों को बीमार होने से बचाने के लिए कदम उठाने चाहिए: नियमित रूप से अपने हाथ धोएं, घरेलू सामान साझा न करें, एक अलग बेडरूम में सोएं और एक अलग बाथरूम का उपयोग करें। स्वास्थ्य विभाग या संघीय या राज्य के अधिकारियों द्वारा भी क्वारंटाइन का आदेश दिया जा सकता है।

ऐसा कोई व्यक्ति जो वायरस के संपर्क में आया है, लेकिन उसे कोई लक्षण नहीं हैं, उसे 14 दिनों के लिए सेल्फ-क्वारंटाइन होना चाहिए। कोई लक्षण नहीं होने के 14 दिनों के बाद, आपको कोविड-19 होने का कोई खतरा नहीं है।

कोरोनावायरस के दौरान आइसोलेशन

आइसोलेशन से तात्पर्य यह है कि आपको कोविड-19 हुआ है या आप संदिग्ध रोगी हैं और दूसरों तक वायरस फैलने से बचाने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतने की ज़रूरत है। आइसोलेशन घर पर या अस्पताल में किया जा सकता है। संक्रमित होने के जोखिम को कम करने के लिए देखभालकर्ताओं को सुरक्षात्मक गियर पहनना चाहिए। अगर आपको लक्षण हैं तो क्या करें और बीमार व्यक्ति की देखभाल करने के तरीके के बारे में अधिक जानें।

सोशल डिस्टेंसिंग पर अतिरिक्त संसाधन


समीक्षित: जून 2020